POLITICS

हैदराबाद में CWC बैठक का दूसरा दिन: कांग्रेस विजय रैली निकालेगी, तेलंगाना के लिए 5 वारंटियों की घोषणा; संसदीय ध्वजारोहण कार्यक्रम में नहीं जाएंगे खड़गे

  • हिंदी समाचार
  • राष्ट्रीय
  • तेलंगाना में कांग्रेस कार्य समिति की बैठक के दूसरे दिन के अपडेट मल्लिकार्जुन खड़गे, राहुल गांधी

राज13 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
शनिवार को कांग्रेस की नई पार्टी हुई कार्यशाला समिति की बैठक का पहला दिन था। इस बैठक की तस्वीरें। - दैनिक भास्कर

शनिवार को कांग्रेस की नई पार्टी हुई कार्यशाला समिति की बैठक का पहला दिन था। इस बैठक की तस्वीरें।

कांग्रेस की नई बनी कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की आज दूसरे दिन हैदराबाद में चल रही बैठक है। आज पार्टी ने यहां विजय रैली निकाली और तेलंगाना के लिए 5 वारंटियों की घोषणा की। शनिवार की बैठक में पेश किए गए प्रस्ताव में कहा गया है कि केंद्र सरकार राजनीतिक, आर्थिक और राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दों पर पूरी तरह से विफल रही है। दावा किया गया कि बीजेपी इसमें संवैधानिक और संघीय संवैधानिक को चुनौती देती है।

वहीं, कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने वजाही वजाहिदीन मोदी को पत्र लिखकर बताया है कि वे रविवार 17 सितंबर को नई संसद में ध्वजारोहण कार्यक्रम में शामिल नहीं होंगे। उन्होंने कहा कि वे कार्य समिति की दो दिनी बैठक के लिए हैदराबाद आये हैं। उन्हें संसद के कार्यक्रम का इनवेइट 15 सितंबर की शाम को मिला था, जबकि यह बैठक काफी दिन पहले तय हुई थी। इसलिए इतने कम समय में वे नहीं आएँगे।

पहले दिन की बैठक में देश के राजनीतिक हालातों पर चर्चा हुई
कांग्रेस नई कार्यसमिति का गठन पिछले महीने हुआ था। उसके बाद इस समिति की पहली बैठक हुई। शनिवार की बैठक के बारे में मीडिया को जानकारी देते हुए कांग्रेस नेता पी.ओ.डी.ओ. और राकेश राकेश ने कहा कि सीडब्ल्यूसी के कई सदस्यों ने देश की राजनीतिक स्थिति पर बात की है। विचार-विमर्श अभी भी चल रहा है और सीडब्ल्यूसी जल्द ही एक प्रस्ताव लेकर आएगी।

राक्षस ने कहा, सीडब्ल्यूसी में हम देश की राजनीतिक स्थिति, देश के सामने आने वाले आर्थिक संकट और देश के लिए गंभीर चुनौती बने सुरक्षा ढांचे (आंतरिक और बाहरी दोनों) पर चर्चा कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि कम्युनिस्ट, जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा संकेत हैं।

सीमा पर चीन की चुनौती
ड्रोन ने कहा कि हमारी बात चीन की चुनौती है। विभिन्न गुटों में कई बार बातचीत के बावजूद चीनी विरोध में तारीखें दी गईं। राक्षस ने आरोप लगाया कि हम इलाका खो रहे हैं, और चीनी अपने इलाके को बना रहे हैं या उस पर कब्ज़ा कर रहे हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 19 जून को बयान दिया था कि कोई भी भारतीय क्षेत्र में नहीं जाएगा। इस बयान में कहा गया, माइक्रोवेव ने कहा, मोदी के आरोप में चीन एक इंच भी पीछे नहीं है, उद्योग की जिद्दी स्थिति बरकरार रखने के लिए उकसाया गया है।

राष्ट्रीय ध्वज फहराने से पहले कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक शुरू हो गई। इस दौरान खड़गे और सोनिया गांधी मौजूद रहीं।

राष्ट्रीय ध्वज फहराने से पहले कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक शुरू हो गई। इस दौरान खड़गे और सोनिया गांधी मौजूद रहीं।

खड़गे बोले- मोदी पूरी तरह फेल

इसके पहले कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा था कि मोदी सरकार बेरोजगारी, बेरोजगारी, बेरोजगारी और गरीबी के मुद्दे पर पूरी तरह से झूठ बोल रही है। खड़गे ने यह भी कहा कि जिस तरह से नेशनल इंडियन इनक्लूसिव अलायंस (इंडिया) को डॉक्युमेंट मिल रही है, बीजेपी सरकार ऑर्किडिज्म अरेंजमेंट पर कार्रवाई करने में लगी है। हम संसद में नामांकन की आवाज की निंदा करते हैं।

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि हाल ही में हुई ऐतिहासिक घटनाओं से भारत की आधुनिक, प्रगतिशील और धर्मनिरपेक्ष छवि को धक्का लगा है। बीजेपी आग में घी का काम कर रही है। दो दिनों तक चलने वाली इस बैठक के दौरान पांच राज्यों में होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर कई चरणों में चर्चा होगी।

इस बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे, कांग्रेस संसदीय दल की अध्यक्ष सोनिया गांधी, कांग्रेस सांसद राहुल गांधी, वीरेंद्र गांधी, राजस्थान के सीएम अशोक अकोहरे, छत्तीसगढ़ के सीएम बलिया समेत कई नेता शामिल हैं।

सीडब्ल्यूसी की बैठक से पहले सोनिया गांधी ने ट्वीट कर लिखा- कांग्रेस हमेशा तेलंगाना की जनता के लिए डंका बजा रही है। अब राज्य को युवाओं के एक नए दौर में ले जाने का समय है। कांग्रेस वर्किंग कमेटी, तेलंगाना और देश के विकास का नया अध्याय तैयार है।

तेलंगाना में बीरेलवे और कांग्रेस के बीच पोस्ट वार
तेलंगाना में कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक को लेकर आर्किटेक्चर बी रिजर्व और कांग्रेस के बीच पोस्टर वार को देखने को मिला। हैदराबाद में सीएम के चन्द्रशेखर राव की तस्वीरों के साथ ‘बुक मॉय सीएम’ और ’30 प्रतिशत कमीशन’ नारे लिखे गए पोस्ट लगाए गए हैं।

कई जगह कांग्रेस के भी खिलाफ़ पोस्ट-बैनर लगे हुए हैं। एक पोस्टर में लिखा है- 2004 से 2014 तक सत्य में रहते हुए कांग्रेस ने कास्ट कैटिगरी के नाम पर एज़लिस्ट को शामिल किया था। कांग्रेस एक बार फिर गारंटी के नाम पर ऐसा जानना चाहती है।

हैदराबाद में सीएम के चन्द्रशेखर राव की तस्वीरों के साथ 'बुक मा सीएम' और '30 प्रतिशत कमीशन' नारे लिखे हुए हैं।

हैदराबाद में सीएम के चन्द्रशेखर राव की तस्वीरों के साथ ‘बुक मा सीएम’ और ’30 प्रतिशत कमीशन’ नारे लिखे हुए हैं।

रेजिडेंस में शनिवार को कांग्रेस के खिलाफ पोस्टर लगाए गए।

रेजिडेंस में शनिवार को कांग्रेस के खिलाफ पोस्टर लगाए गए।

कांग्रेस वर्कशॉप कमेटी की बैठक… क्या कहा

  • कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्ज खुंडगे- कांग्रेस ने हमारे महान देश में लोकतंत्र, सामाजिक न्याय, मजदूर और बच्चों की लड़ाई लड़ी है। हम देश की अखंडता के लिए बैटल ड्रैगन्स हैं।
  • कांग्रेस नेता केसी वेणुगोपाल – यह पहली बार है कि जब कई साल बाद दिल्ली के बाहर सीडब्ल्यूसी की बैठक हो रही है। जैसे ही बना तेलंगाना राज्य, लोग जानते हैं कि भारतीय राष्ट्रीय समिति (बीआरएस) कैसे सत्ता में है। तेलंगाना सरकार देश का सबसे बेकार राज्य है। यहां के लोग सरकार से परेशान हो गए हैं। हम तेलंगना के लोगों को 6 सचिवालय देंगे। उम्मीद है कि यहां चुनाव में कांग्रेस को बहुमत मिलेगा।
  • न्यूयार्क कांग्रेस आनंद शर्मा- भारत की राजनीति में कांग्रेस की सबसे बड़ी भूमिका है। वर्कशॉप कमेटी की बैठक में हमारे लिए देश की स्थिर स्थिरता पर चर्चा करना और अगली लड़ाई के लिए तैयारी करने का अवसर है।
  • हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री सुख विपक्ष सिंह सुक्खू-तेलंगाना को राज्य कांग्रेस ने समर्थन दिया है। यहां नई सीडब्ल्यूसी की बैठक का मतलब यह है कि यह राज्य हमारे लिए महत्वपूर्ण है।
  • नेता कांग्रेस सलमान खुर्शीद-तेलंगाना हमारी पुरानी जमीन है। इस धरती से कांग्रेस को हमेशा शक्ति मिली है। आज हम वह जमीनें वापस ले चुके हैं। हमसे आशा है कि हम वहां से शक्ति प्राप्त करेंगे।

बैठक के दूसरे दिन कांग्रेस प्रेस कॉन्फ्रेंस कार्यालय

शनिवार दोपहर में सोनिया, राहुल और प्रियं...

शनिवार दोपहर में सोनिया, राहुल और प्रियं…

सीडब्ल्यूसी की बैठक के दूसरे दिन रविवार 17 सितंबर को कांग्रेस एक प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित करेगी। 17 सितम्बर को तेलंगाना दिवस भी होता है। डेमोक्रेट लेकर कांग्रेस ने कहा कि मोदी और तेलंगाना सरकार दोनों एक-दूसरे के दो समर्थक हैं। दोनों ही बेकार हैं।

पिछले महीने 20 अगस्त को मल्लिकार्जुन खड़गे ने सीडब्ल्यूसी की शुरुआत की थी। इसके बाद ये पहली बैठक है। इसी वर्ष के अंत में मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान, तेलंगाना और मिजोरम में विधानसभा चुनाव हुए।

मध्य प्रदेश में भाजपा, छत्तीसगढ़-राजस्थान में कांग्रेस, तेलंगाना में बीआरके और मिजोरम में मिजो नेशनल फ्रंट-भाजपा की सरकार है।

ये है नई सीडब्ल्यूसी

20 अगस्त को सीडब्ल्यूसी का समापन हुआ था
कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्ज खुंडगे ने 20 अगस्त को कांग्रेस वर्किंग कमेटी (सीडब्ल्यूसी) की समाप्ति की थी। 39 सदस्यों की इस समिति में सोनिया, राहुल, प्रियंका शामिल हैं। वहीं, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह (90) को भी समिति में नियुक्त किया गया है।

सीडब्ल्यूसी में मध्य प्रदेश से यूक्रेन सिंह और कमलेश्वर पटेल, छत्तीसगढ़ से ताम्रध्वज साहू और राजस्थान से सचिन पायलट को जगह मिली है। तीन राज्यों में इसी साल आखिरी बार चुनाव हो रहे हैं। खड़गे ने अपने खिलाफ चुनाव लड़ने वाले शशि थरूर को भी वर्किंग कमेटी में शामिल किया है। CWC में कुल 84 नाम हैं। इनमें सीडब्ल्यूसी सदस्य, स्थायी आमंत्रित, महासचिव, विशेष नियुक्त और नियुक्तियों के नाम हैं।

भोपाल में भारतीय गठबंधन की अक्टूबर में होने वाली रैली रद्द
कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक के बीच मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम यूनेस्को ने भोपाल में भारत गठबंधन की अक्टूबर के पहले सप्ताह में होने वाली रैली रद्द होने की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि यह रैली कैंसिल हो गई है।

रविवार 13 सितंबर को भारत गठबंधन की समन्वय समिति की बैठक में देश-प्रदेश, राज्यों, दिल्ली में रैलियां करने का निर्णय लिया गया।

पवन एग्रीमेंट ने 14 टीवी एंकर्स के बायकोट पर सफाई दी

कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक से पहले कांग्रेस नेता पवन एसोसिएट ने इंडिया अलायंस द्वारा 14 टीवी एंकर्स को बायकॉट करने के फैसले पर सफाई दी। उन्होंने कहा- हमने किसी को भी बैन, बायकोट या ब्लैकलिस्ट नहीं किया है। आप इसे असहयोग आंदोलन कह सकते हैं।

कांग्रेस पूरी खबर यहां पढ़ें…

आप भी पढ़ सकते हैं ये खबर…

ब्रसेल्स में राहुल बोले- भारत में गांधी-गोडसे विजन की लड़ाई:मोदी इंडिया गठबंधन से सरकार देश का नाम बदलना चाहते हैं

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने 8 सितंबर को ब्रसेल्स के प्रेस क्लब में कहा था- भारत में यह वक्ता महात्मा गांधी और नाथूराम गोडसे के बीच की लड़ाई है। लोकतंत्र और संस्थान पर हमला हुआ है। हिंसा-भेदभाव बढ़ता है। अल्पसंख्यक, दलित, जनजाति और अल्पसंख्यकों पर हमला किया जा रहा है। भारत अलायंस को लेकर सरकार चिंतित है। हम भारत की आवाज हैं। इसे लेकर प्रधानमंत्री डरे हुए थे इसलिए वो देश का नाम बदलना चाहते हैं। पूरी खबर पढ़ें…

Back to top button