POLITICS

बिहार में आदिवासी युवती की रेप के बाद हत्या: चार दिन पहले सिपाही भर्ती की परीक्षा देने गया था; गांव से दूर नाहर में अर्धनग्न हालत में लोग मिले

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

)

  • बगहा में आदिवासियों ने दो घंटे बवाल किया, सपा को भगाया
  • पश्चिम चंपारण के बगहा में 20 वर्षीय आदिवासी युवती की अर्धनग्न महिलाओं से मुलाकात के बाद हंगामा हो गया। उरांव जनजाति की यह युवती 14 मार्च को सिपाही और कागज़म देने बेतिया गई थी। वापसी के समय वह गायब हो गया। आज गुरुवार की सुबह उसकी लाश त्रिवेणी नहर में तैरती हुई मिली थी। अंदेशा है कि जिस ऑटो से वह लौट रही थी, उसके चालक द्वारा ही रेप के बाद हत्या की गई और शव को नहर में फेंक दिया गया।

    पोस्टमार्टम के लिए बगहा ला के जाने के बाद उरांव समुदाय के हजारों लोग राहिल अस्पताल के सामने जमा हो गए। पुलिस प्रशासन के खिलाफ एसए नारेबाजी की। इस दौरान बगहा एसपी किरण कुमार गोरख जाधव और एसडीएम को भीड़ से बचकर निकलना पड़ा। यह हंगामा करीब दो घंटे तक चला। भीड़ की वजह से NH 727 भी जाम हो गया। आक्रोशित लोग आरोपी को फांसी देने की मांग कर रहे थे। बगहा एसपी ने देर शाम बताया कि आरोपी राजू बैठा ने अपना अपराध कबूल कर लिया है। रेप की पुष्टि ) शाम को भाई ने बात की कुछ देर बाद बंद हुआ मोबाइल चिउटाहा थाना इलाके के कदमहवा छ आरोपित टोला गांव की निवासी छात्रा 14 मार्च को परीक्षा देने के लिए बेतिया गई थी। बेतिया से बस से बगहा लौटी। बगहा से औग से गांव लौट रहा था। शाम 7:30 बजे बड़े भाई ने कॉल किया तो उसने बताया कि मर्यादपुर नहर इलाके तक पहुंची है। यह भी कहा गया था कि औटो की सभी सवारियां उतर गई हैं, वह है। इसके बाद से उसका मोबाइल बंद हो गया। देर रात तक भी जब वह घर नहीं पहुंची तो अगले दिन परिजनों ने चिउटाहां थाना में सूचना दी। लड़की के गायब होने के पीछे परिजनों ने औटो चालक पर संदेह जताया था। इस दौरान लड़की की पूरी जानकारी तस्वीर के साथ इलाके में वायरल की गई।

    गाँव से शुरू नहर में मिली युवती की लाश हंगामा कर रही भीड़ को समझाते बगहा SP और अन्य अधिकारी। गुरुवार की सुबह प्रतापपुर गांव से शुरू त्रिवेणी नहर में एक लड़की की लाश तैरने लगी। अंडरगार्मेंट में तैरती और देखकर ग्रामीणों ने उसे निकाला। फिर सोशल मीडिया के माध्यम से वायरल उसी लेटर से शव की पहचान की। पुलिस और परिवार को जानकारी दी गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को तुरंत ही अपने कब्जे में लेकर बगहा भेज दिया। जिस गांव से लाश मिली वह लड़की के गांव से करीब दो किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

    हंगामा कर रही भीड़ को समझाते बगहा SP और अन्य अधिकारी।

    अन्य अधिकारी हंगामे में स्कूली छात्राएं भी पहुंची, सीएम के खिलाफ भी लगे नारे
    ( बगहा सरदल अस्पताल के बाहर हुए हंगामे में बड़ी संख्या में स्कूली छात्राएं भी शामिल थीं। सभी पुलिस-प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी कर रहे थे। लड़कियों में सुरक्षा को लेकर आक्रोश था। इस दौरान अस्पताल पहुंचे एसपी और एसडीएम को भी भीड़ के गुस्से का शिकार होना पड़ा। बार-बार अपमान के बावजूद हंगामा जारी रहने पर एसपी भी चुपके से निकल गए। दोपहर बाद भी राहिल अस्पताल के पास हजारों की भीड़ जमा रही। प्रशासन के साथ ही बिहार के सीएम नीतीश कुमार के खिलाफ भी नारेबाजी हुई।

    बगहा अनुमंडल अस्पताल के बाहर हंगामे में मौजूद स्कूली लड़कियां। बगहा पासपाल अस्पताल के बाहर हंगामे में मौजूद स्कूली लड़कियां । लड़की की तस्वीर से औटो ड्राइवर की हुई पहचान, पूछताछ में पकड़ाया
    14 मार्च की रात लड़की के गायब होने के बाद परिजनों ने उसकी तस्वीर के बारे में बगहा औटो स्टैंड इन इंटर की। इसी तरह किसी ने बताया कि यह लड़की 14 मार्च की शाम कठकुइयां निवासी राजीव बैठा के औक से गई थी। इसके बाद राजीव बैठा को पकड़ा गया। पहले तो उसने बर्गलाने की कोशिश की। कई झूठ बोले। एक बार कहा कि लड़की को दूसरे औटो में बैठा दिया था। फिर कहा कि उसे चिउटाहं तक छोड़ देना चाहिए था। लोगों का शक गहराया तो उसे पुलिस के हवाले कर दिया गया था। इसके बाद अब गुरुवार की सुबह लड़की की लाश मिली तो लोगों का गुस्सा आरोपी पर फूट पड़ा। पुलिस ने आरोपी को आक्रोशित लोगों से बचाए रखा। बगहा और विशेष रूप से चिउटाहां थाना में पुलिस सुरक्षा बढ़ा दी गई है। बेतिया और आसपास के इलाकों की कई पुलिस टीम बगहा और चिउटाहां थाना इलाके में कैम्प कर रही है।

    बगहा अनुमंडल अस्पताल के बाहर हंगामे में मौजूद स्कूली लड़कियां। नहर से ग्रामीण हटाए गए शव और उसे देखने उमड़ी भीड़।

    फर्स्टव्वाजन से मैट्रिक पास लड़की थी, पुलिस में ही जाना चाहती थी
    मृतका तीन भई-बहनों में सबसे छोटी थी। परिवार में माता और पिता हैं। उन्होंने 2015 में मैट्रिक की परीक्षा फर्स्ट क्वाजन से और 2017 में इंटर की परीक्षा सेकेंड क्वाडं से पास की। परिवार के अनुसार उसे जॉब करने की इच्छा थी। विशेष रूप से पुलिस की नौकरी में ही जाना चाहता था। इसलिए केवल सिपाही और का एग्जाम भी दिया गया था। लेकिन अब इस घटना के बाद परिवार में कोहराम मच गया है। मां का रो-रोकर बुरा हाल है। इलाके के लोग मामले में स्पीड ट्रायल कराकर आरोपी को फांसी दिए जाने की मांग कर रहे हैं।

Back to top button
%d bloggers like this: