POLITICS

Sri Lanka Crisis: प्रदर्शनकारियों के डर से भागे श्रीलंकाई राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे, घेर लिया गया है आवास

बता दें कि श्रीलंका ने खुद को दिवालिया भी घोषित कर दिया है और आने वाले समय में स्तिथि और ख़राब भी हो सकती है।

श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे के भागने की खबर आ रही है। न्यूज एजेंसी एएफपी ने रक्षा सूत्रों के अनुसार जानकारी दी है कि प्रदर्शनकारियों के डर से श्रीलंका के राष्ट्रपति भाग गए हैं। प्रदर्शनकारियों ने राष्ट्रपति के आवास को भी घेर लिया है। श्रीलंका में बड़े पैमाने पर सरकार विरोधी प्रदर्शन जारी है और प्रदर्शनकारी श्रीलंकाई राष्ट्रपति आवास के मेन गेट तक पहुंच गए हैं।

श्रीलंका स्थित मीडिया हाउस डेली मिरर ने जानकारी देते हुए बताया है कि प्रदर्शनकारी राष्ट्रपति के आवास में घुस गए हैं। हजारों प्रदर्शनकारी पुलिस बैरिकेड्स की परतें लगाकर किले में राष्ट्रपति भवन के मुख्य द्वार पर पहुंच गए हैं और पुलिस को इलाके से हटते देखा गया है। हवा में गोलियां चलने की आवाज सुनी जा रही थी और आंसू गैस के लगातार गोले दागे जा रहे थे।

श्रीलंका के राष्ट्रपति के भागने की खबर तब आई, जब सरकार विरोधी प्रदर्शनों से पहले कर्फ्यू हटाया गया। श्रीलंका के बार एसोसिएशन, मानवाधिकार समूहों और राजनीतिक दलों के लगातार बढ़ते दबाव के बाद पुलिस ने शनिवार को सरकार विरोधी प्रदर्शनों से पहले लगा कर्फ्यू हटा लिया। यह कर्फ्यू सरकार विरोधी प्रदर्शनों को रोकने के लिए लगाया गया था। राजधानी कोलंबो के साथ पश्चिमी प्रांत के सात संभागों में कर्फ्यू लगाया गया था। नेगोंबो, केलानिया, नुगेगोडा, माउंट लाविनिया, उत्तरी कोलंबो, दक्षिण कोलंबो और कोलंबो सेंट्रल में कर्फ्यू लगाया गया था।

महत्वपूर्ण वस्तुओं के आयात के लिए विदेशी मुद्रा समाप्त होने के बाद श्रीलंका को महीनों तक भोजन और ईंधन की कमी, लंबे समय तक ब्लैकआउट और मुद्रास्फीति की दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। बता दें कि शुक्रवार को घोषित कर्फ्यू के बाद भी हजारों सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों ने घर में रहने के आदेश की अवहेलना की और यहां तक ​​कि रेलवे अधिकारियों को शनिवार की रैली के लिए प्रदर्शनकारियों को कोलंबो ले जाने के लिए ट्रेनों का संचालन करने के लिए मजबूर होना पड़ा।

इससे पहले शनिवार को पुलिस ने श्रीलंका के राष्ट्रपति और उनकी पूरी सरकार से इस्तीफा देने की मांग कर रहे प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस के गोले छोड़े थे। हजारों प्रदर्शनकारियों को श्रीलंका के राष्ट्रीय ध्वज के साथ देखा गया था। जबकि कुछ ने ईंधन की तीव्र कमी का विरोध करने के लिए वाहनों पर सवार होकर प्रदर्शन किया।

Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
%d bloggers like this: