POLITICS

भारत ने सुखोई फाइटर जेट से ब्रह्मोस एक्सटेंडेड-रेंज मिसाइल का सफल परीक्षण किया

भारत ने सुखोई फाइटर जेट से ब्रह्मोस एक्सटेंडेड-रेंज मिसाइल का सफल परीक्षण किया

यह पहली बार है जब सुखोई-30 एमकेआई विमान से मिसाइल के विस्तारित रेंज संस्करण को लॉन्च किया गया है

नई दिल्ली:

ब्रह्मोस सुपरसोनिक मिसाइल के विस्तारित रेंज संस्करण का आज सुखोई-30 एमकेआई लड़ाकू विमान से सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया. रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा, “विमान से लॉन्च योजना के अनुसार हुआ और मिसाइल ने बंगाल की खाड़ी में निर्धारित लक्ष्य पर सीधा प्रहार किया.”

जानकारी के मुताबिक ब्रह्मोस मिसाइल 2.8 मैक या ध्वनि की गति से लगभग तीन गुना की गति से उड़ान भरती है. मिसाइल के उन्नत संस्करण की सीमा को मूल 290 किमी से लगभग 350 किमी तक बढ़ा दिया गया है.


 


यह पहली बार है जब सुखोई-30 एमकेआई विमान से मिसाइल के विस्तारित रेंज संस्करण को लॉन्च किया गया है. Su-30MKI विमान के उच्च प्रदर्शन के साथ युग्मित मिसाइल की विस्तारित दूरी की क्षमता भारतीय वायु सेना को एक रणनीतिक पहुंच प्रदान करेगी, जो भविष्य के युद्धक्षेत्रों में हावी साबित होगी. 

मंत्रालय ने कहा, “इसके (परीक्षण-गोलीबारी) साथ, IAF ने बहुत लंबी दूरी पर भूमि / समुद्र के लक्ष्य के खिलाफ Su-30MKI विमान से सटीक हमले करने की क्षमता हासिल कर ली है.”

बता दें कि पिछले महीने, भारतीय नौसेना ने ब्रह्मोस मिसाइल के जहाज-रोधी संस्करण का सफलतापूर्वक परीक्षण किया था. ब्रह्मोस एयरोस्पे भारत-रूस का ज्वाइंट वेंचर है जो सुपरसोनिक क्रूज मिसाइलों का उत्पादन करता है, जिन्हें पनडुब्बियों, जहाजों, विमानों या भूमि प्लेटफार्मों से लॉन्च किया जा सकता है.

यह भी पढ़ें:

ब्रह्मोस मिसाइल के एंटी-शिप वर्जन का किया गया सफलतापूर्वक परीक्षण, देखें VIDEO

रूस ने किया नई मिसाइल का परीक्षण, पुतिन ने कहा “पृथ्वी पर किसी भी टारगेट को मारने में सक्षम”

Ukraine War: रूसी हमले से Shock में UN Chief , मारियुपोल के “ग्रहण से” नागरिकों को बचाने की कोशिशें तेज़

Watch: ब्रह्मोस मिसाइल के एंटी-शिप वर्जन का सफलतापूर्वक परीक्षण, समुद्र में लक्ष्‍य को किया नष्‍ट

Back to top button
%d bloggers like this: