POLITICS

बीजेपी नेता शाहनवाज हुसैन को हार्ट अटैक:मुंबई के लीलावती अस्पताल में एंजियोप्लास्टी हुई, अभी आईसीयू में

नई दिल्ली3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
शाहनवाज हुसैन मुंबई बीजेपी अध्यक्ष और सहयोगी दल के नेता आशीष शेलार के घर पर थे।  वहीं उनकी आपाधापी, जिसके बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया।  - दैनिक भास्कर

शाहनवाज हुसैन मुंबई बीजेपी अध्यक्ष और सहयोगी दल के नेता आशीष शेलार के घर पर थे। वहीं उनकी आपाधापी, जिसके बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया।

पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता शाहनवाज हुसैन को 26 सितंबर की शाम करीब 4 बजे हार्ट अटैक आया। उन्हें मुंबई के लीलावती अस्पताल में भर्ती किया गया है।

लीलावती अस्पताल की डॉक्टर जलील पारकर ने बताया कि शाहनवाज हुसैन की एंजियोप्लास्टी की गई है। वे आईसीयू में हैं, जल्द ही उन्हें प्राइवेट वार्ड में शिफ्ट कर दिया जाएगा।

बीजेपी विधायक आशीष शेलार के घर हार्ट अटैक आया
मीडिया विचारधारा के मुताबिक, शाहनवाज हुसैन मुंबई बीजेपी के अध्यक्ष और सहयोगियों के सहयोगी आशीष शेलार के घर पर मौजूद थे। यहां उनकी छुट्टी कर दी गई, जिसके बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया। उनकी स्थिति स्थिर बताई जा रही है।

हुसैन को इससे पहले अगस्त में स्वास्थ्य संबंधी समस्या होने के बाद दिल्ली एम्स में भर्ती किया गया था। तब डॉक्टरों ने उन्हें आराम की सलाह दी थी।

शाहनवाज के भाषण ने अटल बिहारी को प्रभावित किया
पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी स्थिर ने वर्ष 1997 में एक कार्यक्रम में शाहनवाज हुसैन को आउट किया था। तब उन्होंने कहा कि यह लड़का बहुत अच्छा बोलता है। इसे संसद में बुलाया जाए तो बड़े-बड़ों की छुट्टी कर ली जाएगी।

2005 में निर्दलीय से नेता चुना गया
शाहनवाज हुसैन पहली बार फरवरी 2005 में निर्दलीय नेता चुने गए। इसके बाद साल 2010 में भी विधायक बने। वे वर्ष 1999 में राज्य मंत्री बने थे। वहीं, 2001 में सबसे कम उम्र में केंद्रीय मंत्री बने। उनकी पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता की जिम्मेदारी भी स्पष्ट है।

हुसैन ने की पढ़ाई। उनके पास 5-5 मिनिस्ट्री का अनुभव है।

शाहनवाज हुसैन से जुड़ी यह खबर और पढ़ें…

शाहनवाज हुसैन पर आखिरी रेप का केस; SC ने कहा- आप सही होंगे तो बच जाएंगे

भाजपा के महासचिव सैयद शाहनवाज हुसैन पर रेप का केस। सर्वोच्च न्यायालय ने उनकी उस याचिका को खारिज कर दिया, जिसमें उन्होंने दिल्ली उच्च न्यायालय के आदेश को चुनौती दी थी। केस की सुनवाई जस्टिस एस. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि मामले की सही ढंग से जांच होनी चाहिए। इसमें पासिंग देने की वजह नज़र नहीं आती। आप सही होंगे तो बच जायेंगे। पढ़ें पूरी खबर…

Back to top button