POLITICS

Border Dispute: लिपुलेख एरिया में पीएम मोदी ने की सड़क विस्तार की घोषणा, भड़का नेपाल बोला

काठमांडू में भारतीय दूतावास ने शनिवार को कहा कि नेपाल के साथ अपनी सीमा पर भारत की स्थिति स्पष्ट है। वहीं नेपाल लिपुलेख में सड़क विस्तार पर आपत्ति जता रहा है।

Report- Yubaraj Ghimire: भारत-नेपाल सीमा के पास सड़क निर्माण की घोषणा से नेपाल भड़क गया है। लिपुलेख एरिया में पीएम मोदी ने हाल ही में सड़क के विस्तार की घोषणा की थी, जिसपर नेपाल ने आपत्ति जताते हुए कहा है कि ये निर्माण अवैध है।

नेपाल ने रविवार को भारत से काली नदी क्षेत्र में सड़कों के “एकतरफा निर्माण और विस्तार” को रोकने के लिए कहा है। नेपाल की यह विरोध प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लिपुलेख क्षेत्र में सड़क का विस्तार करने की घोषणा के कुछ दिनों बाद आया है, जिसपर नेपाल अपना दावा करता रहा है। 30 दिसंबर को उत्तराखंड के हल्द्वानी में भाजपा द्वारा आयोजित एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने घोषणा की थी कि उनकी सरकार उत्तराखंड के लिपुलेख में बनी सड़क को और चौड़ा करने जा रही है।

नेपाल के सूचना और प्रसारण मंत्री और कैबिनेट के प्रवक्ता ज्ञानेंद्र बहादुर कार्की ने कहा कि काली नदी के पूर्व में लिम्पियाधुरा, लिपुलेख और कालापानी सहित क्षेत्र नेपाल का अभिन्न अंग हैं और भारत को सड़कों के किसी भी निर्माण या विस्तार को रोकना चाहिए। कार्की ने कहा, “नेपाल और भारत के बीच सीमा पर किसी भी विवाद को ऐतिहासिक दस्तावेजों, नक्शों और दस्तावेजों के आधार पर राजनयिक चैनलों के माध्यम से सुलझाया जाना चाहिए, जो दोनों देशों के बीच मौजूद द्विपक्षीय संबंधों की भावना के अनुरूप हो।”

नेपाल की प्रतिक्रिया भारत की उस प्रतिक्रिया के बाद आई है, जिसमें भारत ने जोर देकर कहा कि चल रहा निर्माण कार्य भारतीय क्षेत्र में है। हालांकि प्रस्ताव भी दिया है कि द्विपक्षीय मित्रता की भावना से बातचीत के माध्यम से किसी भी विवाद को सुलझाया जा सकता है।

काठमांडू में भारतीय दूतावास ने शनिवार को कहा कि नेपाल के साथ अपनी सीमा पर भारत की स्थिति सर्वविदित, सुसंगत और स्पष्ट है। भारत-नेपाल सीमा के सवाल पर नेपाल में हाल की रिपोर्टों और बयानों पर मीडिया के सवालों के जवाब में, भारतीय दूतावास के प्रवक्ता ने कहा- “भारत-नेपाल सीमा पर भारत सरकार की स्थिति सर्वविदित, सुसंगत और स्पष्ट है। इसकी सूचना नेपाल सरकार को दे दी गई है।”

बता दें कि पिछले कुछ सालों से नेपाल, भारत के साथ सीमा विवाद को लेकर उलझता रहा है। कई बार विवादित बयान भी दिए गए हैं। हालांकि नेपाल के प्रधान मंत्री शेर बहादुर देउबा के कार्यकाल में इसमें सुधार होता दिख रहा था, लेकिन एक बार फिर से लिपुलेख में सड़क विस्तार की घोषणा पर नेपाल भड़कता हुआ दिखाई दे रहा है।

Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
%d bloggers like this: