POLITICS

पति की लंबी उम्र के लिए महिलाएं करती हैं मां पार्वती की आराधना, देखें टीवी सीरियल्स की हरियाली तीज

पति की लंबी उम्र के लिए महिलाएं करती हैं मां पार्वती की आराधना, देखें टीवी सीरियल्स की हरियाली तीज

Hariyali Teej 2022: पति की लंबी उम्र के लिए महिलाए करती हैं देवा पार्वती की आराधना

नई दिल्ली :

बॉलीवुड में प्यार, रोमांस और पति-पत्नी के प्यार को लेकर कई फिल्में बनीं, जिसमें पति की लंबी उम्र के लिए महिलाएं हरियाली तीज (Hariyali Teej 2022), करवा चौथ जैसे व्रत रखती दिखीं. वहीं परिवार पर आधारित कई टीवी शो में भी इस पर्व को सुहागिनें मनाती दिखीं और इन पर्वों का सेलिब्रेशन फिल्म या टीवी शो में खास आकर्षण का क्रेंद्र बने. दर्शकों ने इसे काफी पसंद किया. हर साल की तरह इस साल हरियाली तीज का त्योहार 31 जुलाई, 2022 को मनाया जा रहा है. अकसर सवाल पूछा जाता है कि हरियाली तीज का त्योहार क्यों मनाया जाता है? कहा जाता है कि इस दिन भगवान शिव और पार्वती का पुनर्मिलन हुआ था. पार्वती को तीज माता के नाम से भी जाना जाता है. टेलीविजन सीरियल्स में हरियाली तीज का त्योहार कई बार मनाते हुए दिखाया गया है. 

महिलाएं इस दिन माता पार्वती की पूजा अर्चना कर उनसे अखंड सौभाग्य का आशीर्वाद मांगती हैं. साथ ही इस व्रत को करने से वैवाहिक जीवन भी खुशहाल बना रहता है. वहीं, कुंवारी कन्याएं भी अच्छे वर की कामना कर इस व्रत का पालन करती थी. इस बार हरियाली तीज का व्रत 31 जुलाई को रखा जाएगा. हिंदू धर्म के अनुसार, सावन माह की तृतीया तिथि को हरियाली तीज का पर्व मनाया जाता है.

 दरअसल, तृतीया तिथि वाले दिन ही माता पार्वती ने भगवान शिव को अपने पति के रूप में पाने के लिए विशेष पूजा की थी. इसलिए ही यह दिन बेहद खास माना जाता है.

सुहागन महिलाएं इस दिन जल्दी उठकर स्नान आदि के बाद साफ वस्त्र पहन लें. इसके बाद पूजा की तैयारी शुरू करें. सबसे पहले पूजा का स्थान अच्छे से साफ कर लें और माता पार्वती, भगवान शिव और गणेशजी की प्रतिमा स्थापित कर लें. आप चाहें तो पूरे शिव परिवार की प्रतिमा भी पूजा स्थान पर स्थापित कर सकते हैं. इसके बाद भगवान गणेश जी का पूजन करें और साथ ही माता पार्वती और भगवान शिव की आराधना करें. 

पूजा के दौरान माता पार्वती को श्रृंगार की सामान जैसा चूड़ियां, सिंदूर, बिंदी, मेहंदी और बाकी सामान अर्पित करें. इसके बाद घी का दीपक जलाकर हरियाली तीज व्रत कथा सुने और अंत में माता पार्वती की आरती कर सुहागन महिलाएं अपनी सास या नन्द को श्रृंगार का सामान भेट स्वरुप दें.

Back to top button
%d bloggers like this: