POLITICS

नया स्मार्टफोन लेते वक्त इन बातों पर देंगे ध्यान, तो नहीं होगा मोटा नुकसान!

कोशिश करें कि आप जो फोन ले रहे हों उसमें एमोलेड स्क्रीन और फुल एचडी डिसप्ले हो। वह अधिक भारी न हो। स्मार्टफोन कम वजन का होना चाहिए।

स्मार्टफोन्स की दुनिया में हर महीने नए मोबाइल्स आते रहते हैं। कभी अधिक मेगापिक्सल वाला फोन लॉन्च होता है, तो कोई कंपनी फोल्ड होने वाला मोबाइल ले आती है। किसी को 6000 से 7000 हजार एमएएच की बैट्री वाले नए फोन लुभाते हैं, तो कोई ब्रांड के चक्कर में अपनी जेब ढीली कर बैठता है।

ऐसे में नया फोन लेने वालों को कभी-कबार इसे देखकर पछतावा होता है कि काश थोड़ा सा और रुक जाते और फलां फोन खरीद लेते…। अगर आप भी इस तरह की स्थिति का सामना करते हैं, तब एक मिनट ठहरें। एक नया स्मार्टफोन खरीदना बेहद सरल है और आप उसे लेने के बाद पछताएंगे भी नहीं। बशर्ते आपको यह पता हो कि आपकी असल जरूरत और बजट क्या है। आइए जानते हैं कि स्मार्टफोन किस तरह खरीदा जाना चाहिए:

बना लें चेक लिस्टः आप तय कर लें कि आपकी प्राथमिकता क्या है? मतलब आप फोन किस वजह से ले रहे हैं या फोन में वह कौन सी चीज है, जो आपके लिए सबसे अधिक मायने रखती है। मसलन कैमरा, बैट्री, डिसप्ले, वजन, रकम और परफॉर्मेंस आदि। बेहतर होगा कि इस बाबत आप एक लिखित में चेक लिस्ट बना लें, जिससे आपको अपना मनचाहा फोन चुनने में बहुत आसानी होगी।

परफॉर्मेंसः मौजूदा समय में मिड रेंज फोन्स (15 हजार रुपए से 22 हजार के बीच) में वे सारे फीचर्स मिल जाते हैं, जो एक यूजर को चाहिए होते हैं। इसमें बढ़िया परफॉर्मेंस भी शामिल है। हालांकि, इस बात पर ध्यान दें कि जो फोन आप ले रहे हों, उसमें प्रोसेसर (सिस्टम ऑन चिप: SoC) दौर के हिसाब से नया हो। वह छह महीने या साल भर से अधिक पुराना नहीं होना चाहिए।

RAM और स्टोरेज: 2021 में फोन ले ले रहे हैं, तब आपको कम से कम छह जीबी रैम व 128 जीबी स्टोरेज वाले फोन की ओर रुख करना चाहिए। ऐसा इसलिए, क्योंकि फोन यूज करने के कुछ वक्त (करीब साल भर) बाद फोन थोड़ा धीमा हो जाता है, जबकि फोटो, वीडियो और अन्य डॉक्यूमेंट्स सहेजने के लिए आपको जगह चाहिए होगी। इस लिहाज से आप 128 को चुनें। अगर बजट बहुत टाइट है, तब आप 64 जीबी को भी चुन सकते हैं, पर फिर आपको अपनी गैलरी मैनेज करने में काफी जद्दोजहद का सामना करना होगा।

बैट्री: बाजार में अब छह से सात हजार एमएएच बैट्री वाले फोन्स भी आ चुके हैं, जो कि आकर्षण का केंद्र बन रहे हैं। हालांकि, टेक एक्सपर्ट्स और जानकारों का मानना है कि जितनी अधिक बैट्री वाला होगा, वह उतना ही भारी भी होगा। 4500 से 5000 एमएएच के बीच की बैट्री वाले फोन को आप देख सकते हैं। वहीं, फास्ट चार्जिंग की बात करें तो 30 वॉट, 33 वॉट या 50 वॉट का फास्ट चार्जर ठीक कहा जा सकता है।

5G लेना सही है?: भारत में फिलहाल 5जी की टेस्टिंग के दौर के बीच ढेर सारी कंपनियां 5G फोन ले आई हैं, पर इस पर बहस छिड़ गई है कि क्या असल में इनकी जरूरत है। देखिए, देश में 5जी आने में अभी डेढ़ से दो साल का वक्त लग जाएगा, जबकि पीछे इतिहास उठाकर देखें तो मालूम चलता है कि भारत में 3जी और 4जी टेस्टिंग के कितने साल बाद आए। ऐसे में अगर आप फोन एक या दो साल चलाते हैं, तब आप 4जी फोन ले सकते हैं, जबकि लॉन्ग टर्म इसे रखने का विचार बना रहे हैं, तब आप 5जी स्मार्टफोन ले सकते हैं।

कैमरा कैसा हो?: कॉलिंग के अलावा फोन इन दिनों कैमरा के लिए भी खासा पॉपुलर हो गए हैं। ऐसे में हर किसी की चाहत होती है कि उसके फोन में अधिक मेगापिक्सल वाला कैमरा हो। मसलन 64 या 108 मेगापिक्सल। पर 48 मेगापिक्सल या 64 मेगापिक्सल वाला कैमरा (मेन सेंसर) भी मतलब भर की फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी के लिए काफी है। आपको इसके अलावा कैमरा ऐप के फीचर चेक करने चाहिए। मसलन सिनेमैटिक मोड, स्लो मोशन, टाइम वार्प, डुअल वीडियो आदि। साथ ही कैमरा किस तरह की कलर ट्यूनिंग करता है, यह चीज भी खासा मायने रखती है।

इन चीजों पर भी दें ध्यान: कोशिश करें कि आप जो फोन ले रहे हों उसमें एमोलेड स्क्रीन और फुल एचडी डिसप्ले हो। वह अधिक भारी न हो। स्मार्टफोन कम वजन का होना चाहिए। साथ ही वह हैंडी भी होना चाहिए, वरना आप उसे यूज करते वक्त कई बार असहज महसूस कर सकते हैं। उम्मीद है कि इन टिप्स को जानने के बाद आप भी अपने लिए सही फोन चुन पाएंगे और अनजाने में होने वाले पैसे के ‘गलत निवेश’/नुकसान से बच पाएंगे।

Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
%d bloggers like this: