POLITICS

COVID-19 वैक्सीन की दोनों खुराक लेने वालों में संक्रमण होने की संभावना 3 गुना कम

COVID-19 वैक्सीन की दोनों खुराक लेने वालों में संक्रमण होने की संभावना 3 गुना कम

कोरोना टीके की दोनों खुराक संक्रमण की संभावना को तीन गुना कर देती हैं कम. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

लंदन:

ब्रिटेन के एक नई स्टडी में पाया गया है कि जिन लोगों ने  कोरोनावायरस वैक्सीन की दोनों खुराक ले ली है, उनके COVID-19 से संक्रमित होने की संभावना तीन गुना कम है. देश में COVID-19 संक्रमणों में यूके के सबसे बड़े अध्ययनों में से एक कम्युनिटी ट्रांसमिशन का रीयल-टाइम असेसमेंट (REACT-1) अध्ययन ने बुधवार को बताया कि इंग्लैंड में संक्रमण 0.15 प्रतिशत से चार गुना बढ़कर 0.63 प्रतिशत हो गया है. 20 मई से 7 जून तक की अवधि के बीच में यह अध्ययन किया गया था.

हालांकि 12 जुलाई के बाद से संक्रमण में कमी देखने को मिली है. इंपीरियल कॉलेज लंदन और इप्सोस मोरी के विश्लेषण में 24 जून से 12 जुलाई के बीच इंग्लैंड में अध्ययन में भाग लेने वाले 98,000 से अधिक वाल्यूंटियर ने सुझाव दिया कि टीके की दोनों खुराक ले चुके लोगों से दूसरे में संक्रमण फैलने की संभावना भी कम होती है.

अफगानिस्‍तान को लेकर अहम बैठक में रूस ने अमेरिका, चीन और पाकिस्‍तान को बुलाया लेकिन भारत को न्‍यौता नहीं : रिपोर्ट

यूके के स्वास्थ्य सचिव साजिद जाविद ने कहा, “हमारा टीकाकरण रोलआउट रक्षा की दीवार का निर्माण कर रहा है, जिसका अर्थ है कि हम प्रतिबंधों को सावधानी से कम कर सकते हैं और अपनी पसंदीदा चीज़ों पर वापस जा सकते हैं, लेकिन हमें सतर्क रहने की आवश्यकता है क्योंकि हम इस वायरस के साथ रहना सीख रहे हैं.”

उन्होंने कहा “यह रिपोर्ट व्यक्तिगत जिम्मेदारी लेने के महत्व को दर्शाती है यदि आप संपर्क का पता लगाते हैं, यदि आपको लक्षण हैं तो परीक्षण करवाएं और जहां उपयुक्त हो वहां फेस कवरिंग करें. मैं उन सभी लोगों से टीके की दोनों डोज लेने का आग्रह करता हूं जिसे अभी तक टीका नहीं लग सका है. टीके सुरक्षित हैं और वे काम कर रहे हैं.”

पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड (PHE) के डेटा से पता चलता है कि यूके में प्रशासित किए जा रहे टीके COVID-19 के सभी प्रकारों के खिलाफ “अत्यधिक प्रभावी” हैं.

फाइजर/बायोएनटेक वैक्सीन 96 फीसदी प्रभावी है और ऑक्सफोर्ड/एस्ट्राजेनेका वैक्सीन दोनों खुराक के बाद अस्पताल में भर्ती होने के खिलाफ 92 फीसदी प्रभावी है. पीएचई का अनुमान है कि इंग्लैंड में टीकाकरण कार्यक्रम ने 22 मिलियन संक्रमण, लगभग 52,600 अस्पताल में भर्ती होने और 35,200 से 60,000 मौतों को रोका है.

कोविड-19 का टीका लेने वाले लोगों की यात्रा के लिए कोई बहुपक्षीय प्रोटोकॉल नहीं: सरकार

डेल्टा संस्करण के लिए नवीनतम पीएचई जोखिम मूल्यांकन अल्फा की तुलना में डेल्टा के साथ पुन: संक्रमण के बढ़ते जोखिम के शुरुआती संकेतों को दर्शाता है. पीएचई द्वारा आगे की जांच की जा रही है और शुक्रवार को डेटा अपडेट किया जाएगा.

यूके की स्वास्थ्य सेवा ने  वैज्ञानिक सलाह के बाद अब अपने COVID-19 टीकाकरण कार्यक्रम का विस्तार 16 वर्ष और उससे अधिक उम्र के सभी लोगों के लिए किया है.

Back to top button
%d bloggers like this: