POLITICS

तमिलनाडु में चुनाव रणनीतिकार भी असमंजस में: 'चुनावी गिफ्ट' के आइडिया की चोरी से सभी दल परेशान, सियासी दंगल में अन्नाद्रमुक और द्रमुक आमने-सामने

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

१ पहले दिन पहले लेखक: सुनील सिंह बघेल कांचीपुरम से

  • कॉपी

TN में सभी पक्षों का चुनाव प्रचार जमकर चल रहा है

में एमके स्टालिन की पहली चुनावी रैली में वादों की बरसात जारी है। इसी तरह चेन्नई मे अन्नाद्रमुक के वार रूम में अचानक ‘चोरी हो गई’ का शोर मच जाता है। आरोप डीएमके पर लगाया जा रहा है। कुछ ऐसे ही हालात चुनाव घोषणा से ठीक पहले द्रमुक के वार-रूम में भी नजर आ रहे थे। इस बार चोरी का आरोप एआईएडीएमके पर था।

आरोप-प्रत्यारोप के इस शोर-शराबे में एक आवाज कमल हसन के खेमे से भी आ रही है। इनका शुल्क द्रमुक और अन्नाद्रमुक दोनों पर है। वास्तव में यह मामला किसी कीमती सामान के चोरी का नहीं, बल्कि ‘चुनावी गिफ्ट’ आइडिया के चोरी हो जाने का है। जल्द ही इन दलों के रणनीतिकार (सुनील कनुगोलू और प्रशांत किशोर इस अंक पर, किसी दूसरे चुनावी गिफ्ट की घोषणा का मरहम लगाने बैठ जाते हैं।)

देखने में तो TN में सियासी दंगल मुख्यत दो पक्षों अन्नाद्रमुक और द्रमुक के बीच नजर आ रही है। लेकिन पर्दे के पीछे एक दंगल इन दोनों पार्टियों के रणनीतिकारों, सुनील कनुगोलू और डीकेके के प्रशांत हैं। किशोर के बीच भी खेला जा रहा है। सुनील और प्रशांत किशोर की जोड़ी ने ही 2014 में अच्छे दिन वाली ‘अबकी बार मोदी सरकार’ का रोड मैप तैयार किया था। उत्तराखंड, हिमाचल, गुजरात, कर्नाटक में भाजपा के प्रमुख रणनीतिकार बन गए। अब यह दोनों रणनीतिकार तमिलनाडु में एक दूसरे के आमने-सामने हैं।

दक्षिण में साठ के दशक से जारी है गिफ्ट कल्चर दरअसल TN की राजनीति मे गिफ्ट कल्चर 60 के दशक से ही रही है। कांग्रे सी मुख्यमंत्री कामराज ने 1960 में मुफ्त शिक्षा और मिड डे मील दिया तो अन्नादुरई ने 1967 में 1 रुपये में 4.5 किलो चावल दिया। एमजी रामचंद्रन ने 70 के दशक में मद्रास जल संकट के दौरान मुफ्त प्लास्टिक कैन गिफ्ट किए। 1996 के बाद अब यह चरम पर है। 2019 के लगभग दो लाख करोड़ के बजट में ही मुफ्त सहायता, सब्सिडी का खर्च 75 हजार करोड़ है।

Back to top button
%d bloggers like this: