POLITICS

महाराष्ट्र में मुस्लिमों का सर्वे कराएगी एकनाथ शिंदे की शिवसेना और बीजेपी की सरकार

Muslim Survey in Maharashtra: भाजपा प्रवक्ता केशव उपाध्याय ने कहा कि यह सर्वेक्षण ‘सबका साथ, सबका विश्वास’ पर उनकी पार्टी के फोकस का प्रतिबिंब है।

Muslim Survey in Maharashtra: महाराष्ट्र में एक तरफ एकनाथ शिंदे गुट शिवसेना पर नियंत्रण के लिए अपने हिंदुत्व की साख को साबित करने की कोशिश कर रहा है। इस बीच राज्य सरकार के अल्पसंख्यक विकास विभाग ने राज्य के 6 राजस्व विभागों के 56 शहरों में मुस्लिम समुदाय की सामाजिक, शैक्षिक और आर्थिक स्थिति पर एक अध्ययन शुरू करने की घोषणा की है। यह अध्ययन उन शहरों में कराया जाएगा जहां मुस्लिम आबादी ज्यादा है। यह अध्ययन टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज (TISS) करेगा।

कुछ लोग जहां महाराष्ट्र सरकार के इस कदम को मुस्लिम समुदाय की ओर पहुंच बढ़ाने की ओर एक कदम के रूप में देख रहे हैं जबकि अन्य इसे शिंदे गुट की उद्धव ठाकरे सेना की तुलना में खुद को अधिक हिंदू के रूप में पेश करने की कोशिश के रूप में देख रहे हैं। गौरतलब है कि मुस्लिम आबादी के समर्थन से महाराष्ट्र में आगामी बीएमसी चुनावों के परिणाम निर्धारित हो सकते हैं।

मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे खुद अल्पसंख्यक विकास विभाग का नेतृत्व करते हैं। वह अक्सर इस बात पर प्रकाश डालते रहे हैं कि यह उद्धव ही हैं जिन्होंने कांग्रेस और एनसीपी जैसी धर्मनिरपेक्ष पार्टियों के लिए भाजपा को छोड़ कर अपने पिता बाल ठाकरे के सिद्धांतों से समझौता किया था।

मोहन भागवत और उमर अहमद इलियासी की मुलाकात: अध्ययन की शुरूआत मुस्लिम समुदाय तक पहुंचने के आरएसएस के दबाव के अनुरूप है। हाल ही में हिजाब, मदरसा सर्वेक्षण और ज्ञानवापी मस्जिद विवाद जैसे मुद्दों पर मुस्लिम समुदाय का अलगाव बढ़ रहा है। पिछले महीने आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने मुस्लिम बुद्धिजीवियों के साथ एक बैठक की थी, जिसमें दोनों पक्षों की चिंताओं पर चर्चा की गई थी। इसके बाद उन्होंने पिछले हफ्ते अखिल भारतीय इमाम संगठन के प्रमुख उमर अहमद इलियासी से भी मुलाक़ात की।

अंतिम फैसला मुख्यमंत्री का: सूत्रों का यह भी कहना है कि सरकार ने चाहे मुस्लिम सर्वेक्षण आदेश दे दिए हों, लेकिन इस मामले में आगे बढ़ने की संभावना नहीं है। एक वर्ग इस आदेश के क्रियान्वयन को लेकर अनिश्चित बना हुआ है। विभाग से जुड़े एक अधिकारी ने कहा कि इस पर अंतिम फैसला मुख्यमंत्री करेंगे।

भाजपा नेता और केशव उपाध्याय का कहना है कि सर्वेक्षण ‘सबका साथ, सबका विश्वास’ पर उनकी पार्टी के फोकस का प्रतिबिंब है। उन्होंने कहा, “मुसलमान हों या गैर-मुस्लिम, हम सर्वांगीण विकास में विश्वास करते हैं। यह सर्वेक्षण इसका प्रमाण है कि समाज के सभी वर्गों को प्रगति करनी चाहिए।” वहीं, दूसरी ओर शिंदे खेमे की प्रवक्ता किरण पावस्कर ने कहा कि सरकार महाराष्ट्र और उसके सभी नागरिकों की प्रगति के लिए काम कर रही है।

(Story By- Alok Deshpande)

Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
%d bloggers like this: