POLITICS

राजौरी में सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़:एक आतंकी मारा गया, दो

राजौरी में सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़:एक आतंकी मारा गया, दो- तीन के छिपे होने की आशंका; ऑपरेशन जारी

श्रीनगर2 महीने पहले

  • कॉपी लिंक
पुलिस ने इलाके की घेराबंदी कर दी है और आम लोगों की आवाजाही और डसाल से आगे वाहनों की आवाजाही पर रोक लगा दी है। - Dainik Bhaskar

पुलिस ने इलाके की घेराबंदी कर दी है और आम लोगों की आवाजाही और डसाल से आगे वाहनों की आवाजाही पर रोक लगा दी है।

जम्मू-कश्मीर के राजौरी जिले में शुक्रवार सुबह सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच हुई मुठभेड़ में एक आतंकी मारा गया। डसाल इलाके में आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिलने के बाद सुरक्षाबलों ने घेराबंदी कर तलाशी अभियान शुरू किया था।

फिलहाल फायरिंग बंद हो गई है, लेकिन सर्च ऑपरेशन जारी है। पुलिस ने इलाके की घेराबंदी कर दी है और आम लोगों की आवाजाही और डसाल से आगे वाहनों की आवाजाही पर रोक लगा दी है।

एक पाकिस्तानी घुसपैठिया मारा गया था
इससे पहले गुरुवार को सांबा सेक्टर में सीमा पर BSF के जवानों ने एक पाकिस्तानी घुसपैठिए को मार गिराया था। सुरक्षा बलों ने जम्मू-कश्मीर के बारामूला जिले में लश्कर-ए-तैयबा (LeT) के दो आतंकवादियों को भी गिरफ्तार किया और उनके कब्जे से हथियार और गोला-बारूद बरामद किया।

दो चाइनीज पिस्टल और मैगजीन बरामद
दोनों की तलाशी के दौरान दो चाइनीज पिस्टल, दो मैगजीन और पिस्टल के 15 राउंड बरामद किए गए। उन्हें तुरंत हिरासत में ले लिया गया। गिरफ्तार किए गए आरोपियों की पहचान लश्कर के आतंकवादी सहयोगियों, फ्रेस्टिहार क्रीरी के सुहैल गुलजार और हुडीपोरा रफियाबाद के वसीम अहमद पाटा के रूप में हुई थी।

पुंछ में LoC के पास 3 घुसपैठिए पकड़े:प्रेशर कुकर में 10 किलो IED रखे थे

जम्मू कश्मीर के करमारा सेक्टर में LOC के पास भारतीय सेना ने तीन आतंकवादियों को पकड़ा। ये तीनों 30 मई की रात खराब मौसम और बारिश का फायदा उठाकर भारतीय सीमा में घुसपैठ की कोशिश कर रहे थे। सेना के जवानों ने फेंसिंग क्रॉस कर रहे तीनों आतंकियों पर फायरिंग की। पढ़ें पूरी खबर…

अप्रैल में पुंछ अटैक में 5 जवान शहीद हुए थे

यह तस्वीर 20 अप्रैल की है, जिसमें सेना की गाड़ी पर हमला किया गया था।

यह तस्वीर 20 अप्रैल की है, जिसमें सेना की गाड़ी पर हमला किया गया था।

20 अप्रैल को आतंकवादियों ने पुंछ में सेना के काफिले को निशाना बनाकर हमला किया था जिसमें 5 जवान शहीद हो गए थे। ग्रेनेड अटैक और फायरिंग से ट्रक में आग लग गई थी। हमले की जिम्मेदारी आतंकी संगठन पीपुल्स एंटी फासिस्ट फ्रंट (PAFF) ने ली थी। उसने इसके बाद फिर से हमला करने की धमकी भी दी थी। PAFF जैश-ए-मोहम्मद का समर्थित संगठन है। अनुच्छेद-370 हटाए जाने के बाद PAFF जैश के प्रॉक्सी आउटफिट के तौर पर उभरा था।

Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button