POLITICS

महाराष्ट्र में डराने वाली तस्वीर: नासिक में 3 दिन भक्तने के बाद भी कोरोना पेशेंट को नहीं मिला बिस्तर, ऑक्सीजन सिलेंडर के बारे में निगम पहुंचा; समय पर इलाज नहीं मिलने से मौत हुई

विज्ञापन से परेशान है? विज्ञापन के बिना खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नासिक एक दिन पहले

  • कॉपी नंबर

महाराष्ट्र में कोरोना के बढ़ते मामलों ने स्वास्थ्य व्यवस्थाओं की पोल खोल दी है।] अस्पतालों में बेड की कमी के कारण कोरोना रोगियों को ऑक्सीजन और वेंटिलेटर के लिए एक से दूसरे अस्पताल में भटकना पड़ रहा है। नासिक में बुधवार को गंभीर रूप से बीमार एक कोरोना मरीज को जब बिस्तर नहीं मिला तो उसने ऑक्सीजन सिलेंडर के बारे में खुद नासिक नगर निगम के दफ्तर पहुंच गए।

मामले की जानकारी जैसे ही निगम के अधिकारियों को उनके हाथ-पांव फूल गए। आनन-फानन में एम्बुलेंस बुलाकर मरीज को बिटको अस्पताल के कोविड वार्ड में एडमिट करवाया गया। यहां इलाज के दौरान उसने गुरुवार को दम तोड़ दिया। जांच में सामने आया है कि यह मरीज तीन दिन पहले कोरोना पॉजिटिव था और लगातार उसकी हालत बिगड़ रही थी। घर वालों का कहना है कि कई अस्पताल में जाने के बावजूद उसे बिस्तर नहीं मिल रहा था, इसलिए मजबूरी में उसे यह कदम उठाना पड़ा। स्थानीय पार्षद का भी बिस्तर लगना का प्रयास विफल रहा उसने स्थानीय पार्षद से भी बेड मुहैया करवाने की गुहार लगाई थी, लेकिन कई प्राइवेट हॉस्पिटल में प्रयास के बावजूद उसे बेड नहीं मिला। जांच में यह भी सामने आया है कि उसने स्थानीय पार्षद से भी बिस्तर मुहैया करवाने की गुहार लगाई गई थी, लेकिन कई केंद्रीय अस्पताल में प्रयास के बावजूद उसे बिस्तर नहीं मिला। इस घटना का एक वीडियो भी सामने आया है, जिसमें शक्स नगर निगम के गेट पर बैठा हुआ नजर आ रहा है। उसके पास उसका एक रिश्तेदार खड़ा है और पास में एक ऑक्सीजन सिलेंडर रखा हुआ है।

उन्होंने स्थानीय पार्षद से भी बिस्तर मुहैया करवाने की गुहार लगाई थी, लेकिन कई प्राथमिक अस्पताल में प्रयास के बावजूद उसे बिस्तर नहीं मिला।

पिछले 24 घंटे में 3.5 हजार मरीज मिले
38 वर्षीय मृतक नासिक के सेडको के कार्यक्षेत्र क्षेत्र का रहने वाला।] वह अपने पीछे इस दुनिया में पत्नी और दो बच्चों को छोड़ गया है। नासिक में कोरोना पीड़ितों का आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है। पिछले 24 घंटों के दौरान शहर में 3 हजार 532 कोरोना पीड़ित मरीज मिले हैं, जबकि 23 मरीजों की मौत हुई है। इसी प्रकार 2 हजार 641 रोगी स्वस्थ होकर घर चले गए हैं। उसने स्थानीय पार्षद से भी बेड मुहैया करवाने की गुहार लगाई थी, लेकिन कई प्राइवेट हॉस्पिटल में प्रयास के बावजूद उसे बेड नहीं मिला। देवला तालुका में 10 दिनों का जनता कर्फ्यू ) कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए आज से नासिक जिले के देवला तालुका में 10 दिव्य लोक कर्फ्यू घोषित किया गया है। इस कर्फ्यू के दौरान आवश्यक सेवाओं को छोड़कर सभी दुकानों और आवेदनों को पूरी तरह से बंद कर दिया जाएगा। इस दौरान किराने की दुकानों को बंद करने का भी फैसला लिया गया है।

Back to top button
%d bloggers like this: