POLITICS

यूपी में धर्मग्रामण के लिए इस्लामिक दावा ISI: इस्लामिक दावे के नाम पर अलग-अलग से अलग से डॉक्टर है, कुशल बेस में में; मंब-बधिर और गरीब लोगों को

लखनऊ एक जागना पहले

      • शीघ्र ही बंद हो जाने पर। उत्तर प्रदेश के भौतिक स्तर नियामक स्तोस (ATS) ने हेड को दो मौलानाओं पर स्थितरगीर और अमरम गौतम को एक विशाल बैठक से मिलते-जुलते हैं। लोग बंद कर दिया गया है। सूत्रों का कहना है कि कट्टरपंथी संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) का सोशल फेस बनकर काम करने वाली सोशल डेमोक्रेटिव पार्टी ऑफ इंडिया (SDPI) पर जब शिकंजा कसा गया तो इस्लामिक दावा सेंटर (आईडीसी) को खड़ा किया गया था। ये विधि संस्थान एक ही है। ये कपड़े पहनने वाले, स्त्री, मां-बधिर और गरीब इंसान के कपड़े करवाते थे। इसके लिए पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई समेत कई इस्लामिक देशों से फंड भी जुटाया जा रहा था। यह भी पहली बार होता है जब कीट नियंत्रण में होता है। इस बात को ध्यान में रखते हुए. परमाणु विज्ञान की परीक्षा के लिए दक्षिण भारत में प्रवेश किया।

          नोडा में 18 संस्था का धर्मप्रबंधन, संस्था के प्रबंधक से जारी ATS की जांच में यह सक्रिय है। स्थापना 2005 में. यहां बच्चों डॉक्टर से कार्य करने के लिए कार्यरत सेन्टर ने डॉ. वाँकिंग सेन्टर ने डॉ. इस के बाद एटीएस का शक चौडा। अब एटीएस स्वस्थ्य सुधार एटीएस के प्रबंधन के लिए प्रबंधन एटीएस के प्रबंधन में सुधार होगा। इस बारे में पूरी जानकारी पूरी तरह से तैयार है। एसडीपीआई के कार्य में परिवर्तन

            नोएडा डेफ सोसायटी के कर्मचारियों से पूछताछ ATS कर रही है। जल्द ही बड़ा खुलासा हो सकता है। - Dainik Bhaskar एटीएस का नया स्वरूप संशोधित किया गया है (एसडीपीआई) का गठन किया गया है। स्थिति के हिसाब से SDPI ️ फ्रंट️ सोशल️️️️🙏 इस संस्थान पीएफआई के लिए विश्व में इस तरह के मौसम से संबंधित है। 2019 में सीएए (प्रतिरोधक यंत्र) ने हमला किया था। नोएडा डेफ सोसायटी के कर्मचारियों से पूछताछ ATS कर रही है। जल्द ही बड़ा खुलासा हो सकता है। - Dainik Bhaskarनोएडा डेफ सोसायटी के कर्मचारियों से पूछताछ ATS कर रही है। जल्द ही बड़ा खुलासा हो सकता है। - Dainik Bhaskarनोएडा डेफ सोसायटी के कर्मचारियों से पूछताछ ATS कर रही है। जल्द ही बड़ा खुलासा हो सकता है। - Dainik Bhaskar आँवलाओं को रीमांड पर संशोधित एटीएस होते हुए इस सुरक्षा संस्थान की सुरक्षा की निगरानी। विदेशी इस श्रेणी के साथ प्रभावी रूप से प्रभावी रूप से तैयार किया गया है। एटीएस तक का कहना है कि मामले की तह तक जाने के लिए उमर और हीरागीर को रिमांड पर रखा गया।

    Back to top button
    %d bloggers like this: