POLITICS

स्वस्थ हैं तो समृद्ध हैं: जो सेहतमंद हैं वे 28% अधिक संपत्ति बनाते हैं; 5.5 करोड़ भारतीय बीमारियों पर खर्च के कारण गरीबी रेखा के नीचे

पर खर्च करने के कारण गरीबी रेखा के नीचे ५.५ करोड़

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

16.4% सालाना की दर से बढ़ रहा है भारत में परिवारों का स्वास्थ्य खर्च। - Dainik Bhaskar

16.4% सालाना की दर से बढ़ रही है भारत में परिवारों का स्वास्थ्य खर्च।

  • विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार भारत में स्वास्थ्य सेवाओं पर होने वाले खर्च का 67.78% लोगों की जेब से जाता है।

अस्वस्थ लोग कम आय अर्जित करते हैं, उनकी बचत भी कम होती है और इसलिए वे स्वस्थ लोगों की तुलना में अपने जीवनकाल में कम संपत्ति अर्जित कर पाते हैं। स्वस्थ लाएग लगभग 28% अधिक संपत्ति बनाते हैं। एक अमेरिकी शोध के अनुसार जो लोग जीवन के 16 से 20 साल खराब स्वास्थ में बिताते हैं उन्हें लाखों रुपए का नुकसान आय में कमी और बीमारियों पर खर्च से होता है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार भारत में स्वास्थ्य सेवाओं पर होने वाले खर्च का 67.78% लोगों की जेब में जाता है। इस मामले में वैश्विक औसत महज 18.2% है। बीमारियों पर होने वाले खर्च लोगों को गरीबी में धकेलता है। पब्लिक हेल्थ फाउंडेशन ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2017-18 में 5.5 करोड़ भारतीय बीमारियों और दवाओं पर खर्च के कारण गरीबी रेखा के नीचे चले गए।

से आपके भविष्य पर बहुत असर पड़ेगा

16.4% सालाना की दर से बढ़ रही है भारत में परिवारों का स्वास्थ्य खर्च। केअर रेटिंग्स के डेवलपर के अनुसार। इधर गांवों में अस्पताल में भर्ती होने पर औसत खर्च 16,676 रु। है। शहरों में 27,000 रु। है। इन समस्याओं को पहचाना

  • बीमा कराइए क्योंकि 14% ग्रामीण और 19% शहरी लोगों के पास ही स्वास्थ्य इंश्योरेंस है।
  • लाइफस्टाइल सुधार क्योंकि 63% मौतें देश में हर साल खराब लाइफस्टाइल से होने वाली बीमारियों के कारण होते हैं।

)

Back to top button
%d bloggers like this: