POLITICS

पंजाबः नवजोत सिद्धू ने केजरीवाल को बताया ‘गिरगिट’, बोले

नवजोत सिंह सिद्धू ने आप आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल पर बड़ा हमला बोला है। सिद्धू ने अरविंद केजरीवाल की तुलना ‘गिरगिट’ से की है।

पंजाब विधानसभा चुनाव को लेकर सियासी पारा चढ़ा हुआ है। सूबे में सत्ताधारी दल कांग्रेस दोबारा वापसी की कोशिशों में जुटी है जबकि उसे विपक्षी दलों से भी कड़ी टक्कर मिलती दिखाई दे रही है। इस बीच, पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने आप आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल पर बड़ा हमला बोला है। सिद्धू ने अरविंद केजरीवाल की तुलना ‘गिरगिट’ से की है।

‘न्यूज24’ को दिए एक इंटरव्यू के दौरान पंजाब कांग्रेस प्रमुख ने कहा, ”मैंने अरविंद केजरीवाल को एक बार चुनौती दी थी कि आइए और मेरे बगल बैठिए। फिर हम इस बात पर बहस करेंगे कि आपने (अरविंद केजरीवाल) दिल्ली में क्या किया है और आप पंजाब में क्या करने वाले हैं। आपका दिल्ली मॉडल है और मेरा पंजाब मॉडल। लेकिन वो ऐसे ‘गिरगिट’ की तरह बदले कि उनका दिल्ली मॉडल ही पंजाब मॉडल हो गया।”

सिद्धू ने कहा, ”लोकतंत्र में लोग फैसला करते हैं, ये बेवकूफी है कहना कि मैं ये कर दूंगा, मैं वो कर दूंगा। ये लोकतंत्र है जहां मतपेटी के गर्भ से पैदा होता है राजा, ये राजतंत्र नहीं है।” रमन कुमार ने जब सिद्धू से पूछा, ”आपका बयान आया था कि अरविंद केजरीवाल ने आपको डिप्टी सीएम का पोस्ट भी ऑफर किया था।” इस पर सिद्धू ने कहा, ”मैं केवल एक बार गया था, तब मैंने उनसे (केजरीवाल) पूछा था कि मेरा रोल क्या है? उन्होंने मुझे इलेक्शन तक लड़ाना ठीक नहीं समझा था।”

पंजाब कांग्रेस प्रमुख ने कहा, ”उन्होंने कहा था कि आप हमारे लिए 15 दिन कैंपेन कर देना, मैंने तब कहा था कि भाजपा के लिए मैं 15 दिन क्या हर रोज कैंपेन करता हूं। मैंने कहा कि 6 साल की राज्यसभा छोड़कर आया हूं, आपके पास मुझे देने के लिए कुछ है नहीं। भाजपा मुझे बादलों की और तस्करों की कैंपेन करने को बोलती थी और जब मैंने मना किया तो भाजपा ने कहा कि पंजाब से दूर रहूं।”

सिद्धू ने आगे कहा, ”उसके बाद भाजपा ने बादलों को चुना और मैंने पंजाब को। इसलिए मैं पंजाब के प्यार में उनके पास गया था। मैं चार बार का एमपी लेकिन एक आदमी मुझे इलेक्शन लड़ाकर राजी नहीं है। जब इन्होंने (अरविंद केजरीवाल) देखा कि कांग्रेस में जा रहा है सिद्धू, तब बोले कि डिप्टी सीएम बन जाओ। मैं डिप्टी सीएम किसका बन जाऊं? कौन होगा सीएम? लेकिन इसका कोई जवाब नहीं था। यहां बारात आकर खड़ी हो गई, घोड़ा घर के आगे खड़ा हो गया लेकिन दूल्हा (मुख्यमंत्री) है ही नहीं।”

Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
%d bloggers like this: