POLITICS

मन की तकनीक: 5 मिनट की ये फील चाहे मेडिटेशन तकनीक की ऊर्जा और उत्साह बढ़ाती है, यह महसूस करता है

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मेडिटेशन वह मानसिक व्यायाम है, जो आपके मन को शांत करता है। (सिम्बॉलिक इमेज) - Dainik Bhaskar

मेडिटेशन वह मानसिक व्यायाम है, जो आपके मन को शांत करता है। (सिम्बॉलिक इमेज)

  • ध्यान से मांसपेशियों को अधिक ऑक्सीजन मिलती है

ध्यान के दौरान शरीर में रक्त का प्रवाह और ऊर्जा का संचार बढ़ जाता है। इससे मांसपेशियों को अधिक ऑक्सीजन मिलती है। शरीर में लेक्टिक एसिड बढ़ता है, जो तनाव और बेचैनी को तेजी से छता है। मेडिटेशन वह मानसिक व्यायाम है, जो आपके मन को शांत करता है, ध्यान को एक ही जगह पर स्थिर और सतर्क करता है।

मेडिटेशन यानी एकाग्र होकर आत्मनिरीक्षण करना, खुद को पहचानने की कोशिश करना। मुंबई स्थित ‘द योग इंस्टीट्यूट’ के डायरेक्टर डॉ। हंसा जयदेव योगेन्द्र ने बताया कि पांच मिनट की एक मेडिटेशन टेक्निक ऊर्जा बढ़ाती है और मन को शांत करती है। इसके लिए कुछ देर एकाग्र ध्यान में बैठें और ऊर्जा को स्वयं महसूस करें। यह आप कभी भी, कहीं भी कर सकते हैं पहला मिनट: आराम से कुर्सी पर बैठ जाओ। पूरे अभ्यास के दौरान अपनी नाक से धीमी और गहरी सांस लें। स्थिर रहें और अपने शरीर को ढीली छोड़ें व शरीर के वजन को कुर्सी पर महसूस करें। अपनी श्वास पर ध्यान लगाएं। चार तक गिनते हुए सांस अंदर लें और चार तक ही जिन्ते हुए सांस छोड़ दें।

साँस लेना बनाए रखें। मन को शांत होते हुए महसूस करें। आनंद महसूस करें कि इस समय आप अपने साथ बैठे हैं।

तीसरा मिनट: आँखें बंद रखें 15 सेकंड के लिए स्पर्श शक्ति पर ध्यान लगाएं। अपने कपड़ाें को, शरीर पर टच करते हुए महसूस करें। अगले 15 सेकंड बाहरी आवाजों को सुनते जाओ। सुनने पर ध्यान केंद्रित करें।] फिर गंध, स्वाद और देखने की शक्ति के बारे में सोचें। बस उन्हें लगता है। चौथा मिनट: मन में विचार आ रहे हैं तो उन पर ध्यान न दें, उन्हें नियंत्रित करने की कोशिश करें न। उन्हें सहजता से आने और जानें दें। अपने विचारों को समझें पांचवां मिनट: इन से कोई भी अच्छा विचार, दृश्य, शब्द, वाक्य का चयन करें। अब सिर्फ उस पर ध्यान मिलेगा। जो भी हो वह सुंदर व उर्जादायी होना चाहिए। उदाहरण के लिए यदि आपने समुद्र तट के बारे में सोचा है तो वह सुंदर, शांत, जाेश से भरपूर हो। यह सोच आपको संतोष और खुशी देने वाला होना चाहिए।

Back to top button
%d bloggers like this: