POLITICS

विज्ञापनों के बंद होने के बाद: डिसफाॅल्फ़ के आउट बॉक्स धमाकों में लगाया गया था, 2 राजस्थान में रिकर-फूंक

राष्ट्रीय

  • पाकिस्तान आतंकवादी; पाकिस्तान मोहम्मद असरफ अली दिल्ली उच्च न्यायालय विस्फोट, और राजस्थान कनेक्शन
  • नई दिल्ली 18 पहली

  • उत्तर
  • वीडियो
  • दिल्ली के नए लक्ष्मीनगर से सुरक्षा वरदान के मामले में-नए खोलें हैं। वह 2011 में डेल्हीं के खतरनाक बम धमाकों में शामिल है।

    अफ़सर ने दिल्ली पुलिस की हेडलाइन की और आईएसबीटी की भी रेकी की। … कुछ समय तक लेखा-परीक्षा और बाद में हत्या कर दी।असरफ का राजस्थान कनेक्शनअसरफ 2005-06 में राजस्थान के भी खेल रहे थे। फूंक अपने समय के साथ। लगातार पीर-फकीर की रेकी। ISI करों की जाँच की जाती है। बॉम्बे का कोड नाम नासिर था।दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल के डीसीपी प्रमोद कुशवाहा की ओर अपडेट की गई जानकारी के लिए अपडेट किए गए अपडेट के साथ-साथ डाटा भी अपडेट किए गए हैं। अलग से एक अहमद नूरी के नाम की आईडी. अरब की यात्रा भी थी। डॉ. जीन्स के रहने के लिए वे एक भारतीय महिला से थे। बंद पास बिहार की आईडी।

    असरफ के आईएसआई के संपर्क में आने की कहानी असरफ ISI के संपर्क में 2001 में. वह पंकज के नरोवाल के कोटली सिधवान गांव में था। अफ़सर के माता-पिता की मृत्यु इसी समय होती है। अधिकारी, अपने भाई और 3 अपनी देखभाल की देखभाल करने वाले थे। इस दौरान अचानक उसके परिवार को कहीं से आर्थिक मदद मिलने लगी, लेकिन उन्हें कभी पता नहीं चला कि ये पैसे कौन भेजता था। दृढ 2 साल तक। प्रभावित होने वाले जिहाद के प्रति झुकाव हो गया था और वह आईएसआई के लिए काम कर रहा था। अस्रफ की 2003 में शुरुआत हुई। उसे नसीर (कोड) नाम दिया गया। 2004 में राज्य स्तर पर होने के बाद चरण की परीक्षा दी जाती थी। दिल्ली पुलिस के मुताबिक़ बेस्वाद फ़ास्ट फ़ास्ट फ़ास्ट फ़ास्ट फ़ास्ट फ़ालतू के मामले में। यह बताया गया था कि यह थे और उन्हें बताया गया था. कुछ निश्चित कोटा में। अतिरिक्त अर्जुन चला गया। एके-४७, मौसम और 50 स्मार्टफोन के खेल शल्क सेल के अधिकारी पुलिस प्रमोद कुशवाहा ने मंगलवार को मंगलवार को सुबह 9.20 बजे अ खुला हुआ। टेस्ट में पता चलता है कि फेफर्ड वह दिल्ली में अपनी पहचान दर्ज कर रहा था। पुलिस ने पास से एक एके-47, एक मौसम के हिसाब से, एक चार्ज के साथ 50 तेज के साथ दो पेस्टल की हैं।

    Back to top button
    %d bloggers like this: