LATEST UPDATES

मीनाक्षी लेखी बोलीं

दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) चुनाव की सरगर्मी तेज है। ऐसे में दिल्ली जनता किसे अपना आशीर्वाद देगा ये तो आने वाला नींद ही यादगार, लेकिन उससे पहले प्रदेश के सियासी मिजाज को समझने के लिए आजतक ने ‘एमसीडी पंचायत’ कार्यक्रम रखा है, जिसमें बीजेपी नेता और केंद्रीय राज्य मंत्री मीनाक्षी लेखी ने शिरकत की। इस दौरान उन्होंने बताया कि दिल्ली में कूड़े के पहाड़ कैसे बने और इसके लिए कौन जिम्मेदार है?

दिल्ली में कैसे बने कूड़े के पहाड़

कूड़े के पहाड़ हटाने के सवाल पर मीनाक्षी लेखी ने कहा कि कूड़े के पहाड़ हटाने का काम शुरू हो गया है। दिल्ली में आज बीस मीटर के पहाड़ कम हो गए हैं। उन्होंने कहा कि कूड़े के पहाड़ क्यों बनते हैं, इसे भरेंगे। लोग अपना वेट कूड़ा और सूखा कूड़ा अलग-अलग नहीं करते हैं। दूसरा ये कि कूड़े का पहाड़ दो चार दिन में नहीं बना बल्कि 70 साल में हुआ है। 70 साल तक दिल्ली की जो व्यवस्थाएं चल रही हैं, उसके चलते कूड़े के पहाड़ बने हैं।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि हम लोग अब प्रशासन में आ गए हैं। दुनिया भर में विकसित होने वाले शहर हैं, उनमें से सभी के अंदर लैंडफिल साइट थी। उन्हें नई टेक्नोलाजी और नई व्यवस्थाओं के जरिए ठीक किया गया। अब नई तकनीक और नई व्यवस्था के जरिए दिल्ली में 70 प्रतिशत वेस्ट एनर्जी प्लांट में जा रहा है। उससे कूड़ा पहाड़ में नहीं जा रहा है। इसके चलते आज बीस मीटर के पहाड़ की ऊंचाई कम हो गई है। आने वाले समय में कूड़े के पहाड़ कम हो जाएंगे।

कूड़े का पहाड़ नहीं, जनता ने बनाया

मीनाक्षी लेखी ने कहा कि कूड़े के पहाड़ ने नहीं बल्कि दिल्ली की जनता ने जनरेट किया है। कूड़े को पहले नष्ट करने की व्यवस्था नहीं थी, जिसके कारण एक जगह डंप कर देते थे। इसके कारण कूड़े के पहाड़ बन गए हैं, लेकिन अब टेक्टनालाजी बदले और समाज बदले। नया टेक्टनालाजी को लागू करने में जो रिसोर्सेस राइट्स को चाहिए था एम्हायरबुक सरकार ने चेक किए गए चुने हुए विकल्पों को नहीं देखा। ऐसे में केंद्र सरकार ने शहरी विकास मंत्रालय और स्वच्छता अभियान के माध्यम से धन की व्यवस्था का प्रबंध किया, जिससे दिल्ली के कूड़े को नष्ट करने का काम किया जा रहा है।

बीजेपी नेता और केंद्रीय राज्य मंत्री मीनाक्षी लेखी ने कहा कि बीजेपी न तो किंग्स की पार्टी है और न ही राजों की तरह व्यवहार करने वाले नेताओं की पार्टी है। भाजपा उम्मीदवार की पार्टी और लोगों की पार्टी है। उन्होंने कहा कि बेहतर करने वाले लोग दिल्ली में बसते हैं। दिल्ली में बहुत आय वर्ग से नहीं है, लेकिन दिल्ली में रहने वाले लोग अपने बच्चों को आईपीएस और आस बनाने के ख्वाब रखते हैं। यही बात दिल्ली और दूसरे राज्यों से अलग करती है।

दिल्ली में 15 साल तक काम करने का मौका दिया है तो कुछ विश्वास ही रहा होगा। टिकट बदलाव के सवाल पर उन्होंने कहा कि वार्ड घुमा रहे हैं और अनुपात बदल रहे हैं। पार्टी की एक व्यवस्था है। उस अनुबंध से टिकट दिए जाते हैं।

ब्लॉगर की जान के खतरे के सवाल पर मीनाक्ष लेखी ने कहा है कि मनोज तिवारी एक गायक और अभिनेता है। वोट रचनात्मक है। ताहिर हुसैन और अमानत उल्ला खान से खतरा है। सात साल के अंदर उनके 49 चहरे के मुकाबले 169 मामले हैं। कोर्ट से कोई बहुत होता है तो उसे बीजेपी चैनल नहीं करता है। पुलिस केंद्र सरकार के पास है। सत्येंद्र जैन के सवाल पर कहा कि जो लोग दुनिया को बेमिसाल शर्ट सर्टिफिकेट देते हैं। छह महीने से उनके मंत्री जेल में बंद हैं। उनका इस्तीफा नहीं लेते हैं। जेल में मौज कर रहा है। जेल में रिजार्ट नहीं है। कोई सरकारी नौकर होता है तो सस्पेंड हो जाता है। सत्येंद्र जैन को क्यों मंत्री पद से नहीं हटा रहे हैं, क्लोजर की क्या मजबूरी है।

Back to top button
%d bloggers like this: