POLITICS

24 घंटे में कोरोना के 5335 नए मामले, 13 शनिवार: IIT दारी के वरिष्ठ संत बोले

नई दिल्लीएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

अाैर- आउटब्रेकइंडिया डॉट कॉम

देश में साढे़ 6 महीने बाद कोरोना के नए मामले 5 हजार से ज्यादा आए। बुधवार को 5,335 नए मामले मिले, जबकि 13 लोगों की मौत हुई। इससे पहले 22 सितंबर को 5,383 मामले सामने आए थे। बुधवार को 2,826 लोग इस बीमारी से ठीक भी हुए। वर्तमान देश में 25,587 सक्रिय मामले हैं। ये 9 अक्टूबर के बाद सबसे ज्यादा हैं। तब 25,488 लोगों का इलाज चल रहा था।

IIT दरिसा के वरिष्ठ वैज्ञानिक प्रो. मनींद्र अग्रवाल ने कहा कि देश में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण से डरने की जरूरत नहीं है। यह सामान्य खांसी-जुकाम की तरह रहेगा। अभी बढ़ रहे हैं कोरोना के आंकड़े सिर्फ संख्या में हैं। इतनी बड़ी आबादी में 30 या 40 मामले गंभीर बात नहीं है, लेकिन देश में मई से प्रतिदिन 20 हजार तक मामले आ सकते हैं। पूरी खबर यहां पढ़ें…

गोविंदा को लेकर सेंटर की एक्टिविटी
देश में बढ़ते कोरोना मामलों के बीच बुधवार को सरकार पर इम्पावर्ड ग्रुप वन का कब्जा हो गया। इस मैसेज में मैसेज को लेकर चर्चा की गई। अध्यक्षता डॉ. वीके पॉल ने की। सरकार ने मई 2020 में कोरोना वायरस से निपटने के लिए 6 इम्पावर्ड ग्रुप बनाए थे। इनमें सरकार के 50 से ज्यादा वरिष्ठ अधिकारी शामिल थे। मई 2021 में इन समूहों की संख्या में 10 की वृद्धि की गई थी।

मार्च के अप्रैल में तेजी से बढ़ रहे मामले
कोरोना के दैनिक मामले में सब कुछ तेज हो गया है। वर्तमान अधिसूचना दर 3.32% है। 31 मार्च के दिन कोरोना के 31,902 मामले सामने आए। यह अप्रैल के 5 दिनों में ही 20,273 नए केस मिल गए हैं। ये मार्च के कुल नए मामलों का 63.5% है।

अगर औसत देखें तो मार्च में औसत औसत 1 हजार नए मामले मिले थे, जबकि अप्रैल में औसत औसतन 4 हजार मामले आ रहे हैं। अगर संक्रमण दर यही रही तो अप्रैल में 1.20 लाख नए मामले आने की आशंका है। हालांकि आज किस होश से नए मामले बढ़ रहे हैं, उसके अनुसार अप्रैल के कुल मामले ज्यादा हो सकते हैं।

टॉप-5 राज्यों में दो-तिहाई नए मामले, केरल सबसे आगे
देश में मंगलवार को मिले 5,335 नए मामले सिर्फ 5 राज्यों में से 3,730 मिले हैं। इनमें से केरल सबसे आगे हैं। यहां करीब 2 हजार नए मामले मिले हैं। इसके बाद महाराष्ट्र में 569, दिल्ली में 509, हिमाचल प्रदेश में 389 और गुजरात में 351 मामले सामने आए।

केरल: यहां 1,912 नए मामले मिले, 500 लोग ठीक हुए और 1,404 लोगों का इलाज चल रहा है। मंगलवार को केरल में 1,025 नए मामले दर्ज किए गए। इससे पहले 22 सितंबर को 2300 मामले सामने आए थे।

महाराष्ट्र: यहां बीते दिन 569 नए मामले आए, 485 लोग ठीक हुए जबकि 2 लोगों की मौत हुई। मंगलवार को यहां 711 नए मामले मिले थे। यहां नोटिफिकेशन रेट 6.32% है।

दिल्ली: यहां बुधवार को 509 नए मामले सामने आए, 424 लोग इस बीमारी से ठीक हुए। सक्रिय मामले 1,795 हो गए हैं। यहां नोटिफिकेशन रेट 26.54% है।

हिमाचल प्रदेश: यहां बुधवार को 389 नए मामले सामने आए, जबकि 177 लोग ठीक हुए हैं। वर्तमान राज्य में 212 सक्रिय मामले हैं। यहां फ़ोसिटी रेट 8.22% हो गया है।

गुजरात: यहां 351 नए मामले आए, 1 व्यक्ति की मौत हुई और 395 लोग ठीक हुए। मंगलवार को यहां 324 नए मामले मिले थे। यहां नोटिफिकेशन रेट 1.76% है।

छत्तीसगढ़ में कोरोना के 59 नए मरीज मिले: अब सक्रिय मामले 238
छत्तीसगढ़ में पिछले 24 घंटे में 59 नए मरीज मिले हैं। इसके बाद एक्टिविस्ट्स की संख्या 238 हो गई है। रायपुर में सबसे ज्यादा 64 सक्रिय मामले हैं। जबकि बिलासपुर में 34 और दुर्ग में 32 एक्टिव मरीज हो गए हैं। पूरी खबर यहां पढ़ें…

झारखंड के शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो का निधन; कोरोना के बाद फेसबुक ट्रांसप्लांट हुए थे

झारखंड के शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो का गुरुवार को निधन हो गया। चेन्नई के अस्पताल में इलाज के दौरान उन्होंने आखिरी सांस ली। 2020 में उन्हें कोरोना हुआ था। इंफ़ेक्शन इतना बढ़ गया था कि उनके फ़ेसबुक का ट्रांसप्लांट करना पड़ा था। उसके बाद से वो बीमार चल रहे थे। वे गिरिडीह के डुमरी से विधायक थे। पूरी खबर यहां पढ़ें…

बिहार में 24 घंटे में कोरोना के 21 मामले, अकेले पटना से 18; एक डॉक्टर भी बहाना
बिहार में कोरोना और स्वाइन फ्लू के मामले बढ़ने लगे हैं। बुधवार को कोरोना के 21 नए मरीज मिले हैं। इनमें से 18 पटना के हैं। पीएमसीएच के एक डॉक्टर और मेसीबाग अस्पताल की एक नर्स भी सामने आई है। पूरी खबर यहां पढ़ें…

राजस्थान के 98 प्रतिशत लोगों में कैराना के एंटीबॉडी:7 महीने बाद एक साथ 60 मामले
राज्य में कोविड के बढ़ते मामलों के बीच राहत की खबर है। प्रदेश में करीब दो माह पहले किए गए सीरो सर्वे की रिपोर्ट की रिपोर्ट आई है, जिसमें लोगों में कोरोना से लड़ने वाले एंटीबॉडी का स्तर मिला है। सर्वे की रिपोर्ट देखकर विशेषज्ञ बताते हैं कि इतने सारे एंटीबॉडी एक अच्छा संकेत है। पूरी खबर यहां पढ़ें…

Back to top button