POLITICS

पंजाब यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट टेरर फंडिंग में गिरफ्तारियां:गैंगस्टर लॉरेंस और लखबीर लंदन के साथी, बैंक डिटेल के आधार पर SSOC ने पकड़ा

चंडीगढ़7 घंटे पहले

पंजाब विश्वविद्यालय के एक छात्र को टेरर फंडिंग के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। दशक की पहचान मूल रूप से संगरूर के भवानीगढ़ के रहने वाले अर्शदीप सिंह के रूप में हुई है, जो पीयू से एमए की पढ़ाई कर रहा है। दशक को गुप्त सूचना पर स्टेट स्पेशल ऑपरेशन सेल ने चंडीगढ़ से गिरफ्तार किया है।गैंगस्टरों का साथी है
SSOC की जांच में पता चलता है कि एक्सीडेंट अर्शदीप सिंह अजनबी लखबीर लंदन और लॉरेंस गैंग के सदस्य गोल्डी बराड़ का साथी है। सदी का नेटवर्क अन्य करोड़ लोगों से बहाने है और वह किस साजिश को अंजाम देने की फिराक में थे, अभी जांच एजेंसी पता लगाने के प्रयास में जुटी है।
गैंगस्टर लॉरेंस की फोटो।आईएसआई के गुर्गों ने अर्शदीप के लाभों में अनुसंधान पैसेजांच एजेंसी को पता लगता है कि आईएसआई के गुर्गों द्वारा अर्शदीप सिंह बैंक खातों में पैसे जाल बिछा रहे थे। उसके बैंक खातों की जानकारी के आधार पर ही उसे गिरफ्तार किया गया है। तिमाही को दुबई, अमेरिका, फिलीपींस, इटली और अमेरिका में रह रहे मूल रूप से पंजाब निवासी आईएसआई के लिए टेरर फंडिंग और मुआवजे की आपूर्ति का काम करने वाले स्लीपर सेल के जरिए टेरर फंडिंग की जा रही थी।

आरोपी का 3 दिन का रिमांड आरोपियों से पूछताछ के लिए SSOC ने कोर्ट से उसका 3 दिन का रिमांड हासिल कर लिया है। आगामी जांच में यह पता लगाने का प्रयास जारी है कि अब तक एक्स अर्शदीप सिंह के फायदों में कुल कितनी फंडिंग हुई है और इस पैसे का इस्तेमाल कहां व किस मकसद से किया गया है। जांच में पता चलता है कि एक लंबे समय से रोमांटिक लोग गोल्डी बराड़ और लखबीर से लंदन के संपर्क में थे।

सोने की चोरी ने ली थी सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड की जिम्मेदारी

आरोपी लखबीर सिंह लंदन पंजाब के जिला मोहाली स्थित खुफिया हेडक्वार्टर पर आरपीजी हमलों का मुख्य दंश है। कनाडा में जेल में बंद लॉरेंस का साथी गोल्डी बराड़ है। उसने बीते दिनों पंजाब में हुए मर्डर मामलों की जिम्मेदारी भी ली है। गोल्डी बराड़ ने सोशल मीडिया पर मशहूर सिंगर सिद्धू मूसेवाला की हत्या कांड की जिम्मेदारी ली थी। उसने इस हत्याकांड को विक्की मिड्दूखेड़ा की हत्या का बदला बताया था।


Back to top button
%d bloggers like this: