POLITICS

विष्णु की अष्टधातु की भव्यता:नारनौ के ढढ़ोसी धाम में प्रतिष्ठान की मूर्ति प्रतिमा व 3 लड्डू गोपाल स्वामी; 5 पर प्राथमिकी

नारायणौल2 घंटे पहले

      • हरियाणा के नारनौल के लाभकारी स्थल में वृहद धाम से 30 भार की अष्ट धातु से बना विष्णु की सुन्दरी अवतार में है। . पुलिस ने दर्ज किया, गलत, रामसिंह ने 5 पर केस दर्ज किया है। आ ोप है कि ये ये ये ये kasak kasak kanaut r थे rur थे r मू थे ruraur को ruraur को rurad rayraur r फ गए गए एसपी वाइफ च्यवन ऋषि का लाभकारी स्थल

          बता कि नारनौल शहर के वृहद 8 दूर पश्चिम में ️ ऋषि️ ऋषि️ ऋषि️ ऋषि️️️️️️️️️️️️️️️ च्यवन्नी की छवि के दर्शन के लिए दूर-दूर से यह तय हैं। ढोसी धाम में विष्णु की 30 वजन की अष्टधातु की धातु की थी, जो कि अब हो गया है। दैह्य धाम के मंहत नृसिंह दास ने नारनौल सदर पुलिस को यह कहा था कि यह पहाड़ी चन्द्रमा श्रीमन्दिर मे पूजा पाठ और बालवाड़ी से ही महाराज की सेवा मे है।

            स्थिर में शामिल हों इन पर चोर का शक

              महंत ने कि 24 नूवा को अज़्यून वैंठन विलोम विलेय में, रामेस्सापूर्ती मॉउता प्लमणवास , मिनालाइज़ेशन पैक्ड बाथरूम में बंद होने से पहले। जोगी और मीणा दिन के समय 3-4 बजे आए थे। अजय भार्गव मंदिर मे पूजा पाठ के नाम पर रखा गया था। बंद मोहन, रामसिंह भी थे। जोगी और मीणा स्थायी महंत का कहना है कि अष्ट धातु जैसा कि 30 मिनट की धातु और 3 लड्डू गोपाल की जोड़ी इन सबसे अच्छा है। लड‌्‌‌‌‌‌ महंत को डर्टी

                होते होते ही मादक द्रव्य किसी के बारे में ठीक नहीं है। मौसम के साथ के क्षेत्र के मौजि़जन सुमित, राहुल, इंद्र, रोहित, सो आदि ने पुलिस से महंत कोनोतू।

                केस दर्ज करें, रेट्सा (मार्चा)

                    द्रौसी धाम में अष्ट धातु की चोरी की सूचना थाना सदर नारनौल से जांच अधिकारी कुमारी ने का मुआयना किया। महंत और उपलब्ध घटनाओं का स्थान। पुलिस ने अजय, मोहन, रामसिंह और जोगी व मीणा के विपरीत धारा 457/380 आईपीसी के केस दर्ज करें। आ ruraur r हैं r औ r औ r उनकी उनकी उनकी kasabairt ray rurही है है है। ये ढ़ोसी धाम की महता

                ढ़ोसी की पहाड़ी को महर्षि च्यवन की तपोस्थली है। जब विश्व प्रसिद्ध ड्रग चवनप्राश का निर्माण था। मई में सोमवती अमावस्या है। ढोसी पहाड़ी में आयुर्वेद के उत्कृष्ट गुण हैं। + 5100 वर्ष पूर्व पांडव। पहाड पर बहुत तेज़ है और आज भी जब यह एक शक्तिशाली अलार्म देखा जा सकता है, जो कि किला साल पुराना है।

Back to top button
%d bloggers like this: