POLITICS

पंजाब, राजस्थान, छत्तीसगढ़ में कल से खुलेंगे स्कूल, दिल्ली में सरकार ने मांगी राय, जानें-अन्य राज्यों का हाल

पंजाब, राजस्थान, छत्तीसगढ़ में कल से खुलेंगे स्कूल, दिल्ली में सरकार ने मांगी राय, जानें-अन्य राज्यों का हाल

स्कूलों में छात्र-छात्राओं के प्रवेश से पहले हैंड सैनेटाइज और थर्मल स्कैनिंग करने के आदेश दिए गए हैं.

नई दिल्ली:
कोविड-19 के मामलों में आई कमी को देखते हुए पंजाब, हरियाणा, उत्तराखंड, बिहार, झारखंड समेत कई राज्यों ने स्कूलों को फिर से खोलने की सहमति दी है, जबकि दिल्ली में फिलहाल स्कूल खोलने पर सरकार ने अभिभावकों से सुझाव मांगे हैं. दिल्ली के उप मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा है कि विद्यार्थी, अभिभावक और शिक्षक स्कूलों को दोबारा खोलने की प्रक्रिया को लेकर अपने सुझाव ‘डेल्हीस्कूल्स21 ऐटरेट जीमेल डॉट कॉम’ पर भेज सकते हैं और सभी हितधारकों की राय पर मंथन करने के बाद फैसला लिया जाएगा. उधर, हरियाणा ने 6ठी से 12वीं तक के स्कूल खोल दिए हैं.

मामले से जुड़ी अहम जानकारियां :

  1. पंजाब सरकार ने स्कूलों को 2 अगस्त से सभी कक्षाओं को फिर से शुरू करने की अनुमति दी है. ऑफ़लाइन कक्षाओं के लिए कोविड के मामलों में वृद्धि के बीच मार्च के मध्य में स्कूल बंद कर दिए गए थे. पंजाब सरकार ने स्कूलों को ऑफलाइन मोड में फिर से शुरू करने की तारीख की घोषणा करते हुए यह भी कहा कि स्कूलों को कोविड प्रोटोकॉल का पालन करना होगा और स्कूल परिसर के अंदर कोविड के उचित व्यवहार को बनाए रखना होगा. इससे पहले, 26 जुलाई को, राज्य सरकार ने कक्षा 10 से 12 के छात्रों के लिए स्कूलों को फिर से खोलने की अनुमति दी थी. 

  2. उत्तराखंड में भी कक्षा नौवीं से 12वीं तक के लिए स्कूल 2 अगस्त से और कक्षा छठीं से आठवीं तक के स्कूल 16 अगस्त से दोबारा खुलेंगे. अधिकारियों ने शनिवार को यह जानकारी दी. राज्य में स्कूल कोविड-19 महामारी के कारण लंबे समय से बंद हैं. राज्य सरकार की ओर से इस आशय का एक आदेश जारी कर कहा गया है कि यह सभी बोर्डिंग, डे बोर्डिंग सरकारी और निजी स्कूलों पर लागू होगा. आदेश के अनुसार सभी स्कूलों से कहा गया है कि वे अपने परिसर को अच्छी तरह से सैनिटाइज करें और प्रवेश द्वारों पर थर्मल स्क्रीनिंग और हैंड सैनिटाइज करने के बाद ही छात्रों को प्रवेश दें. आदेश में कहा गया है कि छात्रों को भौतिक रूप से कक्षाओं में शामिल होने के लिए मजबूर नहीं किया जाना चाहिए क्योंकि ऑनलाइन उपस्थिति का विकल्प भी उनके पास उपलब्ध होगा.

  3. हरियाणा में तीन महीने बाद 16 जुलाई से कोविड-19 संबंधी प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करते हुए कक्षा 9 से 12 तक के विद्यार्थियों के लिए स्कूलों को दोबारा से खोल दिया गया है. कई छात्रों ने कहा कि महामारी के इस दौर में ऑनलाइन कक्षाएं जरूरी हैं, लेकिन स्कूल की कक्षा में आकर पढ़ाई करने का अलग महत्व है और उसका कोई विकल्प नहीं है. सरकार निचली कक्षा के स्कूल खोलने पर भी विचार कर रही है लेकिन इस बीच स्कूल खुलते ही कोरोना की दस्तक स्कूलों में भी नजर आई है. फतेहाबाद में 6 बच्चे कोरोना संक्रमित पाए गए हैं. इन सभी बच्चों को घरों में आइसोलेट किया गया है. यह 6 बच्चे फतेहाबाद के दो सरकारी स्कूलों के हैं. 

  4. दिल्ली सरकार ने कोविड-19 महामारी की स्थिति नियंत्रण में आने के बाद स्कूलों को दोबारा खोलने के लिए विद्यार्थियों, शिक्षकों और अभिभावकों से सुझाव मांगा है. यह जानकारी दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने दी है. सिसोदिया ने कहा कि विद्यार्थी, अभिभावक और शिक्षक स्कूलों को दोबारा खोलने की प्रक्रिया को लेकर अपने सुझाव ‘डेल्हीस्कूल्स21 ऐटरेट जीमेल डॉट कॉम’ पर भेज सकते हैं और सभी हितधारकों की राय पर मंथन करने के बाद फैसला लिया जाएगा. उन्होंने कहा, ‘‘दिल्ली सरकार ने बच्चों की सुरक्षा और संरक्षा के मद्देनजर स्कूलों और कॉलेजों को बंद करने का फैसला किया था लेकिन अब, कई पड़ोसी राज्यों में स्कूल खुल गए हैं या खुल रहे हैं और दिल्ली में भी कोविड की स्थिति नियंत्रण में है. 

  5. बिहार सरकार भी छठी और ऊपर की कक्षाओं के लिए स्कूल खोले जाने की तैयारी में है.  बिहार के शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने जानकारी दी है कि कोविड से उपजी परिस्थितियों की समीक्षा के बाद  06 अगस्त से कक्षा 6 से ऊपर तक के स्कूल खोले जाएंगे. राज्य में 10वीं से 12वीं तक के स्कूल और कॉलेज पहले ही खोले जा चुके हैं. यानी  कक्षा 6 और ऊपर की कक्षाओं के लिए ऑफलाइन क्लासेज़ 6 अगस्त से शुरू होंगी. 

  6. झारखंड में लंबे इंतजार के बाद सरकार ने अनलॉक प्रक्रिया का दायरा बढ़ाते हुए 9वीं से 12वीं कक्षा तक के छात्रों को स्कूल बुलाकर कक्षाएं प्रारंभ करने की विद्यालयों एवं कोचिंग संस्थानों को छूट दे दी है. साथ ही अब अंतरराज्यीय बसों के संचालन की भी अनुमति दे दी गयी है. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की अध्यक्षता में एक माह बाद हुई आपदा प्रबंधन प्राधिकार की बैठक में शुक्रवार को इस आशय का फैसला लिया गया. बैठक के दौरान कक्षा नौवीं से 12वीं तक ऑफलाइन कक्षा प्रारंभ करने की छूट दे दी गयी लेकिन कक्षा की अवधि अधिकतम चार घंटे की रखी गयी है, जो दोपहर 12 बजे तक ही चल सकेंगी. नयी व्यवस्था में छात्रों को अभिभावकों की अनुमति के बाद ही विद्यालय बुलाया जा सकेगा.

  7. कोविड-19 महामारी के चलते कई महीनों तक स्कूल बंद रहने के बाद मध्य प्रदेश में 12वीं कक्षा के विद्यार्थियों के लिए स्कूल पहले ही खोल दिए गए हैं. लेकिन बहुत ही कम छात्र-छात्राएं विद्यालय आ रहे हैं. सरकार ने प्रदेश में 26 जुलाई से स्कूलों की 11वीं और 12वीं कक्षाओं को 50 प्रतिशत उपस्थिति के साथ फिर से खोलने के आदेश दिए थे. अब  कक्षा नौवीं एवं 10वीं के विद्यार्थियों के लिए स्कूलों में कक्षाएं पांच अगस्त से शुरु करने के आदेश दिए गए हैं. 

Back to top button
%d bloggers like this: