POLITICS

भारत को सस्ते और आसान वीजा की पेशकश कर सकता है ब्रिटेन

भारत को सस्ते और आसान वीजा की पेशकश कर सकता है ब्रिटेन

ब्रिटेन (Britain) जाने वाले भारतीय के लिये कार्यऔर पर्यटन वीजा शुल्क में कटौती की जा सकती है.

लंदन:

ब्रिटेन (Britain) जाने वाले भारतीय पर्यटकों, (Indian Tourist) विद्यार्थियों (Students) और पेशेवरों के लिए अच्छी खबर है. ब्रिटेन आव्रजन नियमों में ढील देने की योजना बना रहा है जिसके  तहत कह भारतीयों को सस्ते और आसान वीजा (Visa) की पेशकश कर सकता है. ब्रिटेन की अंतरराष्ट्रीय व्यापार मंत्री ऐनी-मेरी ट्रेवेलियन के इस महीने भारत की यात्रा कर सकती हैं. उसी समय दोनों देशों के बीच प्रस्तावित भारत-ब्रिटेन मुक्त व्यापार समझौते पर औपचारिक बातचीत शुरू होने की संभावना है. ‘द टाइम्स’ अखबार की रिपोर्ट के अनुसार, ट्रेवेलियन की इस यात्रा के दौरान भारतीयों के लिए आव्रजन नियमों में ढील देने की संभावना को खोलने की उम्मीद है.

कोरोना से जंग के बीच US ने H-1B, L-1 वीज़ा के लिए नियमों में दी ढील, अब नहीं होगा पर्सनल इंटरव्यू

यह काफी समय से भारत की एक प्रमुख मांग रही है. ट्रेवेलियन को इस मामले में विदेश मंत्री लिज़ ट्रस का समर्थन हासिल है. ट्रस ने चीन के बढ़ते प्रभाव का मुकाबला करने के लिए भारत के साथ घनिष्ठ संबंधों को सरकार के एजेंडा में शीर्ष पर रखा है. हालांकि, खबरों में कहा गया है कि गृह मंत्री प्रीति पटेल इस कदम का विरोध कर रही हैं. पिछले साल मई में पटेल ने विदेश मंत्री एस जयशंकर के साथ एक ‘बेस्पोक’ और पारस्परिक प्रवासन और गतिशीलता भागीदारी (एमएमपी) पर हस्ताक्षर किए थे. इसके तहत दोनों देशों के लगभग 3,000 छात्रों और पेशेवरों को एक-दूसरे के यहां एक साल के कार्य अनुभव का लाभ मिल सकेगा.

H-1B वीजाधारकों के हित में अमेरिका का बड़ा कदम, कई भारतीय-अमेरिकियों को मिलेगा लाभ

एमएमपी के तहत दोनों पक्ष नई प्रणाली को लागू करने के लिए अप्रैल, 2022 की समयसीमा की दिशा में काम करने पर सहमत हुए हैं. लंदन में उच्चायोग और नयी दिल्ली में विदेश मंत्रालय में इसपर काम चल रहा है. हालांकि, आगे की आव्रजन योजनाओं के तहत एक ऐसे विकल्प पर विचार किया जा रहा है, जो ऑस्ट्रेलिया के साथ ब्रिटेन के एफटीए का हिस्सा है. इसके तहत युवा भारतीयों को ब्रिटेन में तीन साल के लिए काम करने का मौका मिल सकता है.

इसके अलावा एक अन्य विकल्प विद्यार्थियों के लिए वीजा शुल्क में कटौती का भी है. कार्य और पर्यटन वीजा शुल्क में कटौती की जा सकती है. अभी किसी भारतीय के लिए कार्य वीजा की लागत 1,400 पाउंड और विद्यार्थियों तथा पर्यटकों के लिए 348 पाउंड बैठती है.

Back to top button
%d bloggers like this: