POLITICS

टीका लगवाने वालों की यूनीक हेल्थ ID जनरेट होगी; हर डोज के बाद QR कोड बेस्ड सर्टिफिकेट मिलेगा

  • Hindi News
  • National
  • Coronavirus Vaccine | Coronavirus Vaccination India Latest News; Narendra Modi Govt COVID Vaccine Campaign With Ten Days

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली3 महीने पहले

लखनऊ में मंगलवार को वैक्सीनेशन के ड्राई रन के दौरान एक महिला को टीका लगाती हेल्थ वर्कर।

सरकार ने मंगलवार को वैक्सीनेशन पर अच्छी खबर दी। स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा कि वैक्सीनेशन के ड्राई रन के आधार पर जो डेटा हासिल हुआ है, उसके हिसाब से सरकार 10 दिन में वैक्सीनेशन शुरू करने की तैयारी में हैं। भूषण ने कहा कि हेल्थ वर्कर्स और फ्रंट लाइन वर्कर्स को रजिस्ट्रेशन की जरूरत नहीं पड़ेगी, क्योंकि ये हाई प्रियॉरिटी ग्रुप में हैं और इनका डेटा पहले से ही को-विन वैक्सीन डिलिवरी मैनेजमेंट सिस्टम पर मौजूद है।

भूषण ने बताया कि जब वैक्सीनेशन शुरू होगा तो टीका लगवाने वालों और लगाने वालों को गाइड करने के लिए 12 भाषाओं में SMS भेजे जाएंगे। टीका लगवाने वालों को हर डोज के बाद QR कोड बेस्ड सर्टिफिकेट दिया जाएगा और उनकी यूनीक हेल्थ ID भी डिजिटली जनरेट होगी।

DigiLocker में सेव कर सकेंगे सर्टिफिकेट

  • देश की आबादी को प्रायरिटी के आधार वैक्सीन लगाने की बात आएगी, उसके लिए रजिस्ट्रेशन और डेटा एडिटिंग का भी प्रोविजन किया गया है।
  • इसके लिए सिस्टम इलेक्ट्रिकली सेशन एलोकेशन करेगा। लाभार्थी को वैक्सीन लगा दी गई है, इसे भी डिजिटली कैप्चर किया जाएगा।
  • वैक्सीन लगवाने वालों को डिजिटली बताया जाएगा कि अगला टीका कब लगना है। एक यूनीक हेल्थ आईडी भी जारी की जाएगी।
  • को-विन में ऐसा भी प्रावधान है कि कोई भी व्यक्ति इससे यूनीक हेल्थ आईडी क्रिएट कर सकता है और उसे DigiLocker में सेव कर सकता है।
  • फर्जीवाड़ा रोकने के लिए आधार ऑथेंटिकेशन और वैक्सीन के साइड इफेक्ट की रिपोर्टिंग और ट्रैकिंग के लिए भी को-विन में सुविधा दी गई है।
  • DigiLocker को भी QR कोड बेस्ड सर्टिफिकेट स्टोर के लिए इस्‍तेमाल किया जा सकता है। इसके लिए 24×7 हेल्‍पलाइन होगी।
  • स्वास्थ्य मिनिस्ट्री ने बताया कि कोरोना वैक्सीन के एक्सपोर्ट पर किसी भी तरह का प्रतिबंध नहीं लगाया गया है।

वैक्सीन के स्टोरेज के लिए देश में 4 प्राइमरी स्टोर

  • भूषण ने बताया कि देश में 4 प्राइमरी वैक्सीन स्टोर बनाए गए हैं। ये करनाल, मुंबई, चेन्नई और कोलकाता में हैं। इसके अलावा देशभर में 37 वैक्सीन स्टोर हैं। यहीं पर वैक्सीन को स्टोर किया जाएगा और आगे इनका वितरण होगा।
  • स्वास्थ्य सचिव बोले, ‘जहां तक ब्रिटेन में मिले कोरोना के नए स्ट्रेन की बात है तो हमें अभी तक देश में इसके ज्यादा मामले बढ़ते नहीं दिखे हैं। ये एक राहतभरी बात है।’
  • उन्होंने कहा, ‘कोरोना के चलते देश के हेल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर पर जो बोझ था, वो भी कम हो रहा है। देश का पॉजिटिविटी रेट भी घटकर 5.87% पर आ गया है। अभी देश में जितने एक्टिव केस हैं, उनमें से 43.96% मरीज अस्पतालों में हैं। उनके अलावा 56.04% मरीज होम आइसोलेशन में हैं।’

कोवैक्सिन और कोवीशील्ड को मिली इमरजेंसी यूज की मंजूरी

3 जनवरी को ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने भारत बायोटेक की स्वदेशी कोवैक्सिन और सीरम इंस्टीट्यूट की कोवीशील्ड के इमरजेंसी यूज के लिए मंजूरी दी थी। वहीं, जायडस कैडिला हेल्थकेयर की जायकोव-डी को फेज-3 ट्रायल का अप्रूवल मिला है।

WHO ने कहा था- कोरोना के खिलाफ लड़ाई मजबूत होगी

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने वैक्सीन की मंजूरी के फैसले का स्वागत किया था। WHO साउथ-ईस्ट एशिया की रीजनल डायरेक्टर डॉ. पूनम क्षेत्रपाल सिंह ने कहा था कि भारत के इस फैसले से साउथ-ईस्ट एशिया में महामारी के खिलाफ लड़ाई मजबूत होगी।

Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
%d bloggers like this: