POLITICS

बंगाल का सियासी घमासान: मोदी पर दीदी का हमला, कहा- पीएम क्या भगवान या सुपर ह्यूमन हैं जो नतीजों की भविष्यवाणी कर रहे हैं।

विज्ञापन से परेशान है? विज्ञापन के बिना खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कलक १० घंटे पहले

  • कॉपी नंबर
  • वीडियो
    • पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला किया। सवाल किया कि मोदी जी क्या आप खुद को भगवान या सुपर ह्यूमन समझतें हैं जो चुनाव पूरा होने से पहले ही नतीजों की भविष्यवाणी कर रहे हैं? आपको पता होना चाहिए कि अभी तक दो फेज के ही चुनाव हुए हैं और 6 फेज के चुनाव होने बाकी हैं।

      हुगली जिले के खानाकुल में रविवार को चुनावी रैली को संबोधित करते हुए तृणमूल कांग्रेस (TMC) सुप्रीमो ममता बनर्जी ने इंडियन सेक्युलर डिग्री (ISF) के प्रमुख और फुरफुरा शरीफ के अब्बास सिद्दिकी का नाम लिए बिना कहा कि भाजपा ऐसे लोगों को अल्पसंख्यक वोटों में सेंध लगाने के लिए पैसे दे रही है। है।

      बता दें कि पीएम मोदी ने शनिवार को बंगाल में एक चुनावी रैली में ममता पर हमला करते हुए कहा था कि दीदी ने हार मान ली थी ली है। मोदी ने आगे कहा कि वह पश्चिम बंगाल में भाजपा सरकार के होने वाले शपथ ग्रहण समारोह में भी शामिल होंगे और अपनी सरकार से फौरन ही प्रधानमंत्री किसान निधि योजना लागू करने के लिए कहेंगे।

      ममता बोलीं- मोदी-शाह की सिंडिकेट सेंट्रल एजेंसी से विपक्ष को डरा रही

      कुछ गुजराती उत्तर प्रदेश और बिहार से गुंडे भेजकर बंगाल पर कब्जा करना चाहते हैं। हम बंगाल को गुजरात की तरह नहीं बनने देंगे। भाजपा यहां सांप्रदायिक तनाव पैदा करना चाहती है। हम उन्हें उनके उद्देश्य में कभी कामयाब नहीं होने देंगे।

      ऑड टैप के जरिए शुभेंदु का पलटवार शुभेंदु ने एक AUD टेप का भी जिक्र किया, जिसमें घूस लेने की कथित बात कही जा रही है। उन्होंने कहा कि टीएमसी ने इस बार के चुनाव में उम्मीदवार को गैर-अधिकारिक रूप से भेजा है, उसके सभी आंकड़े हमारे पास हैं, सही वक्त पर हम उसकी खुलासा करेंगे। ये रुपए भी गाय तस्करी, मुर्गा माफिया के जरिए बांटे गए थे।

      शुभेंदु ने 3 बड़े आरोप लगाए 1 गिरफ्तार आईसी के करीबी ने भतीजे तक पैसा पहुंचाया आज अशोक मिश्रा को गिरफ्तार किया गया है। वह पहले वीर हार्बर विष्णुपुर में आईसी थे। इसमें केवल अशोक ही शामिल नहीं थे, बल्कि 90-95 अधिकारियों के साथ-साथ दो-चार आईपीएस अधिकारी भी शामिल हैं। विनय ने भतीजे को तस्करी के 900 करोड़ रुपए दिए हैं। विनय टीएमसी युवा मोर्चा के सचिव थे। आईसी प्रत्येक महीने भाइपो को 40 करोड़ रुपये तक पहुँचता था।

      २। धृतराष्ट्र बन कर नहीं रह सकता माणमता तस्करी को लेकर इतनी बड़ी जालसाजी चल रही थी, लेकिन क्या सीएम को यह मालूम नहीं था? वह धृष्टराष्ट्र बन कर नहीं रह सकते हैं। मुख्यमंत्री होने की वजह से कार्रवाई करना उनकी जिम्मेदारी थी। वह गृह मंत्री भी थे और उन्होंने भाइपो को अपना उत्तराधिकारी बनाया है।

      ३। पाप से दूरी बनाने के लिए TMC छोड़ी शिक्षकों की नियुक्ति में भी स्कला हुआ है। जिस तरह से आईसी को गिरफ्तार किया गया है और ऑड टैप सामने आए हैं। उससे सब स्थिति साफ हो गई है और इसी कारण उन लोगों ने टीएमसी ने नाता तोड़ा है, क्योंकि वे इस पाप के शिकार नहीं बनना चाहते थे।

      विनय मिश्रा के सहयोगी बांकुरा के आईसी गिरफ्तार प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने रविवार को केवल मुर्गा तस्करी स्कला केस में बांकुरा के इंस्पेक्टर इंचार्ज (IC) अशोक मिश्रा को गिरफ्तार किया गया है। सूत्रों के मुताबिक, अशोक मिश्रा तृणमूल कांग्रेस के युवा नेता विनय मिश्रा के करीबी हैं, जो कोले और मवेशियों की तस्करी के आरोपी हैं।
      ममता के भतीजे अभिषेक बनर्जी के कथित करीबी विनय मिश्रा पशु तस्करी मामले में फरार आरोपी हैं। कॉक तस्करी मामले में सीबीआई पहले ही अभिषेक की पत्नी और अन्य रिश्तेदारों के बयान दर्ज कर चुकी है।

Back to top button
%d bloggers like this: