LATEST UPDATES

बाइडेन ने पीएम मोदी को बताया दोस्त, कहा

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने भारत को अमेरिका के मजबूत दावेदारों का दावा करते हुए कहा कि वह भारत को जी20 की अध्यक्षता के दौरान अपने दोस्त मोदी का समर्थन करने के लिए उत्सुक हैं। भारत को पिछले एक दिसंबर से आधिकारिक रूप से G20 की अध्यक्षता मिली है।

अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडेन ने शुक्रवार को ट्वीट कर कहा, “भारत अमेरिका का एक मजबूत सहयोगी है और मैं भारत की जी20 अध्यक्षता के दौरान अपने मित्र प्रधानमंत्री मोदी का समर्थन करने के लिए उत्सुक हूं।” इसके साथ ही बाइडेन ने कहा कि दोनों देशवीय, ऊर्जा और खाद्य संकट जैसे साझा हिस्से से बयाने सतत और समावेशी विकास को आगे बढ़ाएंगे।

एकता को और बढ़ावा देने पर काम करेंगे

बीते गुरुवार यानी एक दिसंबर को पीएम मोदी ने कहा था कि जी20 की अध्यक्षता में ‘एक पृथ्वी, एक परिवार, एक भविष्य’ की थीम से एकता को और बढ़ावा देने के लिए काम करने वाले हैं। हम वृषण परिवर्तन, आतंकवाद और महामारी जैसी जिन सबसे बड़ी आबादी का सामना कर रहे हैं, उनका समाधान आप में नहीं बल्कि एक साथ मिलकर अनुमान लगाया जा सकता है।

भारत का संबद्ध समावेशी, अवसरवादी: जयशंकर

विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर ने लिखा- जी20 की अध्यक्षता एकता की सार्वभौमिक भावना को बढ़ावा देने के लिए काम करती है। हमारे G20 साझेदारों को न केवल साथी बल्कि वैश्विक दक्षिण में हमारे यात्रियों के परामर्श से आकार दिया जाएगा। पीएम मोदी की बातों को इस बात को लेकर रेखांकन करती है कि आप आज में लड़कर नहीं बल्कि एक साथ मिलकर काम करके के बड़े टुकड़े का समाधान कर सकते हैं। भारत का गठबंधन समावेशी, अवसरवादी, कार्य स्पष्ट और निर्णय होगा।

नवंबर को पीएम मोदी ने लोगो को लॉन्च किया था

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर को जी-20 का लोगो, थीम और वेबसाइट जारी की थी। इस दौरान उन्होंने कहा था कि यह भारत के लिए एक ऐतिहासिक अवसर है। जारी किए गए इस लोगो में कमल का फूल भारत की पौराणिक खड़िया, हमारी आस्था, हमारी बौद्धिकता को चित्रित कर रहा है। इस संदेश और थीम के माध्यम से हमने एक संदेश दिया है। युद्ध के लिए बुद्ध के जो संदेश हैं, हिंसा के प्रतिरोध में महात्मा गांधी के जो समाधान हैं, जी20 के माध्यम से भारत उनकी वैश्वि​क प्रतिष्ठा को नई ऊर्जा दे रहा है।

85% GDP का प्रतिनिधित्व करते हैं G-20 के देश

G20 यानी 20 देशों का समूह, यह दुनिया की प्रमुख विकसित और विकासशील कंपनियों का एक अंतर सरकारी मंच है। अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, चीन, फ्रांस, जर्मनी, भारत, इंडोनेशिया, इटली, जापान, कोरिया गणराज्य, मैक्सिको, रूस, सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, तुर्की, ब्रिटेन, अमेरिका और यूरोपीय संघ में शामिल हैं। सम्मेलन में आतंकवाद, आर्थिक गड़बड़ी, ग्लोबल वॉर्मिंग, स्वास्थ्य और अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा की जाती है। प्रधानमंत्री मोदी ने नवंबर में कहा था कि G-20 ऐसे देशों का समूह है, जो वास्तव में आर्थिक सामर्थ्य विश्व के 85% प्रतिनिधि का प्रतिनिधित्व करता है, जो विश्व के 75 प्रतिशत व्यापार का प्रतिनिधित्व करते हैं, जिसमें विश्व की दो तिहाई जनसंख्या समाहित है।

Back to top button
%d bloggers like this: