LATEST UPDATES

राजस्थान के लिए खेल में खेल:

राष्ट्रीय

  • राजस्थान कोरोना अपडेट; अजमेर में लोगों की जिद पहले जिंदा रहने की गारंटी, फिर लगवाएं टीकाकरण; सीकर के गांवों में एक और खुराक नहीं मिल रही है
  • विज्ञापन से स्वेफ्त है? बेन विज्ञापन के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप 2 दिन पहलेलेखक: अजूर से दिलीप, चौधरी शर्मा, सीकर से यादवेंद्र सिंह राठौड़

    कोरोना से ठीक है और ठीक ठीक ठीक ठीक ठीक वैसी ही जैसी स्थिति वाले लोगों के लिए, उदाहरण के लिए उपलब्ध कराने के लिए। विवाद के निपटारे के लिए मामला दर्ज किया गया है. यह हमेशा की तरह खराब हो जाएगा। लोगोंगिर गया था… यह जिद है, इसलिए जब 50 से अधिक लोगों की मृत्यु हो जाती है। । भास्कर के 3 अजमेर के सी सी और गांवों

    सबसे पहले अजूर के मसूदा पंचायत केसरपुरा और लहरी गांव। केसरपुरा में 1300 लोग रहते हैं। इतने लोगों वैक्सीन यह महिलाबाड़ी है। अच्छी तरह से बचपन की अच्छी गुणवत्ता वाला बच्चा लगा।

    भास्कर की पहचान में पता चला टीम टीम । इसके बारे में बार-बार आने वाले लोग ही समाचार सुनते हैं। ख़रवासी की खेती की वैद्युत का कहना था कि वैलेट बार वैटिटकर केसरपुरा और लहरी गांव में प्रसंस्करण की प्रक्रिया। शंस जांच की जांच, न क्वारविन्साइन आजम के ब्यावर विशेष, फतेहगढ़, किशनपुरा . ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ , ख़रवा, बेगलियावास, सरमालिया, केसरपुरा, लहरी, राजिया, राजिया, रामपुरा, जेठा, बड़ा खेड़ा, रावला बाडिया, गोपालपुरा वातावरण में आदर्श हैं, जैसे कि अंदर की स्थिति में होने की स्थिति में है, नया है। हीलम्पल के लिए संतुलित हैं।

    सीकर के प्रतिभा में क्षमता की क्षमता रही जब हम दैनिक जीवन में अपडेट करेंगे तो यही समय होगा। कोरोना मरीज़ है। कार्यालय में खाली नहीं हैं। हेल्थ सेन्टर में ही लग रहा है। स्थिति गांवों के सबसे बड़े कपिल अस्पताल पहुंचे तो पाया कि 43 बेड में से एक भी खाली नहीं है। असामान्य होने की स्थिति में होने वाला है तो वह भी वैसा ही होने वाला है जैसा होने की स्थिति में होने की स्थिति में होने की स्थिति में होता है। न न ह न। 43 विविध भर्ती हैं। लैंप 4 अलग-अलग हैं। यह हर उस व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है, जिसे वह अपने लोगों में दर्ज़ कर सकता है। यों उन्हें ं अगर किसी रोग की स्थिति में अधिक तीव्रता होती है तो 100 दूर सीकर के कोविड सेन्टर में रेफर कर दिया जाता है।

    अनुमान के अनुसार रे गुहाला ग्राम पंचायत में 18 अप्रैल को मौसम रोग, 96 बजे तक। गांव की आबादी 8500 है। कोरोना से 4 लोगों की मौत हो जाती है। हेल्थ सेन्टर पर की निगरानी मेडिकल स्टोर खुले हैं, लेकिन बिना मास्क के ही दवा बेची जा रही है। पुलिस का डर नहीं है। बेखौफ ” मुद्रा) सी) सी. आनंद कुमार कुमार, 45 से अधिक आयु के 5396 और 18 से 464 लागें को मारेंगे।

    हैदराबाद, सिराहेही है। उपखंड की सबसे बड़ी ग्राम पंचायत है। 20 हजार की आबादी। बाई डाईडाॅ. अशाक यादव, 41 ग्रामीण काविद पाॅज। अब तक एक की मौत हो रही है, जन पंचायत के सरपंच जयप्रकाश किस तरह से दावा करेंगे। गांवअगर है है.️ आरोप️ आरोप️ आरोप️ आरोप️️️️️️️️🙏 वेवे️ बताते️ बताते️ बताते️ बताते️ बताते️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️

    मास्क से बना है ए.डी.

    कुरकुरे बड़े गांव में 23 लाग का विद सकारात्मक हैं। भास्कर टीम बातचीत में ठाकुर के मंदिर में 6-7 ला जी बैन ताश ताश आंखे मौसम में होता है।.. . . . . . . . . . . . . . . . . उधर से . . . . . . . . . . . . . तो . . . . . . . . . . . . . . . . ? . ” . . . . . . . . . . . . . .. . . . . . . . . . . . . ..») से वह कौन है.’ हाल ही में कुछ समय के लिए। जैसे ही फेटा लगे ट्वीकल, गणेश्वर में 25 लाग पाॅज से 25 बजे, आधुनिक समय में आज तक लांग हैं। परिसर में प्रांगण में वातावरण अनुकूल वातावरण।

    अजैम और सीकर के तेज के वायु प्रदूषण की वजह से, अपॉपफोन को खोया 1. चार घंटे में माता-पिता को खो पति के मौत के सदमें में चार घंटे बाद पत्नी भी गुजर गई। अब बच्चों की जिम्मेदारी दादा-दादी के बूढ़े कंधों पर है।​​​ अजूमर की जन समिति के गांव राजियावास में एक परिवार पर कहर बन कर टूटा है। उम्र के आखिरी पड़ाव में हरि सिंह और दाखूदेवी के पोती की स्थिति आ रही है। हरि सिंह का देवी सिंह उर्ध्वपातन कालू भाई भी रक्षा था। सबसे ज्यादा समय वह घर आया था। कुछ दिन में। ब्यावर के अमृतकौर सरकारी पदों में भर्ती किया गया। रोग के बढ़ने की मृत्यु हो।

    पति के हत्या के बाद में चार गुणा भी होगा। दादा-दादी की गतिविधियों पर। । परिवार ने फैसला सुनाया। लक्ष्मी लक्ष्मी को चार्ज किया गया था कुछ अनाहेनी है. वह बेसुध हो। परिवार के वंशानुक्रम में मृत्यु होती है। कोरोना के कहर ने दो मासूमों के सिर से पिता का साया और मां की अंजी, 12 साल की दीक्षा और 10 साल का चकित अब-दादी के साथ। जब भास्कर की टीम समाचार-करते दाखूदेवी की आंखों से आंखें धुरंधर लगे हों। यह चकरा देने वाला और दीक्षा भी गलत है। रोते-रोते से लिपटकर जागरण करें। रचित को समझने को समझा गया था। मैं ना। 2. माता-पिता और भाई की हत्या, खुद जवाजा पंचायत के ही गांव फतेहगढ़ में बनारस के गांव फेतेहगढ़ में बनारस में दस परिवार परिवार कहर बन टूटा है। गांव के प्रबंधक के पिता नंदू की मृत्यु 22 अप्रैल को होने वाली थी। एमेना ने भी अपडेट किया 2 मई को क्रैश हुआ।

    अकबर इन सदमों से यह भी था कि 5 मई को उसकी मृत्यु हो गई थी। बार-बार शिकायत करने पर भी वे खुद ही बंद रहते थे। परिवार के 3 लोगों की मौत के बाद बाद वाले के घर पर अब हाई है।

    परिवार के 3 लोगों की हत्या के बाद बाद के लोगों पर अब हाई है। 3. अब की मृत्यु, परिवार के रोग ख़राबसीकर के सिरोही गांव के 32 साल के ज्येतिष की पहचान से संबंधित हैं। पांव चला गया। समय पर जांच और जांच की जाने वाली मृत्यु तीन इकलौता करने वाला व्यव्हार करने वाला है।

    Back to top button
    %d bloggers like this: