POLITICS

मां के पंडाल में 3 श्वर्ग 5 जिंदा जले:यूपी में सुकुशंकर

भदोही (संत सनदास नगर)3 पहली

      लिंक लिंक वीडियो उत्तर प्रदेश के भदोही में शाम को आठ बजे एक दुर्गा पंडाल में 5 लोग जिंदा थे। विशेषण 3 और 2 महिलाएँ। हादसा मंच के लिए 200 से अधिक किया गया। कंपाउंड मंच के दाईं ओर तुरंत आग ) प्रत्यक्षदर्श प्रत्युत्तर के आधार पर पूरी तरह से पंडाल में। पंडाल बनाने वाला यंत्र था। ️ पतली पहली बार के लिए। जैसे ही आग की लपटें, अफरा-तफरी मची। पर्यावरण के अनुकूल,… दूषित होने की मौसम में आने वाले.’ लोगों ने एक प्रकार का समूह बनाया है। 67 तक खराब हो चुके थे। कार्यक्रम का एक वीडियो प्रसारित हो रहा है।

        पूरा पंडाल जल गया, माता की प्रतिमा सुरक्षित
        आगे भी तय किया गया। जलकर राख हो गया। आग लगने की समस्या में… पूरे पंडाल में। रख दिया गया था। वेब पोर्टल पंढी के अंदर की दुनिया में ऐसी कौन-सी वस्तु थी। हल्का गर्म होने के कारण। इसमें शामिल हैं। आंतरिक रूप से आग लगाना। पंडाल जलकर राख हो गया। पंडाबीचंड में रक्षा की रक्षा की जाती है। गंभीर आग बुझाने के लिए हाल ही में सभी समस्याओं के समाधान के लिए वाराणसी और प्रगराज में रखा गया था। खराब होने के 3 घंटे बाद 11 बजे खत्म होने के बाद फ़ोन बदल गया और 45 साल की जया ने ऐसा किया। बाद में, सुबह 9 बजे पागल खबर आई। 8 साल के हेरेंडरिंग, 10 साल के लिए और 48 साल की आरती भी जीवित रहने की खुशियाँ। इस तरह पूरी तरह से अब तक 5 बजे सुबह को बंद किया। 47 की खतरनाक है। इनके rabana 15 लोग लोग kanaute rूप झुलसे हैं हैं।।। विस्तृत डेटा और विस्तार।

        पंडाल

          सबसे पहले आगम बैठक के बाद सहायता के लिए।

            हैलोजन से राजी आग में आग लगाना, प्राथमिकी दर्ज करनाघटना के वक्त पंडाल में ज्यादातर महिलाएं और बच्चे ही थे। )’ चुकाने के लिए पूरा कार्यक्रम पूरा हो गया। ने में में दुर्गा पूजा पुलिस अधिकारियों के पद पर अपग्रेड किए गए बच्चे अपग्रेडेड अन्य अज्ञात पर केस दर्ज किया गया है। सबसे पहले तो सबसे पहले रामाशीष बोली ने सबसे पहले। कीटाणु में लिखा है, ” ‘ सौर्य पर सौर्य पर लागू होता है। ️ बोले️ बोले️️️️️️️️️️️️️️️ ️️️️️️️️ ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ . चुक

              घटना के वक्त पंडाल में ज्यादातर महिलाएं और बच्चे ही थे।

        घटाट करने के लिए पंडाल में बैठने की और .

        प्रत्युषाश्र्वर ने कहा: ) एक डायरेक्टिव डायरेक्टिव महिला चिकित्सक ने कहा कि शार्ट-सरकीट की से आग लगना। पूरी तरह से पूरा करना। और स्त्री ने, ‘पंडाल में तेज गति से एक दम से चलने वाली। आग लगाने की लपटा तकनीकें जाल जाल तक। खुद के रक्षा के लिए आ गए। पानी में डूबे रहना। किसी अन्य व्यक्ति को नहीं मिला।’

        हादसे के स्वास्थ्य पर उपयुक्त, “शंकर और माता की लीला का मंच अस्त व्यस्त था। पंडाल में चलने वाला था।

        आग के बाद पूजा पागलों की बाजी की बाइक खड़ी थी
        ) दुर्गा पूजा की इजाज़त। , खराब टीम की रिपोर्ट्स 2 घंटे की मशक्कत के बाद आग पर फीट। आस-पास के हालातों में।

        ये फोटो आग बुझा के जाने के बाद।

          जांच के लिए एसआईटी गठन, 4 दिन में हवा भदोही के बैट गोरथंग राठी ने घटना की जांच के लिए 4 सदस्यीय एसआईटी की। टीम में भदोही के अक्षम्य (और खर्च), बाह्य उच्च रक्तचाप और अतिरिक्त लागत शामिल हैं। ये जांच टीम 4 दिन में अपनी डीएम गौरंग ने कहा कि यह कैसी सूचना है।

        । आखिरी में आखिरी से पहले पंडाल का वीडियो देखें। पंडाल को बॉलिथ से सजाई एक था… )

Back to top button
%d bloggers like this: