POLITICS

दो चौपाई सुना दीजिए रामचरित मानस के

एक डिबेट के दौरान कांग्रेस और बीजेपी प्रवक्ताओं के बीच तीखी बहस हो गई। कांग्रेस प्रवक्ता ने बहस के दौरान भाजपा से सवाल किया कि वह चुनाव के दौरान विकास के मुद्दे पर बात क्यों नहीं करती।

कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ताओं के बीच सोमवार (11 अप्रैल) को उस वक्त तीखी बहस शुरू हो गई जब वे दोनों एक डिबेट में हिस्सा ले रहे थे। इस दौरान दोनों ने एक-दूसरे की पार्टी को लेकर खूब आरोप-प्रत्यारोप लगाए। इस टीवी डिबेट मे कांग्रेस की तरफ से रागिनी नायक और भाजपा की तरफ से के के के शर्मा शामिल हुए थे। कांग्रेस प्रवक्ता रागिनी नायक ने बीजेपी प्रवक्ता से कहा- रामचरित मानस की दो चौपाई सुना दीजिए तो इस पर के के शर्मा भड़क गए और दोनों के बीच तीखी बहस शुरू हो गई।

बहस के दौरान एक सवाल का जबाव देते हुए भाजपा प्रवक्ता के के शर्मा ने कहा कि आजकल कांग्रेस के प्रवक्ताओं को अपना धर्म, अपनी जाति, मैं हिंदू हूं मैं ब्राह्मण हूं ये बताने की जरूरत क्यों पड़ रही है। इस पर कांग्रेस प्रवक्ता भड़क गईं और बोलीं कि आप हिंदू धर्म के ठेकेदार हैं क्या? दो चौपाई सुना दीजिए रामचरित मानस की तो पता चल जाएगा कितने बड़े हिंदूवादी हैं।

इस पर भाजपा प्रवक्ता ने भी पलटवार किया और बोले कि ठेकेदार तो कोई नहीं है लेकिन मैं यह रहा हूं कि आपको अपनी जात बताने की जरूरत क्यों पड़ रही है। आपके नेता को अपना गोत्र बताने की जरूरत क्यों पड़ गई। दोनों के बीच बहस बढ़ती ही चली गई और दोनों नेता एक-दूसरे पर हमले करने लगे।

इस बीच रागिनी नायक ने कहा कि राम नवमी पर राम जी का जन्म होता है। सुनाईए कौन सा भजन गाया जाता है? तो बीजेपी प्रवक्ता ने कहा कि इन्हें तो यही नहीं पता कि राम लला का जन्म नहीं होता है वो प्रकट होते हैं। कौन सी हिंदू हैं आप।

चुनाव में क्यों नहीं होती विकास की बात

कांग्रेस प्रवक्ता ने सवाल करते हुए कहा कि चुनाव में विकास की बात क्यों नहीं होती है। चुनाव में आप 80-20 की बात करते हैं। आप कहते हैं वोट अगर भाजपा को नहीं मिलेगा तो पाकिस्तान में पटाखे फूटेंगे। और जब चुनाव खत्म हो जाते हैं तो आप विकास की बात करने लगते हैं।

उन्होंने भाजपा पर फियर साइकोसिस पैदा करने का आरोप लगाते हुए कहा, “हम सत्तर साल सत्ता में कैसे रहे अगर हम एक ही पक्ष की बात करते। अगर हम सिर्फ मुसलमानों की बात करते और हिंदुओं की बात नहीं करते तो इतने साल सत्ता में कैसे रहते? हिंदू खतरे में तब आता है जब मोदी जी की सरकार आती है। ये फियर साइकोसिस पैदा करके राज करते हैं। फसाद, विवाद और उन्माद की नींव पर इकोनॉमी नहीं बनती है मोदी जी, नहीं आते हैं अच्छे दिन।”

Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
%d bloggers like this: