POLITICS

पानीपत में 6 लोगों के गुप्त रहस्य की VIDEO:पूरे कमरे में आग का गोला; नौकरीपेशा फायर कर्मी कंबल-पानी से नहीं बुझी

पानीपतएक घंटा पहले

हरियाणा के पानीपत शहर के परशुराम कॉलोनी में एक ही परिवार के 6 लोगों के साथ हुई भयानक घटना के तीसरे दिन आग का लाइव वीडियो सामने आया है। जिस घंटे कमरे में आग लगी थी, उस वक्त कुछ लोग आग से भागने का प्रयास कर रहे थे।

वहीं, इसी बीच के कमरे से कुछ दूरी पर स्थित एक छत पर रुक कुछ लोगों ने आगजनी का वीडियो अपने फोन में रिकॉर्ड किया है। वीडियो में साफ तौर पर दिखाई दे रहा है कि कितना सिनिस्टर था। आग से भागने में लोग कितना मशक्कत कर रहे हैं।

फैक्ट्री से फायर सिलिंडर
वीडियो में दिख रहा है कि चंद गोलाकार में ही कमरे में आग का गोला बन गया है। आग से बचने के लिए साथ में रहने वाले कमरे सहित कई लोग कई तरह के प्रयास कर रहे हैं। लोगों ने आग से बचने के लिए कंबल भी आग में झोंक दिया।

मगर आग नहीं बुझी। इसके बाद लोगों ने लगातार पानी की बाल्टियां, खुला, कैनिया भर-भर कर कमरे के अंदर फेंकी। मगर, आग पर कुछ भी फर्क नहीं पड़ा। इसके ठीक बाद एक फैक्ट्री से दो फायर सिलेंडर लेकर आए। इससे आग लग गई थी। आग बुझते ही सबसे पहले कमरे के अंदर गैस सिलेंडर कंबल में लिपटी छत से नीचे खाली प्लाट में रेत के ढेर पर फेंक दिया था।

गैस रिज्यूशन से शुरू हुई थी आग
12 जनवरी को परशुराम कॉलोनी स्थित राधा फैक्ट्री के कमरे के पास गैस रिजेक्शन होने के कारण आग लग गई थी। मृतक पति-पत्नी और 4 बच्चे थे। बच्चों में 2 लड़कियां और 2 लड़के हैं। मृतक की पहचान अब्दुल करीम (50), उनकी पत्नी अफरोजा (46), बड़ी बेटी इशरत खातून (17-18), रेशमा (16), अब्दुल शकूर (10) और अफान (7) के रूप में हुई।

डीएसपी हेडक्वार्टर धर्मबीर खर्ब ने बताया कि सिलेंडर से गैस लीकेज हुई है। जैसे उन्होंने चाय बनाने के लिए आग लगाने की कोशिश की तो धमाके से आग लग गई। जिससे पूरे कमरे में आग लग गई। अंदर घुस गया और सभी की मौत हो गई।

बड़ी बेटी की शादी होने वाली थी
परिवार संग जिंदा जली इशरत खातून की जल्द डोली उठनी थी लेकिन वह नींद से ही नहीं उठी। असल में इसरत परिवार की सबसे बड़ी बेटी थी। पिता अब्दुल करीम और मां अफरोजा उनके निकाह की तैयारी में थे। 2 दिन बाद इस रविवार को ही उसका रिश्ता पक्का कर निकाह की तारीख तय करने के लिए लड़के वाले थे। इससे पहले ही पूरा परिवार खत्म हो गया।

ऐसे हुए सभी छह शवों की पहचान
परिवार के मुखिया अब्दुल करीम के कद से पहचान हुई। अब्दुल की पत्नी अफरोजा की पहचान उनके चेहरे से हुई। बड़ी बेटी इशरत खातून की पहचान पैरों में डली पायल से हुई। छोटी बेटी रेशमा की पहचान बच गई उसके सिर के लंबे बाल से हुई। सबसे छोटे बेटे अफान की पहचान मां के गोद में दिखने से हुई। छठे शव की पहचान अब्दुल शकूर के रूप में हुई थी।

ये खबरें भी पढ़ें…

पानीपत में मां-बाप और 4 बच्चे जिंदा जले:कद, चेहरे, पायल व लंबे बालों से पहचान, मां की गोद में लिपटा था मासूम अफान​​​​​​​

हरियाणा में पानीपत के तहसील कैंप में परशुराम कॉलोनी स्थित राधा फैक्ट्री के पास गुरुवार सुबह बड़ा हादसा हो गया। यहां एक घर में गैस सिलेंडर का रिसाव हो गया। जिससे पूरा घर आग की चपेट में आ गया। उस वक्त घर में पति-पत्नी और 4 बच्चे मौजूद थे। पता चला कि जिस जहर गैस के सिलेंडर में आग लगी, वह खाना बनाने की तैयारी कर रहे थे। पढ़ें पूरी खबर…

पानीपत में परिवार के 6 लोग जिंदा कैसे जले?:8 गुणा 10 फुट का कमरा; मिलने की जगह नहीं मिली, दरवाजे पर भी लगा था ताला​​​​​​​​

पानीपत के मस्जिद कैंप में गुरुवार सुबह अब्दुल करीम व अफ्रोजा सहित 4 बच्चे जिंदा जल गए। शुरुआती जांच के बाद एसपी शशांक कुमार सावन बोले- यहां रात में गैस का रिसाव हुआ, सुबह चाय बनाने के लिए आग जलाई तो धमाका हो गया। जिसके बाद सभी घुटने से बेहोश हो गए और झुलसकर जिंदा जल गए। पढ़ें पूरी खबर…

पानीपत में जला दिया परिवार:बड़ी बेटी का 2 दिन बाद रिश्ता बना; इशरत को 1 महीने पहले ही गांव से दिखा​​​​​​​

हरियाणा के पानीपत शहर की परशुराम कॉलोनी में परिवार संग जिंदा जली इशरत खातून की जल्द डोली उठनी थी लेकिन वह नींद से ही नहीं उठा। असल में इसरत परिवार की सबसे बड़ी बेटी थी। पिता अब्दुल करीम और मां अफरोजा उनके निकाह की तैयारी में थे। 2 दिन बाद इस रविवार को ही उसका रिश्ता पक्का कर निकाह की तारीख तय करने के लिए लड़के वाले थे। इससे पहले ही पूरा परिवार खत्म हो गया। पढ़ें पूरी खबर…

Back to top button
%d bloggers like this: