POLITICS

Major Depressive Disorder: खतरनाक है मेजर डिप्रेसिव डिसऑर्डर, जानें किस वजह से होता है, लक्षण और इलाज

Major Depressive Disorder: खतरनाक है मेजर डिप्रेसिव डिसऑर्डर, जानें किस वजह से होता है, लक्षण और इलाज

Major Depressive Disorder: मेजर डिप्रेसिव डिसऑर्डर ये बीमारी किसी खास उम्र में नहीं होती.

डिप्रेशन एक गंभीर बीमारी है जिसका समय रहते इलाज मिलना बहुत ज्यादा जरूरी है वर्ना ये जानलेवा बन सकती है. परेशानी की बात यह है कि डिप्रेशन को सही समय पर पकड़ पाना या उसके लक्षणों को समझ पाना बेहद मुश्किल है. जागरूकता की इतनी कमी है कि भारत में आज भी कई लोग इससे बीमारी नहीं समझते. डिप्रेशन से पीड़ित इंसान को खुद ये पता नहीं होता कि वो डिप्रेशन का शिकार हो चुका है. हैरानी की बात ये है कि ये बीमारी किसी निश्चित उम्र में नहीं होती बल्कि आजकल हर उम्र का व्यक्ति डिप्रेशन का शिकार हो रहा है. डिप्रेशन होने की कई वजह हो सकती है लेकिन इसका इलाज संभव है अगर समय रहते बीमारी को समझ लिया जाए.

मेजर डिप्रेसिव डिसऑर्डर (Major Depressive Disorder)

एक मेजर डिप्रेशन है जो इंसान को डीप डिप्रेशन में ले जाता है. इस डिसऑर्डर में व्यक्ति बहुत ज्यादा डिप्रेशन के दौर से गुजर रहा होता है. इस डिप्रेशन का शिकार व्यक्ति हर तरह के काम और आनंद से अपनी रुचि खो देता है. ये एक ऐसा डिप्रेसिव डिसऑर्डर है जिसमें एक इंसान पूरी तरह अंदर से टूटने लगता है. उसकी दिनचर्या से लेकर खाने पीने तक में इसका सीधा असर देखने को मिलता है. अगर समय रहते इस मेजर डिप्रेसिव डिसऑर्डर का इलाज न किया जाए तो इंसान खुदकुशी तक कर सकता है या फिर किसी और को भी चोट पहुंचा सकता है. इस डिसऑर्डर से पीड़ित मरीज का खास ख्याल रखने की जरूरत होती है.

 मेजर डिप्रेसिव डिसऑर्डर के कारण (Causes Of Major Depressive Disorder)

अगर परिवार में कभी किसी को ये डिसऑर्डर रहा हो तो इसका खतरा ज्यादा बढ़ जाता है. इसका दूसरा मुख्य कारण है ब्रेन में केमिकल इंबैलेंस होना. हार्मोनल चेंज की वजह से भी ये ट्रिगर कर कर सकता है. इसके अलावा डिप्रेशन के कई और भी कारण हो सकते हैं, जैसे बिगड़ती जीवनशैली, तनाव, जरूरत से ज्यादा स्ट्रेस.

मेजर डिप्रेसिव डिसऑर्डर के लक्षण (Symptoms Of Major Depressive Disorder)

डिप्रेशन के लक्षण एक आदमी खुद से नहीं समझ पाता, लेकिन उसमें हो रहे हैं बदलाव को आस पास के लोग समझ के उसकी मदद कर सकते हैं. इस डिप्रेशन में व्यक्ति जरूरत से ज्यादा चिड़चिड़ा हो जाता है, हर वक्त दुख ही रहने लगता है, उसके पसंदीदा काम में भी उसका मन नहीं लगता, एकदम से वजन घटना या बढ़ना शुरू हो जाता है, इसके अलावा भूख भी घटने-बढ़ने लगती है, बेचैनी महसूस होना, एनर्जी की कमी और खुद को नुकसान पहुंचाने जैसे तमाम लक्षण अगर किसी व्यक्ति में नजर आते हैं तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए.

मेजर डिप्रेसिव डिसऑर्डर का इलाज (Major Depressive Disorder Treatment)

  • इस बीमारी का लक्षण देखते ही डॉक्टर से संपर्क करें और उसकी सलाह से दवाइयां लेना शुरू कर दें.
  • इसके इलाज में मनोवैज्ञानिक चिकित्सा भी बहुत फायदेमंद है. इसमें डॉक्टर के सामने रोगी खुलकर अपनी बीमारी है परेशानी रख सकता है. डॉक्टर के सामने अपनी बात बोलने से मरीज का आत्मविश्वास बढ़ता है.
  • हेल्दी लाइफस्टाइल और खाने पीने के तरीके को सही करने से भी इस बीमारी में मदद मिलती है. खुद को फिजिकल एक्टिविटी से जोड़ने की जरूरत है.

डिप्रेशन से कैसे बचे

खुद को खुश रखना डिप्रेशन से बचने का सबसे अच्छा तरीका है. इसके साथ ही अच्छी स्वस्थ जीवन शैली के जरिए भी आप इस तरह की बीमारी से बच सकते हैं. अपनी हर बात को अपने किसी करीबी रिश्तेदार या फिर दोस्त से शेयर करना चाहिए. जरूरत से ज्यादा चीजों को सोचने या स्ट्रेस लेने से भी इस तरह की परेशानी घर कर जाती है.

कब्ज से तुरंत राहत! कभी नहीं होगी कब्ज अगर खाएंगे ये | कब्ज का रामबाण इलाज

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.

Back to top button
%d bloggers like this: