POLITICS

जानिए कौन हैं जंतर-मंतर पर मुस्लिम-विरोधी नारे लगाने के आरोपी, कहा था

  1. Hindi News
  2. राज्य
  3. जानिए कौन हैं जंतर-मंतर पर मुस्लिम-विरोधी नारे लगाने के आरोपी, कहा था- जो हम कर रहे हैं, हजार बार करेंगे

दिल्ली पुलिस ने आरोपियों को दिल्ली-राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के विभिन्न इलाकों से हिरासत में लिया है, इनमें एक नाम भाजपा नेता और सुप्रीम कोर्ट के वकील अश्विनी उपाध्याय का भी है।

जनसत्ता ऑनलाइन
Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र

नई दिल्ली | Updated: August 11, 2021 11:58 AM

जंतर-मंतर पर मंगलवार को मुस्लिम विरोधी नारे लगाने वालों के खिलाफ भीड़ ने जमकर प्रदर्शन किए। (एक्सप्रेस फोटो- अभिनव साहा)

दिल्ली की एक अदालत ने जंतर-मंतर पर प्रदर्शन के दौरान कथित रूप से मुस्लिम विरोधी नारे लगाने के मामले में गिरफ्तार किए गए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के पूर्व प्रवक्ता अश्विनी उपाध्याय समेत छह लोगों को मंगलवार को दो दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। इन सभी की अर्जियों को आज (बुधवार) को अदालत के समक्ष रखा जाएगा। बताया जाता है कि इन सभी छह आरोपियों का एक राजनीतिक इतिहास रहा है, जिस पर दिल्ली पुलिस की ओर से जांच जारी है।

बता दें कि जिन आरोपियों को हिरासत में लिया गया है उनमें सुप्रीम कोर्ट के वकील और भाजपा के पूर्व प्रवक्ता अश्विनी उपाध्याय, सेव इंडिया के अध्यक्ष प्रीत सिंह, हिंदू फोर्स के अध्यक्ष दीपक सिंह, गौसेवक दीपक कुमार, सुदर्शन वाहिनी के प्रमुख विनोद शर्मा और विनीत बाजपेयी शामिल हैं। पुलिस का कहना है कि वह इस मामले में दो और लोगों की तलाश कर रही है। इनमें एक नाम पिंकी भैया का है, जिसने जनवरी 2020 में हुई जेएनयू हिंसा की जिम्मेदारी ली थी। इसके अलावा एक उत्तम मलिक की भी तलाश की जा रही है, जिसे डासना देवी मंदिर के पुजारी का अनुयायी बताया जाता है।

इन सभी आरोपियों की कार्यशैली को करीब से देखने के बाद सामने आता है कि द्वारका में हज हाउस के बाहर प्रस्तावित प्रदर्शन हो या पटपड़गंज में मजार के पास। सभी लोग किसी न किसी तरह मिलकर काम करते पाए गए हैं। जो छह लोग गिरफ्तार हुए हैं, उनमें दीपक सिंह हिंदू और आजाद विनोद शर्मा न सिर्फ सोशल मीडिया पर समन्वित अभियान चलाकर लोगों को इस तरह की भीड़ में जुटाने का काम करते हैं, बल्कि इन कार्यक्रमों को अपने यूट्यूब चैनल ‘मिशन साइबरसिपाही’ पर भी प्रसारित करते हैं। यूट्यूब पर अपने चैनल को इन्होंने एक जैसी राष्ट्रवादी सोच रखने वालों का प्लेटफॉर्म करार दिया है और इसी के जरिए अपने ‘मिशन’ के लिए फंड जुटाने का लक्ष्य भी रखा है। फिलहाल इस यूट्यूब चैनल पर 1,75,000 से ज्यादा सब्सक्राइबर्स हैं।

सोमवार शाम को वकील अश्विनी उपाध्याय जिन्होंने औपनिवेशक काल के कानूनों के विरोध में जंतर-मंतर में रैली रखी थी, उन्होंने इसी चैनल पर लाइव आकर कार्यक्रम में लगी मुस्लिम विरोधी नारेबाजी से खुद को अलग कर लिया। जबकि हिरासत में लिए जाने से कुछ समय पहले ही दीपक सिंह और विनोद शर्मा ने यूट्यूब पर लाइव थे। इसमें एक समय तो शर्मा, जिनके फेसबुक पर 14 हजार से ज्यादा फॉलोवर्स हैं ने उन मीडिया रिपोर्ट्स का जिक्र किया, जिसमें उनके गिरफ्तार होने की बात कही जा रही थी। इस पर सिंह कहते हैं- “हां हम गए थे जंतर-मंतर…जो हम कर रहे हैं, एक हजार बार ज्यादा करेंगे।”

बता दें कि बाद में दिल्ली पुलिस ने आरोपियों को दिल्ली-राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के विभिन्न इलाकों से हिरासत में लिया। जंतर-मंतर पर विरोध प्रदर्शन के दौरान मुस्लिम विरोधी नारे लगाने संबंधी एक वीडियो के सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद दिल्ली पुलिस ने सोमवार को इस संबंध में मामला दर्ज किया।

‘भारत जोड़ो आंदोलन’ की ओर से रविवार को जंतर-मंतर पर आयोजित प्रदर्शन में सैकड़ों लोग शामिल हुए थे। ‘भारत जोड़ो आंदोलन’ की प्रवक्ता शिप्रा श्रीवास्तव ने कहा था कि प्रदर्शन उपाध्याय के नेतृत्व में हुआ था। हालांकि उन्होंने मुस्लिम विरोधी नारे लगाने वालों से किसी प्रकार के संबंध से इनकार किया है। उपाध्याय ने भी मुस्लिम विरोधी नारेबाजी की घटना में शामिल होने से इनकार किया।

Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
%d bloggers like this: