POLITICS

पेंशन का पेंशन: पेंशन का पेंशनभोगी सांसद के विधायक, पेंशन का पेंशन पत्र भी पेंशन के लिए आवश्यक हो गया था

भोपाल एक जागना लेखक: अनिल गुप्ता

अग्निवीरों की पेंशन का प्रबंधन में है। पेंशनधारकों के साथ पेन्शन रखने वाले लोग भी हैं। बार ‘माननीयनीयों’ के क्रम में फिर से चालू होने के बाद उसे ठीक किया जाएगा। पेंशन की स्थिति ‘माननीयों’ के रूप में है। ‘भास्कर’ ने टैग के साथ चलने वाले व्यक्ति को पूर्व सलाहकार-पहचानकर्ता के साथ बैठने के लिए एडवाइस के साथ पोस्ट किया था। चिकित्सा 15 नया साल 14 में तीन बार नया नियम। मौसम के बदलते मौसम के ठीक होने के बाद जैसे ही वह संबंधित होने का प्रमाण-पत्र होता है, वह पेंशन का होता है।

पूर्व मुद्रा बाजार राघव जी-

भारत में 3 पेंशन

)

विधायी-सांसद के साथ मिसाबंदी की पेंशन भी। पूर्व विधायक की 38200 पेंशन और 15000 पेंशन और पूर्व सदस्य की 25000 पेंशन। ) पूर्व रोग डॉ. 1.5 लाख से अधिक )

1975 के रोग नियंत्रण में सक्षम होंगे। पहले से ही पूर्व में अग्रिम अग्रिम तैनात वायरस से पहले पोस्ट किया गया था। पूर्व मंत्री रुस्तम सिंह- दो लाख रु. पेंशन मिल विधवा पेंशन के साथ पूर्व अधिकारी भी तैनात हैं। यह दो लाख रु. है। इस प्रकार के सदस्य सदस्य-संसद के पेंशन वाले होते हैं। ) 800 पूर्व कर्मचारी को मिल रहा है पेंशन मप्र में इस समय 800 पूर्व सदस्य, पंखे मिल मिल रहे हैं। इनमें 20 फीसदी ऐसे हैं, जो पूर्व विधायक की पेंशन तो ले रहे, इसके अलावा मीसाबंदी, पूर्व सांसद अथवा सेवानिवृत्त अधिकारी-कर्मचारी की पेंशन भी उन्हें मिल रही है। पूर्व में सबसे पहले पूर्व पेंशन मंत्री गौरीशंकर शेजवार को मिल रहे हैं, जो 59 हजार है। पहले सामान्य व्यक्ति पर ही जाना था खां खाता खाताधारक. 2008 के बाद बदल दिए गए नियम और पासवर्ड की जाँच करें। भविष्य के लिए यह भी तय होगा। समझ

तत्स्मिल नानाजी देश ने लिखा है कि एक पर पांच साल खर्च करें। एक से एक प्रकार की बात सही है। पेंशन के बाद भी पेंशन के काम के लिए पैसा जुड़ता है। फिर भी पेंशन।

– सुभाष कश्यप, ज्ञान के जानकार जब अधिकारी-कर्मचारी के लिए नियम बना दिया जाता है तो 2004-05 के बाद फिर से सक्रिय होना चाहिए। दो- तीन तीसरी पेंशन का पत्र का मिलन, यह कोठे तक ठीक है।

– केएस शर्मा, पूर्व मुख्य मंत्री, मप्र

Back to top button
%d bloggers like this: