POLITICS

Magh Purnima 2023: माघ पूर्णिमा कब है, मान्यतानुसार इस दिन पृथ्वी पर पधारते हैं देवता, जानें शुभ मुहूर्त

Magh Purnima 2023: माघ पूर्णिमा कब है, मान्यतानुसार इस दिन पृथ्वी पर पधारते हैं देवता, जानें शुभ मुहूर्त

Magh Purnima 2023: माघ मास की पूर्णिमा का खास धार्मिक महत्व है.

Magh Purnima 2023 date, time, shubh Muhurat: वैसे तो हर महीने की पूर्णिमा पूजा-पाठ के दृष्टिकोण से खास होती है, लेकिन माघ मास की पूर्णिमा का विशेष धार्मिक महत्व है. धार्मिक मान्यता है कि इस दिन देवतागण पृथ्वीलोक पर भ्रमण करने के लिए आते हैं. इस दिन गंगा स्नान और दान का खास महत्व है. आइए जानते हैं कि मास मास की पूर्णिमा कब है और इन दिन का शुभ मुहूर्त और महत्व क्या है. 

2023 में माघ पूर्णिमा कब है | When is Magha Purnima in 2023

माघ मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को माघी पूर्णिमा या माघ पूर्णिमा कहा जाता है. साल 2023 में माघी पूर्णिमा 5 फरवरी 2023 को है. माघी पूर्णिमा के दिन गंगा नदी में स्नान करना शुभ होता है. मान्यता है कि इस दिन गंगा नदी में स्नान करने के बाद दान करना अच्छा होता है. इसके मनोकामना पूरी होती है. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, माघ पूर्णिमा के दिन चंद्रमा कर्क राशि में रहेंगे. वहीं इस दिन आयुष्मान योग, सर्वार्थसिद्धि योग और रविपुष्कर योग का भी खास संयोग बन रहा है. 

माघ पूर्णिमा तिथि और शुभ मुहूर्त 2022 | Magh Purnima 2022 Date, Time

माघ पूर्णिमा- रविवार, 5 फरवरी 2023 


माघ पूर्णिमा तिथि आरंभ-  फरवरी 04, 2023 को रात 09:29 बजे


माघ पूर्णिमा तिथि समाप्त – फरवरी 05, 2023 को रात 11:58 बजे


माघ पूर्णिमा 2023 सूर्योदय  – 07:07 ए एम


माघ पूर्णिमा 2023 सूर्यास्त : 06:03 पी एम

माघ पूर्णिमा 2022 शुभ मुहूर्त | Magh Purnima 2022 Shubh Muhurat

ब्रह्म मुहूर्त – 5 फरवरी को 05:23 AM से 06:15 AM


अभिजित मुहूर्त – 5 फरवरी को 12:13 पी एम से 12:57 पी एम


विजय मुहूर्त –  5 फरवरी को 02:25 पी एम से 03:08 पी एम


गोधूलि मुहूर्त – 5 फरवरी को 06:01 पी एम से 06:27 पी एम


रवि पुष्य योग – 5 फरवरी को 07:07 पी एम से 12:13 पी एम


सर्वार्थ सिद्धि योग-  5 फरवरी को 07:07 AM से 12:13 PM

माघ पूर्णिमा पर क्या करें | Magh Purnima 2022 Upay

माघ पूर्णिमा पर चंद्रमा और मां लक्ष्मी की पूजा का विधान है. इस दिन चंद्रोदय के समय चंद्रमा की पूजा करने से चंद्र दोष दूर होता है. इस दिन रात को धन एवं वैभव की देवी माता लक्ष्मी की पूजा करने की परंपरा है. ऐसे में माघ पूर्णिमा के दिन मां लक्ष्मी और चंद्र देव की पूजा कर सकते हैं.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. एनडीटीवी इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

लोक आस्था का पर्व छठ संपन्न, बनारस के घाट से देखें अजय सिंह की रिपोर्ट


Back to top button
%d bloggers like this: