POLITICS

लोकतंत्र में कोई भी संस्था नहीं: कानून मंत्री के सामने कॉलेजियम पर बोले सीजेआई चंद्रचूड़, रिजिजू ने की थी आलोचना

  • हिंदी समाचार
  • राष्ट्रीय
  • सीजेआई डी वाई चंद्रचूड़; भारतीय संविधान दिवस; भारत में कॉलेजियम प्रणाली; कानून मंत्री किरेन रिजिजू; उच्चतम न्यायालय

नई दिल्ली4 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

कॉलेजियम सिस्टम पर उठ रहे हैं सवालों के बीच चीफ जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने बड़ी बात कही है। सीजेआई ने कहा कि लोकतंत्र में कोई भी परतंत्र संस्था नहीं होती। हमें मौजूदा व्यवस्था के भीतर ही काम करना है। न्यायधीश सिपाही होते हैं जो संविधान लागू करते हैं।

संविधान दिवस की पूर्व संध्या पर सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन द्वारा आयोजित कार्यक्रम में बाले थे। खास बात ये है कि जस्टिस चंद्रचूड़ जब कॉलेजियम को लेकर अपनी बात रख रहे थे, तब कानून मंत्री किरेन रिजिजू भी मौजूद थे। बता दें कि कुछ दिन पहले ही रिजीजू ने मौजूदा कॉलेजियम सिस्टम पर सवाल पूछे जाने पर इसे अपार बताया था।

CJI बोले- जजों की कमाई सक्सेसफुल एडवोकेट से भी कम
CJI ने कहा- केवल अच्छे लोगों को न्यायपालिका में लाना कॉलेजियम में सुधार का काम नहीं है। आप जजों को कितना भी अधिक भुगतान करें, इस एक दिन में एक सफल सदस्य की कमाई का एक अंश होगा। CJI ने कहा कि लोग सार्वजनिक सेवाओं के प्रति निष्ठा की भावना के लिए जज बनते हैं। यह अंतरात्मा की कही जाती है।

छोटे के ड्रेस कोड पर पहुंचें
इस दौरान उन्होंने सबके ड्रेस कोड पर भी अपनी राय रखी। CJI ने कहा कि वकील कॉलोनियल पीरियड की अभी ड्रेस पहन रहे हैं। ग्लोबल स्थायी के कारण भारत में गर्मी अधिक है, ऐसे में उन लोगों के लिए एक ड्रेस कोड पर कूदना चाहिए। उन्होंने कहा- मैं ड्रेस को हमारे जीवन, मौसम और समय के अनुकूल बनाने पर विचार कर रहा हूं। ड्रेस पर सख्ती से महिलाओं की नैतिक पहरेदारी नहीं होनी चाहिए।

अगले हफ्ते से सभी बेंच में 10 जमानत याचिकाओं पर सुनवाई
उन्होंने कहा कि अगले हफ्ते से एक ऐसा सिस्टम लागू किया जाएगा, जहां हर एक बेंच 10 जमानत याचिकाओं पर सुनवाई करेगी। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में अभी करीब 3 हजार केस पेंडिंग हैं। जस्टिस चंद्रचूड़ ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट में 13 अभी बेंच है। कोशिश है कि सर्दी की छुट्टी से पहले हर रोज 130 मामलों की सुनवाई की जाए। उन्होंने कहा कि कोर्ट ये निश्चित करना चाहता है कि जमानत के सूचीबद्ध मामले हो और जल्द ही रजिस्टर हो जाएं।

कानून मंत्री ने ऑनलाइन कोर्स शुरू किया
कार्यक्रम के दौरान केंद्रीय कानून मंत्री किरेन रिजिजू भी मंच पर मौजूद थीं। उन्होंने भारतीय संविधान दिवस के पोस्टर पर ऑनलाइन पाठ्यक्रम शुरू किया। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार को 8 साल हो गए, लेकिन सरकार ने कभी भी न्यायपालिका के सम्मान को चोट पहुंचाने वालों को कोई बात नहीं की।

कानून मंत्री ने कहा- हम न्यायपालिका को और मजबूत बनाने के लिए सब कुछ करेंगे। कार्यपालिका और न्यायपालिका एक ही माता-पिता (संविधान) की पवित्रता हैं। आपसी टकराव का कोई फायदा नहीं।

संविधान दिवस के मौके पर पीएम मोदी भी शामिल होंगे
बता दें कि शनिवार को संविधान दिवस के दिन सुप्रीम कोर्ट में एक कार्यक्रम का खुलासा होगा। इसमें पीएम मोदी भी शिरकत करेंगे। वे यहां ई-कोर्ट प्रोजेक्ट के तहत कई नई शुरुआत करेंगे। ई-कोर्ट प्रोजेक्ट अदालतों की निर्णय क्षमता के माध्यम से आवेदकों, सभी और न्यायपालिकाओं को नौकरी प्रदान करने का एक प्रयास है।

Back to top button
%d bloggers like this: