POLITICS

अजीत बोले

मुंबईएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक
अजीत पवार शुक्रवार शाम करीब 5 बजे रीचेबल नहीं थे। उनके साथ ही करीब 7 से 8 से भी संपर्क नहीं हो पा रहा था। - दैनिक भास्कर

अजीत पवार शुक्रवार शाम करीब 5:00 बजे से नहीं पहुंच पा रहे थे। उनके साथ ही करीब 7 से 8 से भी संपर्क नहीं हो पा रहा था।

राकांपा नेता अजीत पवार नॉट रीचेबल न्यूज को पर बेजाह बदनामी करने के आरोप लगाते हुए दावे दायर करते हैं। उन्होंने कहा कि वे पिछले कुछ दिनों से पूरे महाराष्ट्र के दौरे कर रहे थे। लोगों में ठीक से आराम नहीं मिल रहा था। गर्मी और घबराहट से तबीयत खराब हो गई थी। इस वजह से मैं डॉक्टर की सलाह पर दवाई लेकर स्थित आवास पर आराम कर रहा था।

उन्होंने बताया कि बिना सच्चाई के किसी को नीचा दिखाना ठीक बात नहीं है। हम सार्वजनिक व्यक्ति हैं और मीडिया को यह अधिकार है कि वह हमारे बारे में खबरें लिखे लेकिन बिना किसी कन्फर्मेशन के खबरें नहीं लिखी जानी चाहिए। मीडिया सलाह देते हुए अजित ने कहा कि सुनिश्चित करके ही खबरें चलाएं। उन्होंने कहा कि मीडिया में आपके बारे में खबरें देखकर वो व्यस्थ हैं।

बता दें कि अजीत पवार शुक्रवार शाम करीब 5:00 बजे से रीचेबल नहीं थे। उनके साथ ही करीब 7 से 8 से भी संपर्क नहीं हो पा रहा था। इस वजह से सूबे में सियासी उठापटक के अटके हुए तारों का दौर शुरू हो गया था। वे करीब 17 घंटे बाद मीडिया के सामने आए।

अजीत ने पीएम डिग्री विवाद पर कहा था- मोदी अपने जलवे से जीतेंगे
हाल ही में अजीत पवार ने पीएम नरेंद्र मोदी की डिग्री पर कंजेशन दिया था। उन्होंने कहा था कि- मोदी डिग्री से नहीं, अपने जलवे से जीतते हैं। जनता ने प्रधानमंत्री को डिग्री नहीं चुना। लोगों का मिनिस्टर की डिग्री को लेकर सवाल करना गलत है।

पीएम मोदी बीते 9 साल से देश का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। उनकी डिग्री के बारे में पूछना ठीक बात नहीं है। हमें उनसे और बेरोजगारी जैसे मुद्दों पर सवाल करना चाहिए। किसी मंत्री की डिग्री कोई महत्वपूर्ण मेल नहीं है। अगर हमें उनकी डिग्री पर स्पष्टता मिलेगी तो क्या कुछ कम होगा? उसकी डिग्री की स्थिति जानने के बाद लोगों को नौकरी मिलेगी?’

2019 में अजीत ने तीन दिनों में इस्तीफ़ा दे दिया था
बीजेपी-शिवसेना ने 2019 में एक साथ चुनाव लड़ा था। पूर्ण बहुमत मिला, सीएम पर जाल बिछाया गया था। डेढ़ साल के लिए सीएम पद मांगा लेकिन बात नहीं बनी। 12 नवंबर को राष्ट्रपति शासन लगा था, जिसे 23 की रात को हटा दिया गया था और फडणवीस ने NCP के अजीत मौन संगण सरकार बनाई थी। लेकिन अजीत ने तीसरे ही दिन इस्तीफ़ा दे दिया था।

ये खबर भी पढ़ें…

राकांपा फर्जी से जाने के सवाल पर भड़के अजित पवार:कहा- मैं नाराज नहीं हूं; अब क्या स्टाम्प पर लिख दें डूं

महाराष्ट्र के पूर्व उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने कहा- ये दावे गलत हैं कि NCP की बैठक छोड़कर मंच से चले गए थे, क्योंकि उन्हें बोलने की इजाज़त नहीं दी गई थी। यह बात उन्होंने क्वी के दौरान मीडिया से बातचीत के दौरान कही। दरअसल, दिल्ली में रविवार को पार्टी के राष्ट्रीय अधिवेशन की मीटिंग चल रही थी। इस दौरान अजित पार्टी छोड़ो सर्वोच्च शरद की उपस्थिति में बैठक के बीच निकल गए थे। पूरी खबर यहां पढ़ें…

Back to top button