POLITICS

देश का पहला एयर मार्शल कॅपल:साधना ट्रायल हॉस्पिटल सर्विस की डीजी बनीं, पति फ्लाईयाली के डीजी पद से छूट हो गई

नई दिल्ली26 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
पति वीके नायर के बाद साधना नायर ने भारतीय वायुसेना में एयर मार्शल रैंक हासिल की।  - दैनिक भास्कर

पति वीके नायर के बाद साधना नायर ने भारतीय वायुसेना में एयर मार्शल रैंक हासिल की।

भारतीय ऑटोमोबाइल के सामान्‍य एयर मार्शल साधना सासा नायर ने सोमवार को भारतीय अस्‍पताल सेवा के डायरेक्‍टर जनरल (डीजी) का गठन किया।

साधना इस पद को पहली महिला अधिकारी बनीं। इसके अलावा सहायक उपकरण की दूसरी महिला मेडिकल ऑफिसर हैं, जो एयर मार्शल रैंक तक पहुंच गई हैं।

साधना को एयर फोर्स ट्रेनिंग कमांड बेंगलुरु हेडक्वॉर्टर से दिल्ली प्रमोशनल में स्थापित किया गया है। वहीं उनकी पत्नी केपी नायर 2015 में इंस्पेक्शन एंड फ़्लाइट सेफ्टी के डीजी पद से हटकर हो गई हैं। इस तरह की साधना और केपी नायर एयर मार्शल रैंक तक पहुंचने वाले देश के पहले गोपाल बन गए हैं।

एयर मार्शल साधना को कॉलेज से दिल्ली में स्थापित किया गया है।

एयर मार्शल साधना को कॉलेज से दिल्ली में स्थापित किया गया है।

साधना नायर कौन हैं?
वायु सेना अधिकारी साधना नायर ने पुणे के आर्म्ड फोर्सेस मेडिकल कॉलेज से ग्रेजुएशन किया है। इसके बाद वे दिसंबर 1985 में इंडियन एयर फोर्स में शामिल हो गये। उन्होंने फैक्ट्री मेडिसिन में पोस्ट ग्रेजुएशन किया है। साधना ने 2 साल तक दिल्ली एम्स के ट्रेनिंग प्रोग्राम में भाग लिया। वे टूरिज्म में केमिकल, बायोलॉजिकल, रेडियोलॉजिकल, परमाणु वारफेयर और ट्रायल मेडिकल एथिक्स की पढ़ाई करते हैं।

तीन श्लोक का श्लोक से संबंध
एयर मार्शल साधना नायर के परिवार का 3 वर्ष वायु सेना से संबंध है। साधना के पिता और भाई भी इंडियन एयर फोर्स में डॉक्टर थे। उनके बेटे वायु सेना में फाइटर पायलट (फ्लाइट लेफ्टिनेंट) पद पर हैं।

साधना नायर ने पुणे के आर्म्ड फोर्सेज मेडिकल कॉलेज से ग्रेजुएशन किया है।

साधना नायर ने पुणे के आर्म्ड फोर्सेज मेडिकल कॉलेज से ग्रेजुएशन किया है।

एयर मार्शल रैंक की दूसरी महिला लैंडिंग
साधना नायर के प्रमोशनल पोस्टर के बाद वो दूसरी महिला अधिकारी बनीं, एयर मार्शल रैंक हासिल करना चाहती हैं। अपनी पहली ये उपलब्धि एयर मार्शल पद्मा बंदोपाध्याय ने हासिल की। पद्मा ने 2002 में एयर मार्शल रैंक पर एसेट की स्थापना की थी। इसके अलावा थ्री-स्टार रैंक तक पहुंच वाली नौसेना की रचनाएं वाइस एडमिरल पुनिता अरोरा वैली, जो कि बची हुई हैं।

कैनिटकर हैं सेना के पहले थ्री-स्टार कपल
साधना-केपी नायर से पहले कनितकर कपल पहले थ्री-स्टार सैन्य अधिकारी कपल थे। कैनिटकर कपल 2020 में आर्म्ड फोर्सेज में तीन-स्टार अधिकारियों का उच्च पद हासिल करने वाले पहले शामिल हुए थे। सेना में लेफ्टिनेंट जनरल राज़ी कनित्कर ने तब अपने पति लेफ्टिनेंट जनरल राजीव कनित्कर के साथ मिलकर यह उपलब्धि हासिल की थी। उनके पति राजीव 2017 में क्वार्टर मास्टर जनरल पद से हटे थे और राधा एक डॉक्टर हैं।

वायु सेना में 17 महिला विमान ऐसी हैं जो मिग-21, सुखोई-30MKI और राफेल जैसे सुपरसोनिक फाइटर जेट चला रहे हैं।

वायु सेना में 17 महिला विमान ऐसी हैं जो मिग-21, सुखोई-30MKI और राफेल जैसे सुपरसोनिक फाइटर जेट चला रहे हैं।

महिला सेना में सक्रिय हो, लेकिन कुछ विंग में नहीं
महिला चिकित्सा अधिकारियों को पहले ही आर्मी फोर्सेज में स्थायी कमीशन मिल रहा है, जबकि दूसरे विंग की स्थिति अलग है। अब सेना में लैंगिक छूट को सर्वोच्च न्यायालय के निर्देशों के बाद समाप्त किया जा रहा है। महिला अधिकारी अब लड़ाकू विमान उड़ा रही हैं, फर्स्ट लाइन के युद्धपोतों पर सेवा दे रही हैं। तोपखाने रेजिमेंट में हॉवित्जर और रॉकेट सिस्टम स्टोरेज रहे हैं

वायु सेना में 17 महिला विमान ऐसी हैं जो मिग-21, सुखोई-30MKI और राफेल जैसे सुपरसोनिक फाइटर जेट चला रहे हैं। इनमें थल, जल और नौसेना के अलावा 145 महिला सैन्य अधिकारी, एस्सेल और बिजनेस एयरक्राफ्ट उड़ाने शामिल हैं। वहीं, 30 महिला अधिकारी फ्रंटलाइन वॉरशिप में तैनात हैं।

अभी भी सेना की कुछ महिलाएँ नहीं
सेना की मुख्य सेना में फिंट्री, विश्राम से लेकर लाहौर, बख्तरबंद कोर, टैंक-ट्रक और थाल सेना में कई विंग महिला अधिकारियों को शामिल करने के लिए कोई कदम नहीं उठाया गया है। इसी तरह नौसेना में भी महिला सैन्य अधिकारियों की नियुक्ति नहीं की जा रही है।

Back to top button