POLITICS

वैक्सीनेशन के लिए निजी सेंटर्स पर जोर: केंद्र की राज्यों को एडवाइजरी

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली 4 घंटे पहले

अभी देश में बुजुर्गों, 45 साल से ज्यादा उम्र के बीमार लोगों, हेल्थ कैर और एयरलाइन वर्कर्स को टीका लगाया जा रहा है।

1 मई से 18 से 45 साल की उम्र के सभी लोगों को कोरोना की वैक्सीन लगाई जानी चाहिए। इसकी तैयारी के लिए केंद्र सरकार ने राज्यों को विशेष निर्देश दिए हैं। केंद्र ने इसके लिए ज्यादा निजी केंद्र बनाने के लिए कहा है। इसके अलावा वैक्सीनेशन के लिए सिर्फ ऑफ़लाइन पंजीकरण और केंद्रों पर भीड़ के प्रबंधन के लिए पुख्ता व्यवस्थाजाम करने के लिए भी कहा गया है।

केंद्रीय स्वास्थ्य सेक्रेटरी राजेश भूषण ने शनिवार को इस मसले पर राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के साथ हाई लेफ्टिनेंट मीटिंग की। उन्होंने कहा कि सभी राज्य कोरोना रोगियों के लिए मौजूदा अस्पताल और क्लीनिकल ट्रीटमेंट इन्फ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने की अपनी योजनाओं का रिव्यू करें।

केंद्र की राज्यों को सलाह )

  • स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी बयान में 1 मई से बड़े पैमाने पर होने वाले टीकाकरण के लिए राज्यों को निजी अस्पतालों, कंपनियों के अस्पतालों, उद्योग के साथ जुड़कर मिशन मोड पर एक्स्ट्रा प्राइवेट वैक्सीनेशन सेंटर के पंजीकरण करने की सलाह दी गई है।
  • केंद्र ने राज्यों को ऑक्सीजन वाले बिस्तर, आईसीयू बिस्तर और ऑक्सीजन की सप्लाई सुनिश्चित करने के लिए कहा है। बिस्तर अलॉट करने के लिए सेंट्रलाइज्ड कॉल सेंटर बेस्ड सर्विस शुरू करने, सही ट्रेनिंग के साथ स्टाफ की तैनाती, डॉक्टरों-नर्सों के प्रबंधन और मरीजों के लिए एपरेंस सर्विस मजबूत करने के लिए भी कहा गया है।
  • राज्यों को यह भी सलाह दी गई थी कि वे उपलब्ध बिस्तर के लिए एक वास्तविक समय रिकॉर्ड बनाएं और ऐसी व्यवस्था बनाएं कि लोगों को आसानी से बिस्तर पर सोना चाहिए। कोरोना से जुड़ी व्यवस्था में लगे हुए सहित अन्य साइलाइन वर्कर को सही और नियमित हार्डाना दिया जाएगा।

पीएम मोदी की हाई लेवल बैठक में हुआ था फैसला

का फैसला किया गया था। इसके तहत केंद्रीय ड्रग्स एमबीएक्टरी से जारी होने वाले 50% डोज केंद्र सरकार को मिलेंगे और बाकी 50% स्टॉक राज्य सरकारों और खुले बाजार में बिकनीगा। वर्तमान में देश में 45 और इससे अधिक उम्र के लोगों को वैक्सीन के डोज लगाए जा रहे हैं।

Back to top button
%d bloggers like this: