POLITICS

11वीं के 2 छात्रों के गोदाम पर लटके मिले:मोटेबाइक से घने जंगल में डूबे पुलिस; खाने के नवीन-सिगरेट के टोटे मिले

भ्राता2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
मृतक यश गौतम की फाइल फोटो।  - दैनिक भास्कर

मृतक यश गौतम की फाइल फोटो।

हरियाणा के सूरजकुंड रोड पर स्थित सिद्धदाता आश्रम के पीछे घने जंगल में करीब 16 साल 2 छात्रों के शव पेड़ से लटके मिले। उनकी पहचान यश गौतम और युनिवर्सिटी के नाम से मशहूर है। पुलिस ने इन फ़ोनों की जांच करते हुए आधी रात को मौक़े पर छापेमारी की थी। दोनों एक ही पेड़ पर लगे हुए थे। दोनों की मौत के बाद मौत हो गई। उनका सामान आज अस्पताल में पोस्टमॉर्टम में होगा।

दोनों की क्लास एक, स्कूल अलग-अलग

बताया गया है कि यश गौतम 84 बीपीटीपी एलआईटी प्रीमियम सोसाइटी और सेक्टर 31 अपने परिवार के साथ रहते थे। दोनों दोस्त थे और अलग-अलग तरह के स्कूल में पढ़ रहे थे। ​मृतक छात्र यश गौतम के पिता गौतम विकास ने बताया कि उनका बेटा रविवार दोपहर 3 बजे घर से निकला था। कई घंटे तक बात जाने के बाद घर नहीं पहुंचा, तो किसी अनहोनी की चिंता बढ़ गई। उसके लापता होने की सूचना पुलिस को दी।

सिद्धदाता आश्रम के पीछे घने जंगल में मिले शव

पुलिस ने गौतम के फोन पर जानकारी दी तो उसका किशोर सिद्धार्थ आश्रम के पीछे घने जंगलों में आ रहा था। पुलिस को रात 9:00 बजे के करीब मोबाइल चोरी का पता चल गया, लेकिन पुलिस सही सुई तक नहीं पहुंच पाई। रात करीब 12:00 बजे के करीब शोरूम की टीम यश गौतम तक पहुंची। यश के साथ उसका एक और दोस्त युनिवर्सिटी में ही एक पेड़ से लटका हुआ था।

दोनों के सामान को बीके खान सिविल अस्पताल में रखा गया है।

दोनों के सामान को बीके खान सिविल अस्पताल में रखा गया है।

पुलिस की थ्योरी पर परिवार को शक

मृतक यश के पिता विकास गौतम ने बताया कि घटना स्थल पर कैमरा पुलिस के साथ थे, लेकिन पुलिस ने दोनों के सामान को पेड़ से लटकाकर ही मौत की सजा दे दी। जबकि यश गौतम के दोनों दोस्त जमीन से टिके हुए थे और युनाइटेड किंगडम के पैर भी जमीन पर लगे हुए थे। पुलिस ने छापेमारी करते हुए कहा कि कोई भी स्टेडियम टीम नहीं है और वहां से कोई ब्रेकअप नहीं हुआ है। जबकि वहां पर खाने वालों के कई नवीन पद थे। सिगरेट के बाद टुकड़े टुकड़े भी वहाँ मिले।

विध्वंस हत्या का खतरा

विकास ने बताया कि जहां-जहां घने जंगलों में पुलिस को जाने में कई घंटे का संकट पड़ा, वहां-वहां वे बच्चे अपने बच्चे को लेकर पूरे प्रदेश में घूमे। दोनों बच्चों की मौत हो गई तो ऐसा क्या हुआ। एक ही कारण था कि दोनों की मौत हो गई। दोनों अलग-अलग रहते थे और उनका स्कूल भी अलग-अलग था। उन्हें खतरा है कि जंगल में उन दोनों के अलावा कोई और भी था, जिन्होंने उनके साथ खाना खाया और सिगरेट पी ली। फिर दोनों की हत्या कर उनकी मूर्ति को पेड़ से लटकाया गया है।

दोनों पहले परीक्षण थे साथ में

विकास गौतम के अनुसार यश व युनांज पहले एक ही स्कूल में पढ़ते थे। लेकिन जब वह सेक्टर 84 गए तब वहां से उनका बेटा दिल्ली स्कॉलर स्कूल में पढ़ रहा था। अवलोकन वह 11वीं का छात्र था। उन्होंने बताया कि युनाइटेड किंगडम भी 11वें में स्थित था, लेकिन वह सेक्टर 31 में एसएमएस स्कूल में स्थित था। ऐसी क्या वजह रही कि दोनों दोस्तों की एक ही समस्या हो गई और दोनों की मौत हो गई।

पुलिस इसे मृत बता रही है, जबकि उन्हें ऐसा लग रहा है कि किसी ने दोनों की हत्या कर पेड़ के सामान को पेड़ से लटका दिया है। वे चाहते हैं कि पुलिस की गहराई से इस मामले की जांच हो, ताकि दोनों की मौत की असलियत सामने आ सके।

ताज़ातरीन से हैं युराजन का परिवार

युनिवर्सिटी के पिता ने बताया कि वह गुरुग्राम में एक कंपनी में ऑपरेशन डिपार्टमेंट के अधीन हैं। उनके दोनों बेटे भी अब इस दुनिया में नहीं रहे। ब्रिटेन के माता-पिता यहाँ रहने वाले हैं। काफी समय ये सेक्टर 31 सेक्टर 31 में रहते हैं।

Back to top button