POLITICS

अनंतनाग एनकाउंटर के पांचवे दिन एक आतंकी ढेर:एक और आतंकी के घिरे होने की संभावना; बारामूला में भी 3 आतंकी मारे गए

  • Hindi News
  • National
  • Encounter Between Army And Terrorists In Anantnag Jammu Kashmir Encounter Sixth Day Updates

श्रीनगर2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
अनंतनाग के गडूल कोकेरनाग में शनिवार को बारिश के बीच आतंकियों की तलाश की जा गई। - Dainik Bhaskar

अनंतनाग के गडूल कोकेरनाग में शनिवार को बारिश के बीच आतंकियों की तलाश की जा गई।

कश्मीर में अनंतनाग के गडूल कोकेरनाग में शनिवार को सुरक्षाबलों ने एक आतंकी को मार गिराया। यहां सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मंगलवार, 12 सितंबर यानी 5 दिनों से मुठभेड़ जारी है। गडूल में बारिश के बीच फायरिंग जारी रही। सुरक्षाबलों के मुताबिक, यहां एक और आतंकी के छिपे होने की संभावना है। अंधेरा होने पर शनिवार रात को ऑपरेशन रोक दिया गया।

वहीं, कश्मीर के बारामूला में लाइन ऑफ कंट्रोल (LoC) के पास उरी, हथलंगा इलाके में शनिवार को ही सेना ने एनकाउंटर में तीन आतंकियों को मार गिराया। पीर पंजाल ब्रिगेड के कमांडर पीएमएस ढिल्लन ने बताया- सुबह 6 बजे से शुरू हुआ ऑपरेशन 8 घंटे बाद दोपहर 2 बजे खत्म हुआ, लेकिन सर्चिंग जारी है।

कमांडर ढिल्लन ने बताया- 2 आतंकियों के शव मिले, तीसरे की लाश बॉर्डर के पास पड़ी थी, लेकिन पाकिस्तानी पोस्ट से लगातार फायरिंग के कारण हमारे सुरक्षाबलों को बॉडी नहीं मिल सकी। पाकिस्तानी फौज आतंकियों की मदद कर रही थी। फौज इन आतंकियों को कवर दे रही थी।

सेना-पुलिस ने बारामूला में मारे गए आतंकियों की तस्वीरें जारी कीं। हालांकि इनकी पहचान होना बाकी है।

सेना-पुलिस ने बारामूला में मारे गए आतंकियों की तस्वीरें जारी कीं। हालांकि इनकी पहचान होना बाकी है।

गोला-बारूद और पाकिस्तानी करेंसी भी बरामद
बारामूला एनकाउंटर को लेकर कमांडर ढिल्लन ने बताया- एनकाउंटर साइट से एक AK-47, 7 मैगजीन, चाइनीज पिस्टल, ग्रेनेड, पाकिस्तानी करेंसी और पांच किलो IED भी बरामद की गई है। ये वही इलाका है जहां दिसंबर 2022 में सुरक्षा बलों ने एक बड़े आतंकी ठिकाने का भंडाफोड़ किया था। तब एक गुफा से हथियारों का जखीरा बरामद किया गया था। पूरी खबर यहां पढ़ें…

अनंतनाग एनकाउंटर को लेकर कश्मीर ADGP बोले- सभी आतंकी मारे जाएंगे
अनंतनाग में चल रहे एनकाउंटर में अब तक सेना के दो अधिकारी, एक जवान और एक पुलिस अधिकारी शहीद हो चुके हैं। इस ऑपरेशन को लेकर कश्मीर के ADGP विजय कुमार ने कहा कि 2-3 आतंकी राजौरी तक फैले पीर पंजाल के घने जंगलों में छिपे हैं, इन सभी को मार गिराया जाएगा।

इन आतंकियों में एक लश्कर-ए-तैय्यबा का कमांडर उजैर खान है। इन्हीं आतंकियों के हमले में बुधवार को सेना के कर्नल मनप्रीत सिंह, मेजर आशीष धौंचक और जम्मू-कश्मीर पुलिस के DSP हुमांयू भट शहीद हुए थे। एक जवान भी शहीद हुआ है।

अनंतनाग में सैन्यबलों के ऑपरेशन से जुड़ी तस्वीरें…

कोकेरनाग के एनकाउंटर स्पॉट में सेना ने आतंकियों की लोकेशन का पता लगाने के लिए ड्रोन की मदद ली। सुरक्षाबलों ने आतंकियों को घेर रखा है।

कोकेरनाग के एनकाउंटर स्पॉट में सेना ने आतंकियों की लोकेशन का पता लगाने के लिए ड्रोन की मदद ली। सुरक्षाबलों ने आतंकियों को घेर रखा है।

पहाड़ी में छिपे आतंकियों पर सेना ने ड्रोन से बमबारी की।

पहाड़ी में छिपे आतंकियों पर सेना ने ड्रोन से बमबारी की।

कोकेरनाग में चल रहे एनकाउंटर स्पॉट पर सुरक्षाबलों का सर्च ऑपरेशन।

कोकेरनाग में चल रहे एनकाउंटर स्पॉट पर सुरक्षाबलों का सर्च ऑपरेशन।

यह आतंकी उजैर खान है जिसकी तस्वीर पुलिस ने जारी की है।

यह आतंकी उजैर खान है जिसकी तस्वीर पुलिस ने जारी की है।

स्निफर डॉग्स, ड्रोन, हेलिकॉप्टर की मदद से आतंकियों को ढूंढा जा रहा
आतंकियों ने अनंतनाग में मंगलवार को उस वक्त हमला किया था, जब सेना और जम्मू-कश्मीर पुलिस तलाशी अभियान चला रही थी। मंगलवार को राजौरी में भी एनकाउंटर हुआ था, जिसमें सेना का एक जवान शहीद हुआ था।

अनंतनाग के एनकाउंटर में सेना के कमांडोज के साथ ही स्निफर डॉग्स, ड्रोन और हेलिकॉप्टर आतंकियों को खोज रहे हैं। रॉकेट लॉन्चर का भी इस्तेमाल किया जा रहा है। सैन्य अफसरों का कहना है कि आतंकियों को 4 किलोमीटर के दायरे में घेर लिया गया है। इन्हें कभी भी ढेर कर दिया जाएगा।

कर्नल मनप्रीत और मेजर आशीष का अंतिम संस्कार

कर्नल मनप्रीत मोहाली के, मेजर आशीष पानीपत और DSP भट कश्मीर के बडगाम के रहने वाले थे। लश्कर-ए-तैयबा से जुड़े प्रतिबंधित रेजिस्टेंट फ्रंट ने हमले की जिम्मेदारी ली है।

कर्नल मनप्रीत मोहाली के, मेजर आशीष पानीपत और DSP भट कश्मीर के बडगाम के रहने वाले थे। लश्कर-ए-तैयबा से जुड़े प्रतिबंधित रेजिस्टेंट फ्रंट ने हमले की जिम्मेदारी ली है।

मोहाली के रहने वाले कर्नल मनप्रीत का अंतिम संस्कार उनके पैतृक गांव भड़ौजियां में हुआ। वहीं पानीपत के मेजर आशीष धौंचक का अंतिम संस्कार उनके पैतृक गांव बिंझौल में किया गया। जम्मू-कश्मीर पुलिस के शहीद DSP हुमांयू भट को गुरुवार को उनके पैतृक गांव बडगाम में सुपुर्द-ए-खाक किया गया था।

शहीद मेजर आशीष अंतिम सफर पर, विदाई देने उमड़े लोग; एक किलोमीटर लंबा काफिला

DSP हुमायूं ने गोली लगते ही पत्नी को किया वीडियो कॉल- शायद न बचूं, बेटे का ख्याल रखना
रूह कंपा देनी वाली ये चंद लाइनें ही DSP हुमायूं भट के आखिरी शब्द थे। जब वे अनंतनाग के गडूल कोकेरनाग में बुधवार सुबह आतंकियों की गोली से घायल हुए, ठीक उसी वक्त उन्होंने पत्नी फातिमा को वीडियो कॉल कर अपने हालात बयां किए। कहा- ‘मुझे गोली लगी है, नहीं लगता कि मैं बच पाऊंगा। हमारे बेटे का ख्याल रखना।’

हुमायूं शहीद हो चुके हैं। उन्हें पेट में गोली लगी थी। उनकी सास सैय्यद नुसरत ने भास्कर को बताया कि हुमांयू जहां घायल पड़े थे, वो लोकेशन ट्रेस करने में हेलिकॉप्टर को देर लग गई। उन्हें घटनास्थल से सीधे श्रीनगर के सेना अस्पताल ले जाया गया, यहां फातिमा और 29 दिन के बेटे को देखने के बाद हुमायूं ने दम तोड़ दिया। 27 सितंबर को हुमायूं-फातिमा की शादी का एक साल पूरा होने वाला था। फातिमा सदमे में हैं। उनके पिता भी जम्मू-कश्मीर पुलिस में IG रहे हैं।

जम्मू-कश्मीर पुलिस में DSP हुमांयू की शहादत की खबर सुनकर रोती पत्नी फातिमा।

जम्मू-कश्मीर पुलिस में DSP हुमांयू की शहादत की खबर सुनकर रोती पत्नी फातिमा।

कुलगाम में भी इन्हीं आतंकियों ने सेना को निशाना बनाया था
अफसरों का मानना है कि ये वही आतंकी हैं, जिनसे 4 अगस्त को कुलगाम के जंगल में हुई मुठभेड़ में 3 जवान शहीद हो गए थे। कश्मीर में पिछले तीन साल में यह सबसे बड़ा हमला है। इससे पहले कश्मीर के हंदवाड़ा में 30 मार्च 2020 को 18 घंटे चले हमले में कर्नल, मेजर और सब-इंस्पेक्टर समेत पांच अफसर शहीद हुए थे।

कश्मीर में इस साल अब तक 40 आतंकी ढेर
कश्मीर में पिछले तीन साल में यह सबसे बड़ा हमला है, जिसमें इतने बड़े अफसरों की शहादत हुई है। इससे पहले कश्मीर के हंदवाड़ा में 30 मार्च 2020 को 18 घंटे चले हमले में कर्नल, मेजर और सब-इंस्पेक्टर समेत पांच अफसर शहीद हुए थे। इस साल जनवरी से अब तक जम्मू-कश्मीर में 40 आतंकी मारे गए हैं। इनमें 8 ही स्थानीय थे और बाकी सभी विदेशी थे।

ये खबरें भी पढ़ें…

कर्नल मनप्रीत के पिता भी सेना में थे, आखिरी बार बहनोई से बात हुई थी

न्यू चंडीगढ़ के गांव भड़ोजिया के रहने वाले कर्नल मनप्रीत सिंह के पिता स्वर्गीय लखबीर सिंह भी आर्मी में सैनिक थे। शहीद कर्नल मनप्रीत सिंह को 2 साल पहले सेना ने सेना पुरस्कार से सम्मानित किया था। उनका पार्थिव शरीर गुरुवार शाम 4 बजे तक आने की उम्मीद है। अगर देर होती है, तो मनप्रीत का अंतिम संस्कार शुक्रवार को होगा।

कर्नल मनप्रीत सिंह शादीशुदा थे। उनके दो भाई और एक बहन है। कर्नल के परिवार में एक 7 साल का बेटा कबीर सिंह और ढाई साल की बेटी बानी है। मनप्रीत के बहनोई वीरेंद्र गिल ने कहा कि उनसे आखिरी बार सुबह 6:45 बजे बात हुई थी। तब उन्होंने कहा था कि वह बाद में बात करेंगे। पिछले साल, उन्हें सेना मेडल से मिला था। पढ़ें पूरी खबर…

राजौरी एनकाउंटर साइट से बरामद हुईं AK-47 और गोलियां
राजौरी में भी मंगलवार (12 सितंबर) को एनकाउंटर के दौरान एक जवान की मौत हो गई थी और दो आतंकी मारे गए थे। यहां सर्चिंग के दौरान एक आर्मी डॉग की भी मौत हो गई। उसने अपने हैंडलर की जान बचाने के लिए खुद की जिंदगी दांव पर लगा दी। राजौरी में एनकाउंटर खत्म हो गया है।

एनकाउंटर साइट से दो AK-47, 7 मैग्जीन, 2 बुलेट प्रूफ जैकेट और करीब तीन दर्जन कारतूस बरामद हुए हैं। इसके अलावा पाकिस्तान में बनी दवाएं भी रिकवर हुई हैं। यहां शहीद हुए आर्मी डॉग का नाम केंट था। आतंकियों की तलाश के दौरान डॉग अपने हैंडलर के आगे चल रहा था तभी उसे गोली लगी और उसकी मौत हो गई। पढ़ें पूरी खबर…

Back to top button