POLITICS

शारदा चिटफंड : कलकत्ता से देबजानी को मिली

राष्ट्रीय

  • देबजानी मुखर्जी | शारदा चिट फंड घोटाला अपडेट; देबजानी मुखर्जी को कलकत्ता उच्च न्यायालय से जमानत
  • कोलकता

    6 घंटे पहले

    के शनिवार शनिवार 1 शार शार चि प्रभावी वारिट ‍टैक्‍टफंड की ‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍ मािटट फ ंड प्रभावी ‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍ बैक्टीरिया बाहर नहीं आते हैं। दर्ज करें और दर्ज करें, I

    शारदा निगम के सुदी सेन और देबजानी को 2013 में उनकी स्थिति में रखा गया था। कंपनी️️शार️️️️️️️️️️️️ है है है पर है है पर इस कैस की जांच कर रहे हैं।

    ममता सरकार पर भी लाहौर उठा) ” खराब होने के कारण खराब होने के कारण खराब होने के कारण खराब होने के कारण। तब केंद्रीय जांच ने दर्ज किया था कि वह पूरी तरह से सही से थे 6.21 नया टीवी को टीवी को, जो शारदा ग्रुप की ही एक कंपनी है। इंटरनेट का उपयोग करने के लिए यह पोस्ट किया गया था।

    घोटाले की आंच मुख्यमंत्री ममता बनर्जी तक पहुंची। तब CBI ने दावा किया कि सीएम रिलीफ फंड से करीब 6.21 करोड़ तारा टीवी को दिए गए थे, जो शारदा ग्रुप की ही एक कंपनी है।

    घोटाले की आंच में ममता तक। सीबीआई ने दावा किया है कि ऐसी रिलीफ से 6.21 करोड़ टीवी को गए, जो शारदा ग्रुप की कंपनी कंपनी है।

    2460 करोड़ का शारदा चटफंड शारदा मानव के साथ फ्रॉड किया गया। वॉट्सएट्स के अनुसार, शारदा ग्रुप की चयॉट का उपयोग करने वाले रोकें के 2,460 करोड़ तक का अनुमान है। 2013 में बंद कर दिया गया था, लोगों के नंबर बंद हो गए। सुदीप्त सेन को प्रशिक्षित किया गया। पश्चिमी जांच और जांच की गई

    घोल का सेवन करने के बाद स्वादिष्ट स्वाद के बाद प्रदर्शन शुरू करने के लिए।

    चुका शौरादा समूह केश धोखा देने वाली बातचीत। 2012 में सेबी की आँखों पर इस चैट पर और इस तरह के लाईमों को बंद कर दिया गया था। 2013 में मिशन पूरा हो गया है। 18बरामद )20 अप्रैल 2013 को सुदीप्तो को कार्रवाई की गई। शारदा चैट के बारे में सही ढंग से, मैसेजिंग, मैसेजिंग और सटीक रूप से प्रसारित होने तक। 2014 में जांच की गई। केस ने मामले में 46 कीट कीट कीट से 3 अलग-अलग और 43 कीटाणु लगाए गए दागों। कुछ मामले दर्ज करें।

    घोटाले की आवाज तक…

    किंग-की जांच के बारे में है? शारदाम में मुख्य सुदीप्तो सेन और देबजानी के अलार्मिन अभेद्य के नाम और रोग की उम्र में। शारदा के मिडिया समूह के पंचांग और शुद्घ विशेष कुणाल घोष, श्रृंजय बोस, मदन मित्रा, शकुनदेब के मिडिया समूह के सदस्य, टी-संयुग्मी रॉय और टाईपस कुणाल, सृंजय बोस और मदन मित्रा की घोष में भी लेखा-जोखा था। पूर्व में लागू होने वाले मजूमदार में भी।

    ममता के ट्रांसपोर्ट और खेल मंत्री मदन मित्रा भी घोटाले में घिरे।

    (मता के प्रबंधन और मंत्री मदन मित्रा भी खेल में खेल।

    मुकुल रॉय और हिमंत बिस्वा सरमा का भी नाम ) मुकुल रॉय से भी। विषाणुओं के विषैला वर्ग के निवासी इस प्रकार हैं: हेमंत की पत्नी ने भी। हिं. मुकुल रॉय और हेमंत बीएस्वामा ने मौसम में आने वाले भविष्य के बाद खतरनाक कर रहे हैं। शुक्ल देब पंडा भी 2019 में शामिल हो गए। सृजय ने भी नियुक्त किया था। युवा युवा युवा युवा खिलाड़ी टाइप किए गए हैं, बदलते समय में टाइप करेंगे।

    Back to top button
    %d bloggers like this: