POLITICS

सीजेआई बोले-22 साल की उम्र में रेडियो शो होस्ट किया, तब वकील भी थे

नई दिल्ली18 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

देश में मूनलाइटिंग को लेकर चल रही बहस के बीच CJI जस्टिस चंद्रचूड़ ने भी मूनलाइटिंग की बात स्वीकार की है। पिछले हफ्ते गोवा के एक कार्यक्रम में देश के मुख्य न्यायाधीश ने बताया कि 20-22 साल की उम्र में वे मूनलाइटिंग करते थे। मैं उन दिनों वकील था और ऑल इंडिया रेडियो में भी कुछ शो होस्ट करता था। CJI ने कहा कि कम लोग ही जानते हैं कि करियर की शुरुआत के दिनों में मैं नौकरी के साथ रेडियो में भी काम करता था। वहां मैं प्ले कूल, डेट विद यू और संडे रिक्वेस्ट जैसे शो होस्ट करता था। संगीत को लेकर आज भी मेरा प्यार कायम है। मैं जिस क्षेत्र में हूं, उसमें संगीत सुनना काफी मुश्किल होता है। इसीलिए मैं जब भी घर पर होता हूं तो आवाज सुनता हूं।

50वें मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति दीवाई चंद्रचूड़ हैं
न्यायमूर्ति दीवाई चंद्रचूड़ ने पिछले महीने ही भारत के 50वें मुख्य न्यायाधीश (CJI) की शपथ ली है। राष्ट्रपति भवन में एक समारोह में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने उन्हें पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। इसके बाद उन्होंने सर्वोच्च न्यायालय में स्थित बापू की मूर्ति पर विवाह किया। उन्होंने सीजेआई की कुरसी पर बैठने से पहले अपने केबिन में तिरंगे को नमन भी किया।

जस्टिस चंद्रचूड़ के पिता 16वें सीजेआई थे
जस्टिस चंद्रचूड़ के पिता जस्टिस वाईवी चंद्रचूड़ देश के 16वें CJI थे। जस्टिस वाईवी चंद्रचूड़ का कार्यकाल 22 फरवरी 1978 से 11 जुलाई 1985 तक यानी करीब 7 साल रहा। उनके संबंध के 37 साल बाद उनके बेटे जस्टिस दीवाई चंद्रचूड़ उसी पद पर नियुक्त होंगे। जस्टिस दीवाई चंद्रचूड़ पिता के 2 बड़े डॉक्युमेंट को SC में पलट भी चुके हैं। वे बेबाक के लिए चर्चित हैं।

Back to top button
%d bloggers like this: