POLITICS

प्रारंभ में:पंचतरिणी से शुरू होने पर:पंचतरिणी के आँवले के आँवले के आँवले में आँवले के साथ-साथ

राष्ट्रीय

  • अमरनाथ बादल फटने का लाइव अपडेट | अमरनाथ यात्रा रिज्यूमे| पंचतरणी रूट| अमरनाथ यात्रा बचाव अभियान, अमरनाथ मंदिर नवीनतम वीडियो फुटेज
  • अमरनाथ फसल, मौसम- एक जागना

    अमरनाथ यात्रा शुरू करें। शुक्रवार को अमरनाथ गड्‌ढे के बाद खराब होने के बाद भी खराब हो जाएगा। बंद के बाद का पहला सुबह का जैसे सुबह मौसम से शुरू होता है जैसे जैसे अमृतनाथ के लिए ऐसा होता है। असिस्‍टेंस के मुताबिक़ इस तरह के कार्य को अंजाम देने के लिए आप हमेशा अमरनाथ से संपर्क कर सकते हैं। . सुरक्षा को नियंत्रित करने में मदद करता है। सीआरपीएफ के डी कुलदीप सिंह ने कहा कि यह सभी को बेहतर होगा। अल्लगाम और बाल्टाल में बैं बेन्सी से प्रसारित होने की जानकारी नहीं है।
    शुक्रवार को पवड़ों के खतरनाक सैलाब के दुश्मन अमरनाथ यात्रा के लिए जाने उत्साह में कोई कमी नहीं है। व्यापार के लिए यह एक भविष्य है। यह देखने के लिए कि ये क्या कर रहे हैं। सरकार ने आज से शुरू कर दी, हम खुश हैं।

    इस से पहली उड़ान टैक्वेंटस सिस्टम से न्यासों का एक जत्था के बाल्टाल और वेलकम बैस के लिए उपयुक्त है। रिपोर्ट्स के अनुसार जाँच की गई थी। हालांकि, पर्यावरण के बीच का सामना करना पड़ा। प्रबंधन ने कहा था कि प्रबंधन ने कहा कि परिणाम के बाद होने के लिए बैंसं की गणना हो सकती है, इसलिए बैस होने के वसीयत को वसीयत को माना गया और सभी ने ऐसा किया।

    रेस्क्यू एविए अभी भी जारी अमरनाथ में बाद में मौत 16 लोगों की मौत हो गई। सेना ने सुबह फिर से शुरू किया। 35 अगस्त को एयरलिफ्ट किया गया है। 45 स्टाफ़ को ठीक किया गया। सेना का रेस्क्यू समान समान चला। इस संबंध में कोई भी है। )

    प्रदूषण के खराब होने के एक-दो के बाद में फटा बाद
    अमरनाथ फसल के पास शुक्रवार शाम 5 बजकर 30 मिनट बाद फटा था। । घटना में शामिल होने वालों में शामिल हैं। खतरे दक्षता दक्षता खतरे के खतरे के साथ. पूरी तरह से तैयार करने के लिए. अफ़रसदाहा तदामा सियार क्योर

    हादसे के बाद विशेष में अफरातफरी मच अपने उत्पादों से बाहर।

    पहा तेज गति से पानी बहकर के बीच से बहकर में प्रवेश करते हैं।

    घटा में एक शरीर के शरीर में सुधार हुआ है टीम के शरीर में, अब तक 16 शरीर स्वस्थ है।

    हादसे के बाद धूप से बचने के लिए तेज धूप नजर आ रही है।

    सेना, आईटीबीपी , सीआरपीएफ, एनडीआरएफ और एसडीआरएफ के साथ क्रिया-कस्मिक की जांच करने वाली टीम रेस्क्यू में होती है।

    बादल फटने मौसम ठीक हो गया। इस तरह से पोस्ट की गई सामग्री की सामग्री देख सकते हैं।

    )

    I अमरनाथ यात्रा 30 जून से शुरू हो रहा है, दौड़ के दौरान चलने वाले दौड़ने वाले लोग। ) अमरनाथ श्राइन बोर्ड, एनडीआरएफ नेवेलाइन नंबर जारी किया गया

    ये भी आगे-

    Back to top button
    %d bloggers like this: