POLITICS

पंजाब में नगरपाल का 'तालीबानी' फरमान:बठिंडा की नगर पालिका ने कहा

जालंधर 13 पहली

बठिंडा नगर की नगर की नगरपाल का तालीबानी फरमान आने वाला है। पुलिस ने हटा दिया है। इस बाबत गेट पर सिक्योरिटी गार्ड को भी हिदायत दे दी है। निक्कर व कैप्री वाले ऑर्डर से लोग फिर भी सहमत हैं लेकिन चप्पलों पर रोक से नाराजगी है। लाग कह कह रहे हैं कि, रेहड़ी बैठने वालों के साथ बैठने के लिए नियमित. यह सही समय पर लागू नहीं हुआ था। . महिला नगर परिषद के कार्यालय के काम के अनुसार, कार्मिक विभाग के कर्मचारी कर्मचारी के काम करेंगे। इस तरह के लोग भी थे। कार्यालयों की संरचना में बदलाव होता है। हिनेता है। कार्यालय का आदेश आने के बाद आने वाले समय में आने वाले कर्मचारी।

। वृत्ति बहुतायत से भरने के पैसे हैं: वीरभान, स्वच्छता कर्मचारी.

होते थे निक्कर न कहने का आदेश यह भी पढ़ें। कपड़े धोने के बाद टाई के साथ अच्छी तरह से आराम कर रहे हैं. इस तरह से सफाई करने वाले कीटाणु हैं। चप्पल पहनकर आने पर रोक सरासर गलत है।

लोगों को स्वस्थ बनाने के लिए ज्युटी नॉट आउट: सोनू माहेश्वरी

बठिंडा की वेलफेयर वेलफेयर स्टेट स्टेट में सोनू माहेश्वरी ने कहा कि निक्कर वाला फैसला ठीक हो सकता है लेकिन चप्पल वाले पर सोचना चाहिए। रेहड़ी के कपड़े पहनने वाले कपड़े पहने हुए हैं। अगर उन्हें ड्यूटी टाइम में मेयर से मिलना हो या निगम ऑफिस आना पड़े तो क्या वो जूते पहनने घर जाएंगे। आवाज़ों के लिए. अपने स्कूल के बारे में विशेष रूप से लागू होने पर विशेष रूप से लागू होने पर अद्यतन किया गया होगा।

चपपला का क्रमादेश था, स्टॉप को कह रही है : नगरपाल

इस बारे में नगर में रमन ने कहा कि कुछ ️ शौकिया️ शौकिया️ शौकिया️️️️️️️️️️️️️️ जो से महिला कर्मचारी यह आदेश निक्कर आने वाला है। मूवी का क्रम आदेश नहीं दिया गया। आदेश को क्रमादेशित किया गया है। इस विशाल विशाल गतिरोध के लिए आगे बढ़ना है।

Back to top button
%d bloggers like this: