POLITICS

हमारे पास हमास के मिलिट्री एक्शन के लिए ग़ाज़ा अस्पताल का इस्तेमाल करने के सबूत : अमेरिका 

हमारे पास हमास के मिलिट्री एक्शन के लिए ग़ाज़ा अस्पताल का इस्तेमाल करने के सबूत : अमेरिका 

माना जाता है कि 235 से अधिक लोग अभी भी गाजा में इस्लामी समूह के कब्जे में हैं. (फाइल फोटो)

वाशिंगटन:

व्हाइट हाउस ने मंगलवार को कहा कि उसकी इंडिपेंडेंट इंटेलिजेंस एजेंसी ने इजराइल के इस दावे का समर्थन किया है कि हमास कमांड पोस्टों और बंधकों को छिपाने के लिए गाजा के अस्पतालों का इस्तेमाल कर रहा है, जिसमें उसके सबसे बड़े अस्पताल भी शामिल हैं. हालांकि, बंधकों की रिहाई पर अब सकारात्मक बातचीत हो रही है. 

यह भी पढ़ें

रॉयटर्स के अनुसार राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा कि वो 7 अक्टूबर को इज़रायल में सीमा पार से हुए हमले में हमास द्वारा बनाए गए बंधकों की रिहाई सुनिश्चित करने के लिए बातचीत में शामिल पक्षों के साथ रोजाना चर्चा कर रहे है. माना जाता है कि 235 से अधिक लोग अभी भी ग़ाज़ा में इस्लामी समूह के कब्जे में हैं. 

जब व्हाइट हाउस में पत्रकारों ने उनसे पूछा कि बंधकों के परिवार के सदस्यों को उनका संदेश क्या है, तो उन्होंने कहा: “वहीं रुकें, हम आ रहे हैं.” एबीसी न्यूज ने बताया कि बंधक को छुड़ाने के सौदे पर प्रगति हुई है. एक वरिष्ठ इजरायली राजनीतिक सूत्र के हवाले से कहा गया है कि अगले 48 से 72 घंटों में इस ओर सफलता मिल सकती है.

व्हाइट हाउस के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने राष्ट्रपति के विमान, एयर फ़ोर्स वन में संवाददाताओं से कहा कि खुफिया जानकारी से पुष्टि हुई है कि ग़ाज़ा पर शासन करने वाले हमास समूह ने सैन्य अभियानों को अंजाम देने और बंधकों को रखने के लिए अल-शिफा और अन्य अस्पतालों के नीचे सुरंगों का इस्तेमाल किया है. 

गौरतलब है कि इज़रायल ने भी यही दावा किया है, जिसे हमास नकारता है. किर्बी ने कहा, “हमारे पास ऐसी जानकारी है जो पुष्टि करती है कि हमास उस विशेष अस्पताल का उपयोग कमांड और कंट्रोल नोड के लिए और संभवतः हथियार भंडारण के लिए कर रहा है. यह एक युद्ध अपराध है.”

आतंकवादियों के सीमा पार हमले के जवाब में हमास को नष्ट करने की इज़रायल की शपथ के पांच सप्ताह बाद, अल-शिफा की स्थिति अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चिंता का विषय बन गया है, जिसमें इज़रायल के सबसे करीबी सहयोगी, संयुक्त राज्य अमेरिका भी शामिल है. 

इजरायली सेना ने पिछले 10 दिनों में हमास के लड़ाकों के खिलाफ सड़क पर भीषण लड़ाई छेड़ी है, ग़ाज़ा शहर के केंद्र में आगे बढ़ी है और समुद्र तटीय इलाके के सबसे बड़े अस्पताल अल-शिफा को घेर लिया है. 

किर्बी ने कहा कि अमेरिकी खुफिया जानकारी विभिन्न तरीकों से आई है लेकिन वह सबूतों के बारे में विशिष्ट नहीं बता सकते. 

हालांकि, हमास ने टेलीग्राम पर कहा कि उसने अस्पतालों के उपयोग के बारे में अमेरिकी दावों को खारिज कर दिया और कहा कि वे “अस्पतालों को निशाना बनाकर और अधिक क्रूर नरसंहार करने के लिए इज़रायली कब्जे को हरी झंडी देते हैं.”

यह भी पढ़ें – 
आर्थिक संकट से जूझ रहे पाकिस्तान ने यूक्रेन को बेचे करोड़ों अमेरिकी डॉलर के हथियार: रिपोर्ट में दावा
भारत-ब्रिटेन FTA पर दोनों देशों के लाभदायक सहमति पर पहुंचने की उम्मीद : विदेश मंत्री एस जयशंकर

Back to top button