POLITICS

शरद पवार गुट के 10 विधायकों को अयोग्य घोषित करें:महाराष्ट्र में NCP के अजित गुट ने विधानसभा स्पीकर को अर्जी दी

मुंबई8 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
2 जुलाई को अजित पवार NCP के आठ विधायकों को लेकर भाजपा-शिवसेना (शिंदे गुट) के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र सरकार में शामिल हो गए थे। - Dainik Bhaskar

2 जुलाई को अजित पवार NCP के आठ विधायकों को लेकर भाजपा-शिवसेना (शिंदे गुट) के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र सरकार में शामिल हो गए थे।

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के अजित पवार गुट ने महाराष्ट्र विधानसभा अध्यक्ष राहुल नार्वेकर को एक एप्लीकेशन दी है। इसमें शरद पवार से जुड़े 10 विधायकों को अयोग्य घोषित करने की मांग की गई है।

एप्लीकेशन गुरुवार को अनिल भाईदास पाटिल ने दायर की थी, जो अजित पवार गुट के चीफ व्हीप (मुख्य सचेतक) हैं।

एप्लीकेशन में इन 10 विधायकों के नाम हैं- जयंत पाटिल, जीतेंद्र आव्हाड, राजेश टोपे, रोहित पवार, अनिल देशमुख, प्राजक्ता तनपुरे, बालासाहेब पाटिल, सुनील भुसारा, संदीप क्षीरसागर और सुमन पाटिल। इसके अलावा विधान परिषद के सदस्य एकनाथ खड़से, शशिकांत शिंदे, अरुण लाड के नाम भी हैं। शरद पवार गुट ने पहले ही अजित पवार गुट के 40 विधायकों के खिलाफ अयोग्यता याचिका दायर कर रखी है। 288 सदस्यीय महाराष्ट्र विधानसभा में NCP के 53 विधायक हैं। इनमें नवाब मलिक और सुमन पाटिल जैसे विधायक दोनों गुटों के ही साथ नहीं हैं।

पार्टी के नाम सिंबल पर जारी है विवाद

नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी (NCP) के नाम और सिंबल को लेकर भी दोनों गुटों में विवाद चल रहा है।

शरद गुट के NCP प्रदेश अध्यक्ष जयंत पाटिल ने मंगलवार 19 सितंबर को कहा कि चुनाव आयोग की तरफ से हमारे केस को विवाद की तरह देखना गलत है। उन्होंने आयोग पर शरद को समय ना देने का भी आरोप लगाया।

महाराष्ट्र कैबिनेट में मंत्री और अजीत गुट के सीनियर नेता छगन भुजबल ने दावा किया है कि पार्टी में कुछ बदलाव हुए हैं, जैसे राष्ट्रीय अध्यक्ष का बदलाव। अब अजित पवार पार्टी के अध्यक्ष हैं और हमने चुनाव आयोग को इस बारे में सूचित कर दिया है।

अजित पवार के साथ छगन भुजबल भी NCP तोड़कर शिंदे-BJP सरकार में शामिल हुए थे।

अजित पवार के साथ छगन भुजबल भी NCP तोड़कर शिंदे-BJP सरकार में शामिल हुए थे।

जयंत पाटिल बोले- पार्टी में शरद का कभी विरोध नहीं हुआ
जयंत पाटिल ने बताया कि शरद पवार ने अपना पक्ष स्पष्ट करने के लिए चुनाव आयोग से समय मांगा था, क्योंकि अजित की तरफ से कुछ ई-मेल भेजे गए थे। चुनाव आयोग ने शरद को समय दिए बिना सोच लिया कि पार्टी में विवाद है।

शरद गुट के NCP प्रदेश अध्यक्ष ने कहा- शरद ने अपने जवाब में चुनाव आयोग को बताया था कि पार्टी में कभी उन्हें विरोध का सामना नहीं करना पड़ा। ना ही पार्टी की ओर से किसी भी सार्वजनिक मंच पर हमारी नीतियों का कोई विरोध हुआ।

NCP के 8 विधायकों के साथ अजित NDA में शामिल हुए थे, डिप्टी सीएम की शपथ ली

राजभवन में डिप्टी CM पद की शपथ लेने के बाद अजित पवार।

राजभवन में डिप्टी CM पद की शपथ लेने के बाद अजित पवार।

अजित 2 जुलाई को NCP के आठ विधायकों के साथ भाजपा-शिवसेना (एकनाथ शिंदे) के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र सरकार में शामिल हो गए थे। इसी दिन शिंदे सरकार में अजित ने उपमुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली।

शरद से अलगाव के बाद अजित ने दावा किया कि NCP का बहुमत उनके पास है। इसलिए पार्टी के नाम और चुनाव चिन्ह पर उन्हें अधिकार मिलना चाहिए। उन्होंने शरद पवार को NCP के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से हटाने का ऐलान किया था।

चुनाव आयोग ने दोनों गुटों को व्यक्तिगत सुनवाई के लिए बुलाया
दूसरी तरफ शरद पवार ने पार्टी छोड़कर जाने वाले 9 मंत्रियों समेत 31 विधायकों को अयोग्य घोषित करने की मांग की है। उन्होंने कहा कि अजित पवार का NCP का अध्यक्ष बनना और पार्टी के नाम और चुनाव चिन्ह घड़ी का इस्तेमाल करना गैर कानूनी है।

दोनों गुटों ने पार्टी के नाम और सिंबल पर दावेदारी के पक्ष में चुनाव आयोग को कागजात सौंपे हैं। आयोग ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के अजित पवार और शरद पवार गुटों को 6 अक्टूबर को व्यक्तिगत सुनवाई के लिए बुलाया है।

ये खबर भी पढ़ें…

सुप्रिया सुले बोलीं- हमें चुनाव आयोग से न्याय की उम्मीद:NCP के नाम-सिंबल पर दोनों का दावा

NCP चीफ शरद पवार की बेटी और लोकसभा सांसद सुप्रिया सुले ने शनिवार, 9 सितंबर को कहा कि हमें चुनाव आयोग से न्याय की उम्मीद है। हमसे जो भी पूछा गया था, हमनें उसका ईमानदारी से जवाब दिया है। एक दिन पहले शरद पवार ने अजित पवार की याचिका पर चुनाव आयोग के नोटिस का जवाब भेजा था। इसमें उन्होंने बताया कि वे NCP के अध्यक्ष हैं और जयंत पाटिल प्रदेश अध्यक्ष हैं, जो उनके साथ हैं। पूरी खबर यहां पढ़ें…

शरद बोले-अजित हमारे नेता, NCP में टूट नहीं, फिर बदले

नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी (NCP) चीफ शरद पवार ने 25 अगस्त को बारामती में कहा था कि अजित पवार उनकी पार्टी के नेता हैं। NCP में कोई टूट नहीं हुई है। उन्होंने कहा, ‘कोई पार्टी तब टूटती है, जब पार्टी का एक बड़ा ग्रुप राष्ट्रीय स्तर पर अलग होता है। NCP में ऐसा कुछ नहीं हुआ।’ कुछ घंटों बाद शरद अपनी बात से पलट गए और कहा- उन्होंने ऐसा कुछ नहीं कहा। पूरी खबर यहां पढ़ें…

नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी (NCP) चीफ शरद पवार ने शुक्रवार को बारामती में कहा है कि अजित पवार उनकी पार्टी के नेता हैं। NCP में कोई टूट नहीं हुई है। उन्होंने कहा, ‘कोई पार्टी तब टूटती है, जब पार्टी का एक बड़ा ग्रुप राष्ट्रीय स्तर पर अलग होता है। NCP में ऐसा कुछ नहीं हुआ।’

शरद पवार ने कहा, ‘कुछ लोग पार्टी छोड़कर गए। कुछ नेताओं ने अलग राजनीतिक स्टैंड लिया। लोकतंत्र में उन्हें इसका अधिकार है। इसे फूट नहीं कह सकते। अजित हमारी पार्टी के नेता हैं। इसमें कोई संदेह नहीं है।’ यह बयान ऐसे वक्त में आया है जब विपक्षी गठबंधन I.N.D.I.A की तीसरी बैठक 31 अगस्त और 1 सितंबर को मुंबई में होने जा रही है।

कुछ घंटों बाद शरद ने सतारा में कहा- उन्होंने ऐसा कुछ नहीं कहा।

एक दिन पहले, सुप्रिया सुले ने भी अजित को सीनियर लीडर कहा था
24 अगस्त को शरद की बेटी और लोकसभा सांसद सुप्रिया सुले ने कहा था कि अजित पवार NCP के सीनियर लीडर और विधायक हैं। सुप्रिया ने कहा, ‘अजित ने पार्टी के खिलाफ स्टैंड लिया है। हमने विधानसभा अध्यक्ष को शिकायत दी है और उनकी प्रतिक्रिया का इंतजार कर रहे हैं।’

सतारा में बोले- जिन्होंने अलग रुख अपनाया है वे हमारे नेता नहीं हो सकते

शरद ने सतारा में कहा कि कहा- मैं यह नहीं कह रहा कि वह हमारे नेता हैं। सुप्रिया (सुले) का ऐसा कहना ठीक है। वह उनकी (अजित पवार की) छोटी बहन हैं। उन्होंने कहा, इसका राजनीतिक मतलब निकालने की जरूरत नहीं है।

इस सवाल पर कि क्या वह सुप्रिया के विचारों का समर्थन करते हैं, पवार ने कहा, आप गलत हैं। जिन्होंने अलग रुख अपनाया है वे हमारे नेता नहीं हो सकते। खुद को सुधारने का मौका एक बार दिया जाता है। मौका दोबारा नहीं दिया जा सकता। दोबारा इसकी मांग नहीं करनी चाहिए।

NCP के 8 विधायकों के साथ अजित NDA में शामिल हुए थे, डिप्टी सीएम की शपथ ली
अजित 2 जुलाई को NCP के आठ विधायकों के साथ भाजपा-शिवसेना (एकनाथ शिंदे) के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र सरकार में शामिल हो गए थे। इसी दिन शिंदे सरकार में अजित ने उपमुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली।

राजभवन में डिप्टी CM पद की शपथ लेने के बाद अजित पवार।

राजभवन में डिप्टी CM पद की शपथ लेने के बाद अजित पवार।

अलगाव के बाद शरद-अजित के बीच 4 बार मुलाकात हुई

  • 14 जुलाई: महाराष्ट्र के डिप्टी CM अजित पवार ने NCP प्रमुख शरद पवार से उनके घर पर मुलाकात की थी। मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया कि अजित अपनी चाची प्रतिभा पवार (शरद पवार की पत्नी) से मिलने गए थे, जिन्हें एक सर्जरी के बाद 14 जुलाई को अस्पताल से छुट्टी मिली थी।
  • 16 जुलाई: अजित पवार विधायकों के साथ शरद पवार से मिले थे। तब प्रफुल्ल पटेल ने कहा था कि हमने पैर पकड़कर शरद पवार जी का आशीर्वाद लिया। हमने उनसे NCP में एकजुटता और मजबूती को लेकर अपनी बातें रखीं।
  • 17 जुलाई: लगातार दूसरे दिन अजित पवार अपने चाचा शरद पवार से मिलने मुंबई के NCP ऑफिस वाईबी चव्हाण सेंटर पहुंचे। उनके साथ उनके गुट के NCP विधायक भी थे। मुलाकात के बाद प्रफुल्ल पटेल ने कहा- कल मानसून सत्र शुरू होने से पहले हमने उनसे आशीर्वाद लिया था। आज सत्र शुरू होने पर हमने दोबारा पवार साहब का आशीर्वाद लिया।
  • 12 अगस्त: आखिरी बार शरद-अजित की मुलाकात 12 अगस्त को हुई थी। पुणे में कोरेगांव पार्क इलाके के लेन नंबर 3 स्थित बिजनेसमैन अतुल चोरडिया के बंगले पर दोनों के बीच सीक्रेट मीटिंग हुई थी।

भाजपा ने कहा- 2024 से पहले शरद पवार का मन परिवर्तन होगा

वहीं, शरद पवार और सुप्रिया सुले के बयान पर भाजपा ने कहा कि 2024 से पहले शरद पवार का हृदय परिवर्तन होगा। महाराष्ट्र भाजपा प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत बावनकुले ने कहा, ‘आगामी लोकसभा चुनाव से पहले शरद पवार का मन परिवर्तन होगा और वह मोदी जी के विकास के साथ आएंगे।

सीक्रेट मीटिंग पर महाराष्ट्र कांग्रेस बोली थी- शरद को BJP से मंत्रीपद का ऑफर मिला

मुंबई में 16 अगस्त को महाराष्ट्र कांग्रेस की कोर कमेटी की बैठक हुई।

मुंबई में 16 अगस्त को महाराष्ट्र कांग्रेस की कोर कमेटी की बैठक हुई।

अजीत और शरद पवार की सीक्रेट मीटिंग पर कांग्रेस नेता पृथ्वीराज चव्हाण ने दावा किया था कि BJP से शरद पवार को कैबिनेट मंत्री पद का ऑफर मिला है। उन्होंने कहा कि यही ऑफर देने के लिए अजित और शरद के बीच बैठकें हो रही हैं। पूरी खबर यहां पढ़ें…

महाराष्ट्र की राजनीति से जुड़ी ये खबरें भी पढ़ें…

पुणे में एक मंच पर PM मोदी और शरद पवार;​ अजित पवार भी नजर आए​​​​​​ थे

PM मोदी ने मंच पर शरद पवार से मुलाकात की। इस दौरान दोनों हंसते नजर आए।

PM मोदी ने मंच पर शरद पवार से मुलाकात की। इस दौरान दोनों हंसते नजर आए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 1 अगस्त को पुणे दौरे पर पहुंचे। वहां एसपी कॉलेज मैदान में उन्हें तिलक स्मारक मंदिर ट्रस्ट की ओर से लोकमान्य तिलक राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में NCP चीफ शरद पवार बतौर चीफ गेस्ट मौजूद रहे। मंच पर PM मोदी के एक तरफ शरद पवार, तो दूसरी तरफ उनके भतीजे अजित पवार बैठे नजर आए। पूरी खबर यहां पढ़ें…

शरद पवार बोले- शुभचिंतक मनाने की कोशिश कर रहे थे: लेकिन हमारी पार्टी BJP के साथ कभी नहीं जाएगी

सूत्रों के मुताबिक, बिजनेसमैन अतुल चोरडिया के बंगले से निकली इस गाड़ी में अजित पवार मौजूद थे।

सूत्रों के मुताबिक, बिजनेसमैन अतुल चोरडिया के बंगले से निकली इस गाड़ी में अजित पवार मौजूद थे।

पुणे में अजित के साथ सीक्रेट मीटिंग को लेकर NCP चीफ शरद पवार ने कहा कि कुछ शुभचिंतक मुझे मनाने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन हमारी पार्टी कभी भाजपा के साथ नहीं जाएगी। उन्होंने कहा कि BJP के साथ कोई भी जुड़ाव NCP की पॉलिसी में फिट नहीं बैठता है। पूरी खबर यहां पढ़ें…

Back to top button