POLITICS

पंजाबः कांग्रेस ने सिद्धू के कतरे पर, सोनिया ने राजा वडिंग को बनाया नया PPCC चीफ, बाजवा होंगे CLP लीडर

बीते पंजाब विधानसभा चुनाव में नवजोत सिंह सिद्धू अमृतसर ईस्ट से कांग्रेस के प्रत्याशी थे। लेकिन वो अपनी सीट नहीं जीत सके। वहीं राज्य में कांग्रेस की करारी हार के बाद सिद्धू ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था।

पंजाब विधानसभा चुनाव 2022 में कांग्रेस को मिली करारी हार के बाद अब पार्टी आलाकमान ने बड़ा फैसला लिया है। बता दें कि पार्टी नेतृत्व ने अमरिंदर सिंह बराड़ (राजा वडिंग) को पंजाब प्रदेश कांग्रेस प्रमुख (पीपीसीसी) नियुक्त किया है। वहीं प्रताप सिंह बाजवा को पंजाब कांग्रेस विधायक दल का नेता(सीएलपी) नियुक्त किया है।

दरअसल पंजाब विधानसभा चुनाव के दौरान नवजोत सिद्धू कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष थे। लेकिन पार्टी इस चुनाव में सत्ता से दूर हो गई। जिसके बाद उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। उसके बाद से यह पद खाली था। बता दें कि बीते चुनाव में सिद्धू अपनी भी सीट हार गये। वो अमृतसर ईस्ट से कांग्रेस के प्रत्याशी थे।

फिलहाल अब पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी ने अमरिंदर सिंह बराड़ को नया प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त किया है। ऐसे में माना जा रहा है कि कांग्रेस आलाकमान ने सिद्धू के कद को कम किया है।

कांग्रेस ने एक प्रेस रिलीज में बताया है कि अमरिंदर सिंह बराड़ (राजा वडिंग) को पंजाब कांग्रेस प्रमुख, भारत भूषण आशु को पंजाब कांग्रेस कमेटी का वर्किंग प्रेसीडेंट, प्रताप सिंह बाजवा को पंजाब कांग्रेस विधायक दल का नेता, और राजकुमार छब्बेवाल को विधायक दल का उपनेता नियुक्त किया गया है।

कांग्रेस की तरफ से जारी प्रेस रिलीज

चुनाव नतीजों पर क्या बोले थे सिद्धू: पंजाब चुनाव के नतीजे आने के अगले दिन नवजोत सिंह सिद्धू ने न्यूज एजेंसी ANI से बात करते हुए कहा था, “सिद्धू के लिए गड्ढे खोदे वे उनसे 10 गुना ज्यादा गहरे गड्ढों में दफन हो गए। मुर्दे का बाल उखाड़ने से वजन हल्का न होगा, जो चला गया उसे भूल जाओ। उन्होंने कहा कि एक नई शुरुआत हुई है। लोगों को आस और विश्वास है आम आदमी पार्टी पर, इसलिए लोगों ने उन्हें जिताया है।”

कांग्रेस की हार पर उन्होंने कहा था, “अब वक्त सच के धरातल पर खड़े होकर आत्ममंथन करने का है। नए बीज बोने पड़ेंगे, आरंभ करना पड़ेगा, कहीं से फिर शुरूआत करनी पड़ेगी, चिंता नहीं चिंतन करना पड़ेगा, फैसला जनता की अदालत में हो गया है।”

पंजाब विधानसभा चुनाव के नतीजे: पंजाब में 2022 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस अपने उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन नहीं कर पाई। सत्ताधारी रही कांग्रेस को 117 विधानसभा सीटों में सिर्फ 18 सीटें मिल सकी। वहीं आम आदमी पार्टी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी और उसे कुल 92 सीटें हासिल हुई हैं। इसके अलावा शिरोमणि अकाली दल को 3, भाजपा को 2, बसपा को 1 और एक सीट निर्दलीय के खाते में गई है।

Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
%d bloggers like this: