POLITICS

3 दिन में बने 2.50 लाख आयुष्मान लाभार्थी कार्ड: 10 लाख से ज्यादा लोगों को मुफ्त सहायता मिली, 17 सितंबर को शुरू हुआ था अभियान

आयुष्मान भारत अभियान के लॉन्च के बाद पिछले तीन दिनों में 2 लाख से अधिक आयुष्मान भारत लाभार्थी कार्ड बनाए गए हैं। स्वास्थ्य केंद्रीय मंत्रालय ने गुरुवार को यह जानकारी दी। इस अभियान की शुरुआत 17 सितंबर को पूरे देश में हुई थी। इस दौरान 10 लाख से ज्यादा लोगों को मुफ्त इलाज मिला और 8 लाख से ज्यादा लोगों को मुफ्त इलाज मिला।

मंत्रालय ने कहा, आयुष्मान भवन अभियान के भागों के रूप में, 17 सितंबर से 30,000 से अधिक आयुष्मान नामांकित किए गए। इस अभियान का मुख्य उद्देश्य जीव जंतुओं को पार करना है हर गांव और बस्ती तक स्वास्थ्य आवश्यकताओं का विस्तार करना है और यह सुनिश्चित करना है कि कोई भी पीछे न छूटे।

घर बैठे आयुष्मान ऐप के जरिए कार्ड बनाएं
आयुष्मान योजना के तीसरे चरण में कार्ड धारकों को आसानी से बनाया गया था। इस बार खुद ही लोगों ने आयुष्मान कार्ड बांड के जरिए ऑनलाइन बुकिंग कराई।

इस बार सेल्फ नामांकन में क्रिएटर्स के पास वेरीफिकेशन के लिए ओटीपी, आइरिस और रिसर्च और फेस-आधारित वेरीफिकेशन के लिए नामांकन दिए गए थे। घर बैठे पद के लिए नियुक्ति संभव हुआ। लोगों ने इसके लिए मोबाइल फोन पर आयुष्मान कार्ड ऐप का इस्तेमाल किया।

योजना के तहत हर साल 5 लाख तक मुफ्त इलाज
इसके लिए आगंतुक का नाम आयुष्मान कार्ड जारी किया जाता है। इस कार्ड की मदद से लाभार्थी योजना के तहत सूचीबद्ध सरकारी और निजी विशेषज्ञ में 5 लाख रुपये तक का मुफ्त में इलाज करवा सकते हैं।

कॉल करके पता करें कि आपके लिए आयुष्मान कार्ड के पात्र हैं या नहीं
इस योजना के लिए कुछ पात्रता निर्धारित की गई है। यह पात्रता रखने वाले लोग आयुष्मान क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई कर शुल्क लेते हैं। आयुष्मान योजना के लिए पात्रता जांच के लिए आप 14555 पर काल कर सकते हैं। इसके अलावा आप pmjay.gov.in साइट के माध्यम से भी आप अपनी पात्रता जांच सकते हैं।

इस योजना में सभी बीमारियाँ शामिल हैं
योजना में पुराने रोग भी कवर होते हैं। किसी भी बीमारी में अस्पताल में भर्ती होने से पहले और बाद के खर्च शामिल होते हैं। भिन्न पर होने वाला खर्च इसमें कवर होता है। इसमें सभी चिकित्सीय जांच, ऑपरेशन, इलाज जैसी दवाएं शामिल हैं। इस योजना के तहत अब तक साढ़े पांच करोड़ से ज्यादा लोग अपना इलाज करा चुके हैं।

Back to top button