POLITICS

महाराष्ट्र में कोरोना की तेज रफ्तार: क्या एनसीपी की वजह से पूर्ण लॉकडाउन नहीं डाला पा रहे सीएम ठाकरे, मुंबई में प्राथमिक अस्पतालों के 80% बेड कोरोना रोगियों के लिए रिजर्व

विज्ञापन से परेशान है? विज्ञापन के बिना खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबई 4 दिन पहले

  • कॉपी नंबर
  • वीडियो
  • मुंबई में कोरोना की वजह से बिगड़ते हालात के बीच बृहन्मुअल म्यूनिसिपल कोर्प (BMC) ने निजी अस्पतालों के लिए नई गाइडलाइन जारी कर दी है। इसका कहना है, निजी अस्पतालों में 80% बिस्तर और 100% ICU बिस्तर कोरोना रोगियों के लिए रिजर्व रखने होंगे। कोरोना के मरीजों को वार्ड वॉर रूम से बेड अलॉट किए जाएंगे। अस्पतालों को धैर्यपूर्वक भर्ती करने से रोका गया है।

    • प्राथमिक अस्पतालों के 80% बिस्तर और सभी आईसीयू बेड कोरोना रोगियों के लिए रिजर्व रखने का निर्देश दिया गया है।
    • महाराष्ट्र सरकार ने ऑक्सीजन के इंडस्ट्रियल उपयोग पर 30 जून तक कटौती करने के आदेश दिए हैं। आदेश के मुताबिक 80% ऑक्सीजन मेडिकल यूज और 20% इंडस्ट्रियल यूज के लिए सप्लाई की जाएगी।
    • बीएमसी के अस्पतालों के साथ ही प्राथमिक अस्पतालों और नर्सिंग होम्स को फिर से कोरोना संक्रमण से सामना करना पड़ता है के लिए पूरी तरह से तैयार रहने को कहा गया है। सभी अस्पताल को अपनी ऑक्सीजन सप्लाई और वेंटिलेटर चेक करने को कहा गया है।
    • बीएमसी कमिश्नर इकबाल सिंह चहल की ओर से पीपीई किट्स, वर्क और VTM किट्स को भरपूर संख्या में जमा करने के आदेश दिया गया है।
    • प्राथमिक अस्पताल कोरोना के मरीजों को वार्ड वियर रूम की अनुमति के बाद ही भर्ती करें।
    • सभी प्राथमिक अस्पतालों को निर्देश दिया है कि अगर वे बिना लक्षण वाले कोरोना रोगियों को भर्ती किया है, तो तुरंत डिस्चार्ज करें, ताकि को विभाजित के गंभीर रोगियों को फौरन बिस्तर मिल चाहिए।
    • मरीजों को अस्पतालों में भर्ती करना बनाने और उनके लिए बिस्तर की उपलब्धता तय करने की जिम्मेदारी वार्ड ऑफिसर्स को सौंपी गई है। विशेष परिस्थितियों में डिजास्टर प्रबंधन निदेशक और चीफ कोआर्डिनेटर प्राथमिक अस्पताल के निर्देश पर मरीजों को भर्ती किया जाएगा।
    • बीएमसी ने प्रत्येक वार्ड में पांच टीम तैनात करने का निर्णय लिया है। सभी अस्पतालों से संपर्क करने के लिए BMC नोडल ऑफिसर 24 घंटे उपलब्ध रहेंगे।
    • वार्डों के असिस्टेंट कमिश्रर नजर रखेंगे कि कहीं किसी निजी अस्पताल में मरीजों को प्रत्यक्ष भर्ती तो नहीं किया जा रहा है। इस निगरानी के लिए शिक्षक या अन्य कर्मचारियों को लगाने का भी निर्देश है।
    • सभी निजी अस्पतालों के खेल को 24 घंटे के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त करने का निर्देश दिया गया है। यह नोडल अधिकारी का नंबर स्थानीय वार्ड वॉर रूम को देने के लिए कहा है, ताकि BMC को समय-समय पर जानकारी मिल सके।
    • राज्य सरकार का सुझाव है कि संकायों को आवेदन नहीं करना चाहिए पर 500 रुपए का जुर्माना लगाया जाएगा, इस पर बीएमसी को फैसला करना है। मुंबई में अभी तक फ़ंक्शन नहीं लगाने वालों से 200 रुपए जुर्माना वसूला जा रहा है।

    मुंबई में अब महज 23% बिस्तर हैं मुंबई में सोमवार को एक बार फिर 5 हजार से ज्यादा मरीज सामने आये। पिछले 24 घंटे के दौरान यहां 5,888 नए केस सामने आए और 12 लोगों की मौत हुई। यहां कुलीनों की संख्या 4 लाख के करीब पहुंच चुकी है। BMC के मुताबिक, मुंबई के अस्पतालों में अब सिर्फ 23% बिस्तर खाली हैं। ) मुंबई में ICU और बेड फुल होने की कगार पर
    सप्ताह 21 हजार बेड्स की क्षमता बढ़ाने का आश्वासन दिया गया था, लेकिन ये अब तक केवल 12 हजार 742 बेड ही उपलब्ध हो पाए हैं। 1 हजार बेड की क्षमता वाले सेवन हिल्स अस्पताल में जगह नहीं बची है। बांद्रा- कुर्ला कॉम्प्लेक्स के कोरोना सेंटर में 1 हजार बेड हैं, इनमें से 940 बेड में मजबूतीओं का इलाज जारी है। 100 बेड वाले आईसीयू में सिर्फ 9 बेड उपलब्ध हैं।

    मुलुंड के 1,200 क्षमता वाले कोरोना केंद्र में 1,056 बेडस पर कोरोनाटे रोगियों का इलाज चल रहा है। यहां आईसीयू में सिर्फ 20 बेड हैं जो पूरी तरह से भरे हुए हैं। यहां जिन मरीजों की हालत बिगड़ रही है, उन्हें दूसरे अस्पताल के आईसीयू में भेजा जा रहा है।

    राकांपा पूर्ण लॉकडाउन नहीं चाहती 🙂 के बीच पूर्ण लॉकडाउन लगाने को लेकर महाविकास अघाड़ी सरकार की तीनों पक्षों (शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस) के बीच मतभेद नजर आ रहे हैं। शिवसेना जहां इस लॉकडाउन के पक्ष में है, वहीं राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) इसका विरोध कर रही है। माना जा रहा है कि इसी कारण से कोरोना पर बनी टास्क फोर्स की ओर से लॉकडाउन की सिफारिश के बावजूद CM कोटव ठाकरे अंतिम निर्णय ले नहीं पा रहे हैं।

    एनसीपी नेता और मंत्री नवाब मलिक ने रविवार को कहा, ‘हम लॉकडाउन नहीं लगा सकते, हमने मुख्यमंत्री से अन्य विकल्पों पर विचार करने को कहा है। अगर लोग नियमों का पालन करें तो लॉकडाउन से बचा जा सकता है। इससे पहले 27 मार्च को पुणे में उप मुख्यमंत्री अजीत पवार ने कहा था कि 2 अप्रैल के बाद राज्य में पूर्ण लॉकडाउन को लेकर कोई निर्णय नहीं किया जा सकता है। ये सबके बीच महाराष्ट्र में नाइट कर्फ्यू जारी है और मंगलवार से andrang में पूर्ण लॉकडाउन शुरू हो रहा है। यह लॉकडाउन 8 अप्रैल तक चलेगा। राउत ने भी किया था लॉकडाउन का विरोध रविवार को शिवसेना सांसद और पार्टी के नेता संजय राउत ने कहा था, ‘ मैं लॉकडाउन के पक्ष में नहीं हूं। श्रमिक वर्ग, व्यवसाय और आर्थिक चक्र प्रभावित होंगे। मैं मुख्यमंत्री से बात की है और वह भी अब लॉकडाउन लगाने के पक्ष में नहीं हैं। ‘

    लोगों के हाथों को बढ़ाने का फैसला लिया गया है। राकांपा के दबाव के बाद दूसरे ऑप्शन की तलाश में जुटी सरकार BMC ने मुंबई में बिना मास्क के घूमने वालों पर जुर्माना बढ़ाने का निर्णय लिया है।

    सूत्रों की मानें तो एनसीपी का कामकाज भी नजर आ रहा है। सरकार लॉकडाउन की जगह अब कठोर उपायों को लागू करने पर विचार कर रही है। राहत और पुनर्वास विभाग के सचिव असीम गुप्ता ने एक अंग्रेजी पत्र को बताया कि वे कुछ दिनों के लिए लोगों के मूवमेंट को कम करने की प्लानिंग पर काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘यदि मामलों में कमी नहीं आई तो हम अगले चरण पर जाएंगे और कठोर उपायों को लागू करेंगे।’

    उन्होंने कहा, ‘हम ऐसी स्थिति नहीं बनाना चाहते हैं जहां प्रवासी मजदूर घबराकर घर लौट जाए। पिछले साल हुई कठिनाइयों को चरणबद्ध नहीं किया जाएगा, लेकिन नियमों का उल्लंघन करने वालों को दंडित किया जाएगा। ’

    महाराष्ट्र में 3 लाख 36 हजार सक्रिय मामला
    3 सोमवार को 31,643 नए मरीज मिले। 20,854 ठीक हुआ, जबकि 112 की मौत हुई। 24 घंटे में नए केस में 10 हजार की गिरावट देखी गई। इससे पहले रविवार को 40,414 लोग पॉजिटिव मिले थे। राज्य में अब तक 27.45 लाख लोग इस महामारी की चपेट में आ चुके हैं। इनमें से 23.53 लाख ठीक हुए हैं, जबकि 54,283 की मौत हुई है। यहां वर्तमान में 3.36 लाख लोगों का इलाज चल रहा है।

    दुनिया का 9 वां ऐसा स्थान जहाँ सबसे अधिक सक्रिय परिचय जहां सबसे ज्यादा सक्रिय परिचय हैं। शीर्ष दो देशों में अमेरिका और एमएस शामिल हैं। अमेरिका में 69 लाख 61 हजार 375 और फ्रांस में 41 लाख 68 हजार 917 सक्रिय परिचय हैं।

    होली पर मुंबई के समुद्री किनारों पर खासी भीड़ रहती है, लेकिन इस बार यहाँ सन्नाटा पसरा रहा है।

    Back to top button
    %d bloggers like this: